24 JULWEDNESDAY2024 11:43:56 AM
Nari

गंगा दशहरा पर करें इन पवित्र नदियों के दर्शन, यहां स्नान करने से नष्ट हो जाएंगे पाप

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 15 Jun, 2024 07:15 PM
गंगा दशहरा पर करें इन पवित्र नदियों के दर्शन, यहां स्नान करने से नष्ट हो जाएंगे पाप

गंगा दशहरा का एक प्रमुख त्योहार है जो ज्येष्ठ शुक्ल दशमी को मनाया जाता है। इसी दिन मां गंगा का अवतरण पृथ्वी पर हुआ था।  गंगा दशहरा पर मां गंगे की पूजा करने और गंगा स्नान करने का महत्व है। कहा जाता है  कि इस दिन गंगा मे स्नान करने से सभी पाप मिट जाते हैं और मोक्ष की प्राप्ति होती है। अगर आप भी इस खास मौके माता गंगा के दर्शन करना चाहते हैं ता इन जगहों पर जा सकते हैं। चलिए जानते हैं इनके बारे में विस्तार से।

PunjabKesari

हरिद्वार

गंगा दशहरा के दिन आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ हरिद्वार के पावन घाटों पर स्नान कर अपने कई जन्मों के पापों को काट सकते हैं।हरिद्वार भगवान विष्णु का द्वार है। यहां पवित्र गंगा बहती है जिसमें स्नान के लिए देश के कोने-कोने से श्रद्धालु आते हैं और हर की पौड़ी में स्नान कर अपने पापों को धुलते हैं। कहा जाता है कि समुद्र मंथन के दौरान यहां पर अमृत की बूंदें गिरी थी।

PunjabKesari

ऋषिकेश 

ऋषिकेश में भी गंगा दशहरा के दिन अलग ही नजारा देखने को मिलता है। कहा जाता है कि कि इस स्‍थान पर  तीन प्रमुख नदियों गंगा, यमुना और सरस्‍वती का मिलन यानी संगम होता है। इसी जगह से गंगा नदी दायीं ओर मुड़ जाती है। यहां हर शाम मां गंगा की विशेष पूजा-आरती का आयोजन होता है।

PunjabKesari
इलाहाबाद

संगम नगरी यानी कि गंगा, यमुना और अदृश्‍य सरस्‍वती का मिलन होने वाली नगरी इलाहाबाद में गंगा दशहरा बहुत ही खास होता है। यहां हर साल श्रद्धालुओं की काफी भीड़ देखने को मिलती है।

PunjabKesari

वाराणसी 

यूपी में बसी शिव नगरी यानी कि वाराणसी में हर साल गंगा दशहरा के मौके पर लाखों की संख्‍या श्रद्धालु आते हैं और मां गंगा में स्‍नान कर विशेष पूजा-अर्चना करते हैं। वाराणसी में 87 घाट हैं, जिनका अपना-अपना महत्‍व है। विद्वान कहते हैं कि काशी में गंगा स्‍नान का विशेष महत्‍व है।

PunjabKesari

गढ़मुक्‍तेश्‍वर

गंगा घाट पर  बसे गढ़मुक्‍तेश्‍वर में मां गंगा का मंदिर भी बना है। इसके अलावा गंगा दशहरा के मौके पर यहां विशाल स्‍तर पर मेले का आयोजन किया जाता है। इसमें शामिल होने के लिए श्रद्धालु दूर-दूर से पहुंचते हैं और मां गंगा में डुबकी लगाकर मोक्ष प्राप्ति का आर्शीवाद मांगते हैं।
 

 

Related News