23 SEPMONDAY2019 12:30:14 PM
Nari

प्रेगनेंसी में रखेंगे इन 11 बातों का ख्याल तो मां-बच्चा दोनों ही रहेंगे हैल्दी

  • Edited By Vandana,
  • Updated: 21 Apr, 2018 05:24 PM
प्रेगनेंसी में रखेंगे इन 11 बातों का ख्याल तो मां-बच्चा दोनों ही रहेंगे हैल्दी

प्रेगनेंसी की जानकारी : प्रेगनेंसी के दौरान महिला को अपनी खास देखभाल करने की जरूरत होती हैं क्योंकि अगर वह अपनी सेहत का ध्यान नहीं रखेगी तो इसका बुरा असर उसके आने वाली संतान को भी होगा इसीलिए यह कहा जाता है कि इस समय के दौरान महिला को खुश रहना चाहिए इसके साथ ही उसे खाने पीने व अन्य जरूरी बातों का भी खास ख्याल रखना चाहिए ताकि प्रेगनेंसी में वह और बच्चा दोनों ही स्वस्थ रहें। 

 

गर्भावस्था में सावधानियां (Healthy Pregnancy Tips)


आत्मविश्वास व आत्मनिर्भर रहें

पहली बार प्रेगनेंसी कंसीव करने वाली महिलाएं अक्सर इस बारे में सोचती हैं कि वह प्रेगनेंसी के दौरान किन तकलीफों (Pregnancy Problems)से गुजरेगी। उन्हें क्या-क्या सहन करना पड़ेगा या वह कैसी दिखाई देंगी? प्रेगनेंसी के दौरान ऐसी बातों की ओर ध्यान न देकर कूल मांइड रहें। आप जितना टैंशन फ्री रहेगी, उतना ही हैल्दी और खूबसूरत दिखेंगी। 

 

प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए

गर्भावस्था में हैल्दी आहार खाएं। डाइट में फाइबर युक्त भोजन जैसे हरी सब्जियां, फल,बीन्स, साबुत अनाज, ओट्स, ब्राउन चावल शामिल करें। मछली का सेवन करें लेकिन जिन मछिलयों में मरकरी की मात्रा ज्यादा पाई जाती हैं उन्हें ना खाएं।कच्चे मांस और मछली का सेवन ना करें क्योंकि इसमें बैक्टीरिया पनपते हैं जो प्रेग्नेंट महिला (Pregnant Women) के लिए हानिकारक हो सकते हैं। कैफीन युक्त और क्लरिंग फूड्स को ना कहें। दिन में 300 से 500 कैलोरी लेना प्रेग्नेंट महिला के लिए अच्छा है।

 

बॉडी डिटॉक्स जरूर करें

बॉडी को डिटॉक्स करना बहुत जरूरी है। इसके लिए पानी का अधिक से अधिक सेवन करें लेकिन रात को सोने से एक घंटा पहले इसे नहीं पीना चाहिए क्योंकि इससे आपको रात को बार-बार बाथरूम जाना पड़ेगा।

 

गर्भावस्था में योगासन

बहुत सारे लोगों को मानना हैं कि इस दौरान महिला को एक्सरसाइज नहीं करनी चाहिए लेकिन ऐसा नहीं है। बल्कि रोजाना महिला को हल्की-फुल्की एक्सरसाइज करनी चाहिए। इससे ब्लड प्रैशर व अन्य प्रॉब्लम्स दूर रहती हैं और बेबी बर्थ के बाथ आपकी बॉडी वापिस शेप में आ जाएगी लेकिन इस दौरान हैवी एक्सरसाइज करने की गलती ना करें। इस दौरान सैर, तैराकी और योगा किया जा सकता है। 

 

मेकअप प्रॉडक्टस 
PunjabKesari

आप इस समय के दौरान कोई भी चीज अपने चेहरे या त्वचा पर लगाते हैं तो उसका प्रभाव आप और बच्चे दोनों पर पड़ेगा इसलिए मेकअप में ऐसे प्रॉडक्ट्स का सेवन करें जो बिलकुल सुरक्षित हो, जितना हो सके नैचुरल प्रॉडक्ट्स इस्तेमाल करें। मेकअप की एक्सपेरीमेंट डेट व सामग्री जरूर चैक करें क्योंकि यह शरीर पर साइड इफैक्ट्स भी डाल सकते हैं।  

 

स्पा ट्रीटमेंट करवाएं

प्रेग्नेंसी में रिलैक्स होना बहुत जरूरी है लेकिन इसके लिए गर्म पानी से नहाना आपके बच्चे के लिए नुकसानदेह हो सकता है। रिलैक्स होने के लिए डॉक्टर की सलाह से स्पा ट्रीटमेंट लें।

 

गर्भावस्था का घरेलु उपचार

गर्भावस्था में होने वाली समस्याएं जैसे मतली, कब्ज, दिल की धड़कन के लिए घरेलू उपचार अपनाएं। पुदीना कैंडी और अदरक मतली की समस्या से राहत दिलाने में मदद करता है। दिल की धड़कन में सुधार लाने के लिए गर्म दूध काफी फायदेमंद है। 

 

सनस्क्रीन इस्तेमाल करें

गर्भावस्था में स्किन बहुत सेंसटिव हो जाती है इसलिए धूप में निकलते समय टोपी, चश्मा और छाते का इस्तेमाल करें। इसके अलावा सनस्क्रीन जरूर लगाएं। स्ट्रैच मार्क्स से छुटकारा दिलाने के लिए घरेलू टिप्स और बॉडी ऑयल का इस्तेमाल जरूर करें।  

 

गर्भावस्था में सोने के तरीके

प्रैग्नेंसी में घुटनों को एक तरफ करके सोना सबसे आरामदायक है। कुछ लोगों का मानना है बायीं ओर साइड लेकर सोने से रक्त प्रवाह बढ़ता है और प्लेसेंटा को आवश्यक पोषक तत्व मिलते हैं लेकिन अभी तक इस बारे में कोई स्पष्ट पुष्टि भी नहीं हुई है। जो महिलाएं इस दौरान सीधा पीठ के बल सोती हैं उनकी कमर में दर्द की परेशानी रहती हैं और रक्त प्रवाह भी कम होता है। 

 

सफर में बरतें सावधानी

प्रेगनेंसी के 14 से 28 हफ्ते सफर के लिए सहीं समय माना जाते हैं। इसके अलावा प्रेगनेंसी के पहले और अंत के हफ्ते काफी रिस्की होते हैं। सफर के दौरान खूब सारा पानी पीएं और आधे पौने घंटे के बाद जरूर हल्की फुलकी सैर करें।  सफर करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह लेना ना भूले।

 

ऐंठन से कैसे पाएं राहत

इस दौरान मांसपेशियों में अकड़न व ऐंठन की परेशानी बहुत ज्यादा होती है। इसके लिए आपको हल्के गुनगुने तेल की मसाज करनी चाहिए। आप आई पैक्स का इस्तेमाल भी कर सकती हैं। बैलेंस डाइट और भरपूर पानी पीकर इस क्रेंप्स से छुटकारा पाया जा सकता है।

 

हील्स को कहें ना

इस दौरान पैरों व एड़ियों में काफी सूजन आ जाती हैं। इसलिए हील्स पहनने की गलती ना करें। सबसे बढ़िया ऑप्शन है कि आप कंफर्टेबल फ्लैट पहनें। और प्रैग्नेंसी में जूतों का साइज नार्मल से थोड़ा ज्यादा रखें।


 

फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP

Related News