02 JULTHURSDAY2020 4:50:17 PM
Nari

शकरकंदी रखे पेट को ठंडा, नहीं होने देती गैस व अपच की समस्या

  • Edited By Harpreet,
  • Updated: 02 Jun, 2020 09:47 AM
शकरकंदी रखे पेट को ठंडा, नहीं होने देती गैस व अपच की समस्या

शकरकंदी का सेवन ज्यादातर लोग चाट के रूप में करना पसंद करते हैं। संडे को घूमने निकले या फिर ऑफिस से घर लौटते वक्त दोस्तों संग कुछ चटपटा खाने का दिल किया तो शकरकंदी की चाट खा ली जाए। शकरकंदी खाना अन्य चटपटी चीजों के सेवन से कहीं अच्छा है, क्योंकि इसमें बहुत सारा आयरन पाया जाता है, जो शरीर को शक्ति और तंदरुस्ती प्रदान करता है। आइए जानते हैं इसके और कई गुणों के बारे में विस्तार से..

पेट को रखे ठंडा

कुछ लोगों को भोजन के बाद सीने में जलन या फिर पेट में भारीपन महसूस होता है। शकरकंदी का सेवन करने से पेट को ठंडक पहुंचती है, जिससे खाना खाने के बाद आपको पेट में जलन, गैस व भारीपन की परेशानी नहीं आती।

nari

वजन नहीं बढ़ने देती शकरकंदी

शकरकंदी में स्टार्च मौजूद होती है, मगर इस स्टार्च की शरीर को जरूरत होती है। हमारी बॉडी में गुड और बैड दोनों फैट होती है, बैड फैट यानि तली-भुनी चीजों से शरीर में जमा हुई चर्बी और गुड फैट का मतलब जिससे हमारे शरीर को एनर्जी और ताकत मिलती है। ऐसे में जो लोग सोचते हैं शकरकंदी खाने से वजन बढ़ता है, उनकी यह धारणा सही नहीं है। बल्कि डाइटिंग करने वाले लोगों के लिए शकरकंदी लंच का एक बेहतरीन स्त्रोत है, इससे आपका पेट काफी देर तक भरा रहता है।

फेफड़ों के लिए फायदेमंद 

प्रदूषण भरे वातावरण में रहने का सबसे ज्यादा बुरा प्रभाव आपके फेफड़ों पर पड़ता है। शकरकंदी खाने से आपकी श्वास प्रणाली में जमा गंदगी को साफ होने में मदद मिलती है। जिससे फेफड़ों तक ऑक्सीजन जल्द पहुंचती है और आपक् लंग्स यानि फेफड़े लंबे समय तक स्वस्थ रहते हैं।

आंखों के लिए फायदेमंद

शकरकंदी में बीटा कैरोटीन और विटामिन ए भरपूर मात्र  में पाए जाते हैं। यह दोनों जरूरी तत्व आंखों की तेज रौशनी बरकरार रखने के लिए जरूरी माने जाते हैं।

nari

दिल के लिए फायदेमंद

दिल से जुड़ी बीमारियों से पीड़ित लोगों को बहुत सोच समझकर चीजें खानी पड़ती हैं। शकरकंदी में कार्डियोप्रोटेक्टिव नामक तत्व पाया जाता है, जो दिल के मरीजों को कई तरह की परेशानियों से बचाकर रखता है। हार्ट पेशेंट्स चाहें तो हफ्ते में 3 से 4 बार भी शकरकंदी का सेवन कर सकते हैं, मगर जितना हो सके कम मा  में ही सेवन करें।

Related News