03 OCTMONDAY2022 1:38:49 AM
Nari

बच्चे भी हो सकते है हाई ब्लड प्रेशर के शिकार, लक्षण दिखने पर Parents न करें इग्नोर

  • Edited By palak,
  • Updated: 19 Sep, 2022 02:06 PM
बच्चे भी हो सकते है हाई ब्लड प्रेशर के शिकार, लक्षण दिखने पर Parents न करें इग्नोर

खराब लाइफस्टाइल और गलत खानपान के कारण ब्लड प्रेशर हाई होना भी एक गंभीर समस्या है। पहले हाई बीपी की समस्या सिर्फ बच्चों में दिखती थी, लेकिन बदलते खान-पान के कारण यह बच्चों को भी होने लगी है। शुरुआत में बच्चों में हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण बिल्कुल न के बराबर होते हैं। इसी कारण पैरेंट्स बच्चों में बढ़ रहे बीपी का कारण नहीं जान पाते। तो चलिए आपको बताते हैं बीपी हाई होने पर बच्चों में क्या-क्या लक्षण दिख सकते हैं...

PunjabKesari

शोध में 2 से 4 प्रतिशत बच्चे हुए बीमारी का शिकार 

बच्चों में भी यह समस्या बहुत ही आम हो गई है। एक अध्ययन में प्रकाशित हुई रिपोर्ट के अनुसार, बच्चों में हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण बिल्कुल हल्के नजर आते हैं। लेकिन समस्या बढ़ने पर लक्षण गंभीर हो सकते हैं। शोद में यह भी साबित हुआ है कि 2-4 प्रतिशत बच्चे इस बीमारी का शिकार होते हैं। तो चलिए आपको बताते हैं कुछ शुरुआती लक्षण

. सांस लेने में समस्या होना 

PunjabKesari
. नाक ने खून निकलना 
. लगाातार सिरदर्द और चक्कर आते रहना 
. सीने में दर्द और जकड़न जैसी समस्या होना 
. जी मिचलना 

PunjabKesari
. विकास रुक जाना और वजन कम होना 
. व्यवहार में चिड़चिड़ापन आना 

क्यों होता है बच्चों का बीपी हाई? 

एक्सपर्ट्स के अनुसार, बच्चों में हाई ब्लड प्रेशर की समस्या जन्म से ही हो सकती है। इसके अलावा जेनेटिक कारणों से भी बच्चों को यह समस्या हो सकती है। हार्मोनल बदलाव, नर्वस सिस्टम से जुड़ी परेशानियों, दिल संबंधित बीमारियों और किडनी की समस्याओं के कारण भी बच्चों का ब्लड प्रेशर हाई हो सकता है। इसके अलावा खराब लाइफस्टाइल और असंतुलित खाने के कारण भी बच्चों में यह समस्या हो सकती है।  

पैरेंट्स ऐसे करें बचाव 

बच्चों को ब्लड प्रेशर हाई होने पर पैरेंट्स को उनकी डाइट का खास ध्यान रखना चाहिए। खराब डाइट और लाइफस्टाइल से उन्हें ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती है। फास्ट फूड्स, जंक फूड्स और ज्यादा तला भूना भोजन बच्चे को न खिलाएं। अगर माता-पिता को बीपी की समस्या है तो गर्भावस्था में बच्चा भी इसका शिकार हो सकता है। इसलिए गर्भावस्था में एकबार डॉक्टर की सलाह जरुर ले लें। 

PunjabKesari
 

Related News