19 JUNWEDNESDAY2024 11:58:00 PM
Nari

इस 'देहाती मैडम' से पढ़ते हैं लाखों स्टूडेंट, 12वीं पास होकर भी बोलती है फर्राटेदार इंग्लिश

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 08 Jun, 2024 06:37 PM
इस 'देहाती मैडम' से पढ़ते हैं लाखों स्टूडेंट, 12वीं पास होकर भी बोलती है फर्राटेदार इंग्लिश

भारत में जो लोग अच्छे से अंग्रेजी नहीं बाेल पाते उनमें आत्मविश्वास की कमी नजर आती है। आजकल हर क्षेत्र में फराटे दार अंग्रेजी बोलने का चलन है, आप सक्सेसफुल भी तभी मानें जाते हैं जब आपकी इंग्लिश अच्छी हो। शहरों में तो लगभग सभी लोग अंग्रेजी बोलते ही हैं अब तो गांव भी इसमें पीछे नहीं रहे हैं। इसका सबसे बड़ा उदाहरण है 'देहाती मैडम' जो अपनी शानदार इंग्लिश के चलते दुनिया भर में छाई हुई है।

PunjabKesari
उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाके से आने वाली यशोदा लोधी ने आज अपने दम पर पूरी दुनिया में नाम कमा लिया है। कमाई के मामले में तो उन्होंने अच्छे- अच्छे बिजनेसमैन को भी पीछे छोड़ दिया है। यशोदा लोधी को लोग प्यार से 'देहाती मैडम' बुलाते हैं। वह यूट्यूब चैनल के जरिए लाखों लोगों को अंग्रेजी पढ़ाती हैं। हालांकि उनको देखकर कोई मान ही नहीं सकता कि वह इतने टैलेंटेड है। 

PunjabKesari
 साड़ी में लिपटी, माथे पर बिंदी लगाए हुए  यशोदा लोधी को अंग्रेजी बोलता देख हर कोई हैरान रह जाता है। अंग्रेजी बोलने और सिखाने का उनका देहाती अंदाज  लोगों को बेहद पसंद आता है, तभी तो उनके चैनल के लाखाें फॉलोवर्स हैं। आपको यह जानकर हेरानी होगी कि इस इंग्लिश की टिचर ने सिर्फ 12वीं कक्षा तक की पढ़ाई की है।  हिंदी-माध्यम स्कूल से पढ़ने के बाद उन्होंने बच्चों को पढ़ाना शुरू किया। इसी दौरान उनकी मुलाकात अपने जीवनसाथी से हुई।

PunjabKesari
पारिवारिक आपत्तियों के बावजूद यशोदा और उनके पति ने स्वतंत्र रूप से आगे बढ़ने का फैसला किया।नवंबर 2021 में अपने पहले स्मार्टफोन से यशोदा ने अपने सफर की शुरुआत की थी। संदीप माहेश्वरी जैसे स्‍पीकर्स से प्रेरित होकर उन्होंने कुछ बड़ा करने की ठानी। धीरे-धीरे उन्होंने अपना खुद का YouTube चैनल शुरू किया जो अंग्रेजी भाषा सीखने में गाइडेंस देता है। कभी सिर्फ 300 रुपये में गुजारा करने वाली यशोदा आज महीने में 70,000 से 80,000 रुपये कमा लेती हैं। 

PunjabKesari
देहाती मैडम अपने Youtube चैलन पर आसानी से समझ में आने वाली अंग्रेजी ट्यूशन पढ़ाती हैं। वे चाहती हैं कि उनकी तरह पिछड़े परिवेश से  आने वाले लोग बिना किसी परेशानी के अंग्रेजी सीख लें। वे अपने उच्चारण पर काम भी कर रही हैं और दूसरों को भी ठीक करने की सलाह देती है। उनकी कहानी लोगों को प्रेरित करती है.
 

Related News