31 OCTSATURDAY2020 10:52:03 AM
Nari

सावधान! 6 फीट की दूरी नहीं काफी, 18 फीट तक फैल सकता कोरोना वायरस

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 07 Oct, 2020 10:48 AM
सावधान! 6 फीट की दूरी नहीं काफी, 18 फीट तक फैल सकता कोरोना वायरस

कोरोना वायरस का कहर लगातार जारी है। इस वायरस से बचने के लिए मास्क पहनना, बार-बार हाथ धोने के साथ लोगों से सोशल डिस्टेसिंग यानि 6 फीट की दूरी रखने की हिदायत दी जा रही है। मगर, हाल ही में एक रिसर्च ने खुलासा किया है कि सोशल डिस्टेसिंग भी कोरोना से बचाव नहीं करती। व्यक्ति से दूरी बनाए रखने पर भी कोरोना हो सकता है।

6 फीट की दूरी नहीं काफी

दरअसल, हाल ही में अमेरिका की सबसे बड़ी जन स्वास्थ्य एजेंसी की रिसर्च ने खुलाया किया है कि कोरोना के ड्राप्लेट्स 6 फीट की दूरी तक वायरस फैला सकते हैं। शोध के मुताबिक, कोरोना के ड्राप्लेट्स इतने हल्के होते हैं कि वो हवा के जरिए दूर तक जा सकते हैं। वहीं, CDC (रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र) ने भी लोगों के लिए 6 फीट का दूरी को अपार्यप्त बताया।

PunjabKesari

18 फीट तक फैल सकता कोरोना वायरस

पिछले शोध के आधार पर बताया गया था कि छींकने, खांसने से कोरोना की करीब 40,000 ड्राप्लेट्स निकल सकती हैं, जो 6 फीट की दूरी तक नहीं जाती। मगर नई रिसर्च के मुताबकि, हवा के जरिए वायरस 18 से 20 फीट की दूरी तक फैल सकता है। ऐसे में अगर कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति आपके 6 फीट (19.7 फुट) के दायरे में है तो उसके खांसी और छींक से गिरे डॉप्लेट्स आपको संक्रमित कर सकते हैं।

इन लोंगों को अधिक खतरा

इन ड्रॉपलेट्स की गति तय कर पाना शोधकर्ताओं के लिए भी मुश्किल रहा क्योंकि यह हवा के जरिए फैलते हैं। हालांकि शोधकर्ताओं का कहना है कि यह क्लाउड लंबे और कम ऊंचाई वाले लोगों पर अलग-अलग असर डालते हैं। कम हाइट वाले लोग इस तरह ज्यादा प्रभावित होते हैं क्योंकि हल्के होने के कारण ड्राप्लेट्स ज्यादा उंचे नहीं उठते।

PunjabKesari

ऐसी जगहें हैं असुरक्षित

ऐसी जगह जहां हवा का प्रवाह खराब हो, कोरोना फैलने का खतरा अधिक रहता है। इसके अलावा बंद जगहों पर भी संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि बड़ी बूंदें गुरुत्वाकर्षण के कारण किसी चीज पर जम जाती हैं। वहीं, छोटी बूंदे तेजी से वाष्पित होकर एरोसोल कण बनाती हैं, जो कई घंटों तक हवा के जरिए वायरस फैला सकते हैं। इन ड्राप्लेट्स पर मौसम का प्रभाव भी एक जैसा नहीं होता। एरोसोल कण कम और ज्यादा तापमान में बन सकते हैं, जो फेफड़ों में जाकर उन्हें नुकसान पहुंचा सकते हैं।

क्या करें?

ऐसे में कोरोना से बचने के लिए एक मात्र उपाय मास्क पहनना है। इसके साथ ही जब भी बाहर से घर आए तो पहले हाथ धोएं और स्नान करें। अपने जूते-चप्पल व गंदे कपड़ों को घर से बाहर ही रखें। इसके अलावा जितनी हो सके हैल्दी डाइट लें, ताकि इम्यूनिटी बनी रहे।

PunjabKesari

याद रखें... सावधानी में ही आपकी सुरक्षा है इसलिए सतर्क रहें स्वस्थ रहें।

Related News