20 MAYMONDAY2019 4:09:48 AM
Nari

पद्म भूषण और पद्मश्री से सम्मानित हुई ये 5 औरतें हर किसी के लिए है प्रेरणा

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 16 Apr, 2019 05:46 PM
पद्म भूषण और पद्मश्री से सम्मानित हुई ये 5 औरतें हर किसी के लिए है प्रेरणा

आजकल के समय में महिलाए हर क्षेत्र में अपने हुनर का सिक्का जमा चुकी हैं। कई महिलाओं ने तो अपने काम के दम पर देश ही नहीं दुनिया भर में नाम कमाया है। ऐसे में भारत के राष्ट्रपति ने ऐसी 5 महिलाओं को पुरस्कृत करने का फैसला किया जिन्होंने देश के विकास के योगदान में अहम रोल अदा किया है। पुरस्कार पाने वालों में कलाकार, खिलाड़ी, साहित्य जगत के साथ अन्य क्षेत्रों के लोग भी शामिल रहें। हम उन महिलाओं की बात करने जा रहे हैं जिन्हें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पद्म भूषण और पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया। 

 

गायिका तीजन बाई

प्रसिद्ध पंडवानी गायिका तीजन बाई को पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया। तीजन बाई छत्तीसगढ़ राज्य के पंडवानी लोक गीत-नाट्य की पहली महिला कलाकार हैं। देश-विदेश में अपनी कला का प्रदर्शन करने वाली तीजनबाई को बिलासपुर विश्वविद्यालय द्वारा डी लिट की मानद उपाधि से सम्मानित भी किया जा चुका है। 

PunjabKesari

कमला पुजारी

कमला पुजारी ओडिशा के कोरापुट जिले से जुड़ी है। वह हमेशा से पारंपरिक धान के बीज के लिए जानी गई हैं। कमला के प्रयासों को राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिली जब राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया। 

 

बछेंद्री पाल

महिला पर्वतारोही बछेंद्री पाल को पद्म भूषण अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है। वह माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली पहली भारतीय महिला हैं और दुनिया की 5वीं महिला पर्वतारोही हैं। वर्तमान में वे इस्पात कंपनी टाटा स्टील में कार्यरत हैं।

PunjabKesari

 

प्रशांति सिंह

यूपी की रहने वाली प्रशांति सिंह महज 13 साल की उम्र में बास्केटबॉल में बनारस की जोनल टीम से चुनी गई थी। प्रशांति के साथ बहन दिव्या सिंह, आकांक्षा सिंह और प्रतिमा सिंह बास्केटबॉल में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं। वहीं इनकी सबसे बड़ी बहन प्रियंका सिंह यूपी की बास्केटबॉल टीम की सदस्य रह चुकी हैं।

 

बोम्बायला देवी लैशराम

भारतीय तीरंदाज महिला खिलाड़ी बोम्बायला देवी लैशराम को पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। साल 2007 में बोम्बायला देवी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में खेली थीं और 2016 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में इन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व किया था। बोम्बायला मूलरूप से मणिपुर की रहने वाली हैं और इन्होंने अपने करियर की शुरुआत 1997 में की थी।

PunjabKesari

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News

From The Web

ad