23 SEPMONDAY2019 2:31:52 PM
Nari

पेरेंट्स की ये छोटी-छोटी गलतियां बनती हैं बच्चों में मोटापे की वजह

  • Edited By Harpreet,
  • Updated: 19 Aug, 2019 03:15 PM
पेरेंट्स की ये छोटी-छोटी गलतियां बनती हैं बच्चों में मोटापे की वजह

मोटापे की समस्या इतनी बड़ चुकी है कि बच्चे भी इस समस्या से बच नहीं पा रहे। वजह है मां-बाप का उनकी डाइट पर प्रॉपर ध्यान न देना। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के आंकड़ों के अनुसार, 1 से 5 वर्ष की आयु के 41 मिलियन बच्चे मोटापे से ग्रस्त हैं। अगर यह समस्या इसी तरह बढ़ती रही तो वो दिन दूर नहीं जब इंसान 50 वर्ष की आयु से ज्यादा नहीं जी पाएगा क्योंकि मोटापा ही वो वजह है जिससे हार्ट, कोलेस्ट्रोल, हाई बी पी और ब्लड शूगर जैसी बीमारियां व्यक्ति को अपना शिकार बना लेती है। जिससे व्यक्ति ज्यादा देर तक जीवित नहीं रह पाता।

बच्चों में बढ़ते वजन का कारण

विशेषज्ञों की मानें तो बच्चों में मोटापा होने का एक कारण है गर्भावस्था के दौरान मां के शरीर में विटामिन-D की कमी । ये भी संभव है कि माता-पिता के ओवरवेट होने के कारण बच्चा भी आगे जाकर मोटापे का शिकार हो जाए। इन सब कारणों के अलावा तेजी से बढ़ रहे मोटापे के पीछे छिपी एक बड़ी वजह है छोटे बच्चों का जंक फूड या तैलीय चीजों की तरफ बढंता रुझान।

PunjabKesari,nari

पेरेंट्स को उठाने चाहिए ये कदम

आज के सामय में अगर माता-पिता दोनों ही कामकाज़ी हों तो जाहिर है कि उनके पास बच्चे के लिए समय थोड़ा कम ही रहेगा। मगर जरुरी है जहां आप सारा दिन दूसरे कई कामों के लिए समय निकालते हैं वहीं अपने बच्चे की सेहत के लिए भी जरुर कुछ समय निकालें। बच्चों को मोटापे जैसी समस्या से दूर रखने के लिए इन कुछ जरुरी बातों पर जरुर ध्यान दें...

बच्चे को कार्ब्स देने से बचें

कार्ब्स यानि कि ब्रेड, चावल, पास्ता, सफेद चावल और आलू जितना हो सके बच्चों को कम दें। इनके अत्यधिक सेवन से कार्ब्स शरीर के खून में घुलने लगते हैं। जिस वजह से बच्चों को डायबिटीज का खतरा बना रहता है। बच्चे को नाश्ते में हैवी खिलाने के लिए उन्हें प्रोटीन युक्त अंडे दे। अगर आप शाकाहारी हैं तो अंडे की जगह सोया की भुर्जी बनाकर दी जा सकती है। इसके अलावा पनीर की भुर्जी, ओट्स का चीला या फिर बिना तले कोई भी स्टफिंग परांठा बच्चे का पेट काफी देर तक भरा रखेगा।

PunjabKesari,nari

फलों और सब्जियों का चुनाव भी ध्यान से करें

फल और सब्जियां सेहत के लिए फायदेमंद होती हैं मगर ऐसी कई सब्जियां और फल हैं जिनमें स्टार्च की मात्रा अधिक होती है। ऐसे में अपने बच्चे के लिए फल और सब्जियों का चुनाव भी थोड़ा सोच-समझकर करें।

एक्सरसाइज के लिए प्रेरित करें

वसा को घटाने और ताकत में सुधार करने के लिए बच्चों को 5 से 10 मिनट की एक्सरसाइज रोजाना जरुर करवाएं। उनका हौंसला बढ़ाने के लिए खुद भी उनके साथ एक्सरसाइज करें। यदि आप अच्छी डाइट के साथ-साथ बच्चे को रोज एक्सरसाइज की आदत डालती हैं तो आपका बच्चा कभी भी मोटापे का शिकार नहीं होगा।

गर्भावस्था के दौरान मां रखें इन खास बातों का ध्यान

बच्चे को मोटापे से बचाने के लिए मां को अपनी प्रेगनेंसी के दौरान भी बहुत सी चीजों का ध्यान रखना चाहिए। जैसा कि आपको बता चुके हैं कि विटामिन्स की कमी की वजह से भी बच्चे मोटापे का शिकार होते हैं, ऐसे में प्रेगनेंसी के दौरान विटामिन-D की कमी को पूरा करने के लिए आप रोज 1 से 2 घंटे के लिए धूप में बैठें। अगर मौसम गर्मियों का है तो सुबह 7 से 8 बजे वाली धूप में बैठना सही रहेगा। इन सबके अलावा...

- गर्भावस्था के दौरान पौष्टिक आहार लेना आवश्यक होता है।
- सॉफ्ट ड्रिंक की बजाए खूब पानी ,ताजा जूस या नींबू पानी पिएं।
- हरी पत्तेदार सब्जियां, सलाद आदि जितना हो सके अधिक से अधिक खाएं।

PunjabKesari,nari

बच्चे को फिट एंड फाइन रखने के लिए इन बातों का रखें खास ध्यान

जैसे-जैसे बच्चा बड़ा होता जाता है मां-बाप लाड में उसकी हर बात मानना शुरु कर देते हैं। कई बार बच्चा ऐसी खाने वाली चीजों की जिद्द कर बैठता है जो उसकी सेहत के लिए बिल्कुल सही नहीं होती। बच्चे की जिद्द पूरी करने से पहले जुरुर सोच समझ लें कि कहीं उसकी जिद्द उसी की सेहत को नुकसान तो नहीं पहुंचा रही। साथ ही बच्चे को फिट एंड एक्टिव रखने के लिए कुछ खास बातों पर जरुर ध्यान दें। जैसे कि...

- बच्चे के भोजन की शुरुआत थोड़ी मात्रा के साथ करें । बच्चे अपनी भूख के मुताबिक ही खाना खाएं तो अच्छा होगा । 
- रोजाना सुबह का नाश्ता बच्चे को ज़रुर खिलाएं । ब्रेकफास्ट करने से बच्चे का ध्यान बाहर की चीजों पर कम जाएगा। 
- पेरेंट्स को चाहिए कि बच्चों में चॉकलेट व अन्य पैकेट बंद चीजों की बजाए ताजे फलों को खरीदने की लालसा जगाएं ।
- तली-भूनी चीजें छोटे बच्चे को बहुत कम ही खिलाएं। 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News