19 JULFRIDAY2024 6:15:48 PM
Nari

बादल पे पांव है! 18 साल की Sakshi Kochhar बनी सबसे कम उम्र की कमर्शियल पायलट

  • Edited By Charanjeet Kaur,
  • Updated: 16 Sep, 2023 12:05 PM
बादल पे पांव है! 18 साल की Sakshi Kochhar  बनी सबसे कम उम्र की कमर्शियल पायलट

शाहरुख खान ने अपनी फिल्न ओम शांति ओम में कहा था कि किसी चीज को अगर दिल से चाहो तो पूरी कयानत तुम्हें उससे मिलाने में लग जाती है। इस बात को सच कर दिखाया हिमाचल प्रदेश की साक्षी कोचर ने, जिन्होंने बचपन से ही पायलट बनने का सपना देखा था। साक्षी भारत की सबसे कम उम्र की पायलट बन गईं है। 30 मई 2005 को जन्मीं महज 18 साल की हैं, इससे पहले ये खिताब 19 साल की मैत्री पटेल के नाम था। आइए नजर डालते हैं साक्षी की सफलता की कहानी की तरफ...

PunjabKesari

पायलट बनने के लिए डांस से भी बनाई दूरी

साक्षी  बचपन से ही पायलट बनना चाहती हैं। वहीं उन्हें डांस भी बहुत पसंद था। उन्होंने डांस प्रतियोगिता में भाग लेकर कई सारे अवॉर्डस भी जीते, लेकिन बाद में पायलट बनने की चाह में डांस से भी दूर बना ली। व्यवसायिक परिवार में जन्मी साक्षी ने हिमाचल प्रदेश के परवाणू से पढ़ाई की। इसके बाद गवर्नमेंट मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल में साक्षी ने 12 वीं की पढ़ाई फिजिक्स और गणित विषयों के साथ कंप्लीट की थी।

PunjabKesari

ट्रेनिंग की पूरी

साक्षी अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए बहुत मेहनत करती थीं और इसके लिए वो मुंबई में स्काईलाइन एविएशन क्लब में अपने कमर्शियल पायलट लाइसेंस ट्रेनिंग के लिए शामिल हुईं। 4 महीने के इनिशियल थ्योरी ट्रेनिंग को पूरा करने के बाद, एविएशन क्लब मे उन्हें संयुक्त राज्य अमेरिका में उनके नामित प्रशिक्षण केंद्र के साथ उन्नत उड़ान प्रशिक्षण के लिए डिप्यूट किया गया। आपको बता दें कि पायलट बनने के प्रशिक्षण के लिए साक्षी ने 8500 मील दूर संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा भी की और साढ़े सात महीने के भीतर अपना लक्ष्य हासिल कर लिया। साक्षी ने अपने 18 वें जन्मदिन पर कमर्शियल पायलट लाइसेंस प्राप्त किया और भारत की सबसे कम उम्र की कर्मिशयल पायलट बन गईं।

PunjabKesari

साक्षी खुद को बहुत भाग्यशाली मानती हैं। वो कहती हैं कि उनका लक्ष्य हासिल करने में उनके परिवारवालों ने उन्हें बड़ा प्रोत्साहित किया। उनके परिवार वालों ने 70 लाख रुपये पढ़ाई पर खर्च किए ताकि वो अपने पायलट बनने का सपना पूरा कर सके। साक्षी की कहानी से हमें ये ही प्रेरणा मिलती है कि हमें सपने देखना कभी छोड़ना नहीं चाहिए, बस दृढ़ संकल्प के साथ काम करो और दुनिया तुम्हारे कदमों में होगी।


 

Related News