17 NOVSUNDAY2019 12:38:38 PM
Nari

लाखों का पैकेज छोड़ लोगों को रोजगार दे रही ये पहाड़ी बहनें, जानिए इनके जज्बे की कहानी

  • Edited By khushboo aggarwal,
  • Updated: 20 Oct, 2019 01:07 PM
लाखों का पैकेज छोड़ लोगों को रोजगार दे रही ये पहाड़ी बहनें, जानिए इनके जज्बे की कहानी

जब खुद पर यकीन हो व कुछ करने की हिम्मत हो तो महिलाएं हर क्षेत्र में खुद को पुरुषों से बेहतर साबित कर सकती है। इसी बात को सच कर रहीं है दो बहने कुशिका व कनिका। दोनों बहनों ने लाखों के पैकेज छोड़ कर उतराखंड की खेती में ऐसे बदलाव किए की पहाड़ों से लोगों का पलायन तो कम हुआ साथ ही बाहर से पर्यटक वहां पर पहुंचते हैं। वहां पर उन्होंने ने केवल जैविक खेती को एक नया मुकाम दिया है बल्कि लोगों को भी रोजगार देने शुरु कर दिया है। आपको बताते है इन दोनों बहनों की मल्टीनेशनल कंपनी से खेतों में काम करने की कहानी... 


दोनों बहनों की पढ़ाई कुमाऊं अंचल के नैनिताल व रानीखेत से हुई। इसके बाद कुशिका ने एमबीए करने के बाद गुरुग्राम की मल्टी नेशनल कंपनी में लाखों के सैलरी पैकेज पर काम करना शुरु किया। वहीं कनिका ने दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी से उच्च शिक्षा हासिल कर इंटरनेशनल एनजीओ से जुड़ गई। अपने काम के दौरान वह दोनों भीतर से ही घुट रहीं थी क्योंकि उन्हें घर-गांव की खूबसूरत वादियां बहुत ही याद आ रही थीं। इतना ही नहीं उन्होंने महसूस किया की आज लोगों के पास सब कुछ होते हुए भी वह आरामदायक जिदंगी के लिए प्राकृति के साथ कुछ समय बिताना पसंद करते हैं। यहीं से उन्हेें आइडिया आया क्यों न गांव पहुंच कर वह ऐसा काम करें जिससे लोग जिदंगी का पूरा मजा ले सकें। 

PunjabKesari, Nari

दक्षिण भारत के राज्यों से सीखी जैविक खेती 

नौकरी छोड़़ने के बाद जब दोनों बहने अपने गांव मुक्तेश्वर लौटकर आई तो उनका दिमाग जैविक फॉर्मिंग पर टिका हुआ था। इसके लिए  दोनों बहनों ने दक्षिण भारत के कई राज्यों से जैविक कृषि करनी सीखीं।2014 में जब उन्होंने शुरुआत की तो उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा उन्होंने 25 एकड़ जमीन पर खेती करनी शुरु की थी। इसके साथ ही उन्होंने  ‘दयो – द ओर्गानिक विलेज रिसॉर्ट’ नया प्रयोग किया।

PunjabKesari, Nari

खुद सब्जी तोड़ो, बनाओं व खाओ 

दोनों बहनें गांव के बच्चों को शिक्षा के साथ हॉस्पिटैलिटी की भी ट्रेनिंग दे रहे है। जिससे लोग खुद खेतों से सब्जी तोड़ कर लाते है व बनाते है। उनका यह प्रयोग विदेशी पर्यटकों का काफी पसंद आ रहा है। रिसॉर्ट में शेफ की भी व्यवस्था की गई है जिनसे वह अपना मनपसंद खाना बनवा सकते है। दोनों बहनें मिलकर आसपास के लोगों को जैविक खेती के बारे में जागरुक कर रही हैं। इसी के साथ उन्होंने अपने कृषि उत्पाद बेचने के लिए सप्लाई चेन बनाने की शुरुआत की है जिससे उनके उत्पाद सीधे मंडी तक पहुंच रहे हैं।

PunjabKesari, Nari

पलायन रोकने के लिए रोजगार जरुरी 

दोनों बहनों का मानना है कि उत्तराखंड के पहाड़ों से पलायन को रोकने के लिए वहां के स्थानीय लोगों को रोजगार उपलब्ध करवाना जरुरी हैं। इसके लिए जरुरी है कि यहां पर पर्यटनों की संख्या में बढ़ोतरी हो। जब सरकार व शासन द्वारा यहां के लोगों का साथ दिया जाएगा तो कोई भी व्यक्ति खूबसूरत पहाड़ों को छोड़कर नही जाएगा।

 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News