Twitter
You are hereNari

सेहतमंद और फिट रहना है तो करें 'फॉरेस्ट बाथ'

सेहतमंद और फिट रहना है तो करें 'फॉरेस्ट बाथ'
Views:- Tuesday, May 22, 2018-1:09 PM

फॉरेस्ट बाथ या दूसरे शब्दों में कहें तो जंगल स्नान एक नया वैलनैस ट्रैंड है, जो सेहत के लिए बेहद फायदेमंद है। बेशक इसके बारे में कम ही लोगों ने सुना होगा लेकिन बिना दवा और व्यायाम के फिट रहने के लिए जपानी लो इसका लाथ कई दशकों से ले रहे हैं। जिंदगी को तनावमुक्त, सेहतमंद और खुशनुमा बनाने के लिए जपानियों ने इस प्राकृतिक विधि पर सालों रिसर्च की है, जिसकी मदद से भारी-भरकम व्यायाम और वर्कआऊट या जॉगिंग के बिना भी लोगों की जिंदगी को स्वस्थ बनाया जाता है।
 

क्या है फॉरेस्ट बॉथ
इसका नाम सुनकर हैरान न हों। इसमें किसी जंगल में स्नान नहीं करना पड़ता बल्कि इसमें आपको कुछ देर जंगल के शांत और हरे-भरे वातावरण में कुछ देर घूमना पड़ता है। हाल ही में अमेरिका से लेकर यूरोप के कई जगहों पर जंगल बाथ काफी फेमस हो गया है। इतना ही नहीं, वहां फॉरेस्ट बाथ क्लब और ट्रेनिंग सेंटर भी खुल गए है लेकिन सबसे पहले जपानी वैज्ञानिको ने फॉरेस्ट बाथ का कान्सैप्ट सामने रखा था।

PunjabKesari

सेहत को लेकर जापान ने 1982 में नैशनल हैल्थ प्रोग्राम में शिनरिन योकू (जापानी में अर्थ है पेड़ों के आस-पास समय बिताना) को लांच किया था। इसी दौरान जापानी वैज्ञानिकों ने फॉरेस्ट बाथ का शारीरिक और मानसिक प्रभावों पर अध्ययन किया। इसके दौरान उन्हें पता चला की इम्यून सिस्टम, रक्तचाप और तनाव पर इसका अच्छा असर होता है। इसका सबसे खास बात यह है कि जंगल स्नान के बाद यह असर शरीर में 1 महीने तक बना रहता है। इसके बाद जापान ने फॉरेस्ट बाथ के लिए 48 खास मार्ग बनाए।
 

कैसे होता है लाभ?
जापानी वैज्ञानिकों के अनुसार फॉरेस्ट बाथ का मतलब सिर्फ पेड़ों की शुद्ध हवा लेना नहीं है बल्कि पेड़ों के बीच से गुजरने के दौरान उनसे निकलने वाले तेल (फाइटोन्साइड, जिसे पेड़ कीड़े-मकौड़े से रक्षा के लिए पैदा करते हैं) और उनकी खूशबू को शरीर कर पहुंचाना है। इससे आपका शरीर कई तरह के कीटाणुओं और वायरस से बचा रहता है। इसके अलावा फॉरेस्ट बाथ से दिल मजबूत और रक्तचाप नियंत्रित रहता है। फाइटोन्साइड से शरीर में तनाव पैदा करने वाले स्ट्रैस हार्मोन कोर्टीसाल का स्तर भी कम हो जाता है।

PunjabKesari

बेशक आज फॉरेस्ट बाथ एक ट्रैंड के रूप में फेमस हो रहा हो लेकिन इसका मुख्य मकसद यही है कि आप ज्यादा से ज्यादा समय प्राकृति के साथ बिताएं। सबसे अच्छी बात यह है फॉरेस्ट बाथ के लिए आप किसी भी उपकरण और खर्चे की जरूरत नहीं है। बस आपको पेड़ों के बीच कुछ समय बिताना होगा।
 

फॉरेस्ट बाथ इसलिए भी मशहूर हो रहा है क्योंकि लोग नेचर डैफिसिट डिसॉर्डर (एन.डी.डी) यानी प्रकृति की निकटता की कमी से ग्रस्त हैं। खासतौर पर रोजाना शहरी भीड़-भाड़ और कामकाज की दौड़-धूप में व्यस्त रहने वाले लोगों, जिन्हें प्रदूषण का शिकार होना पड़ता है। उनके लिए पेड़ों के बीच कुछ समय गुजारना के ऐसे-ऐसे लाभ हो सकते हैं, जो आपने सोचें भी नहीं होंगे। शहरी जीवन की वजह होने वाली शारीरिक समस्याओं को फॉरेस्ट बाथ से दूर किया जा सकता है।

PunjabKesari


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP