23 OCTWEDNESDAY2019 10:50:20 AM
Nari

कंगाली का कारण बनती है घर में रखी ये 7 नकारात्मक चीजें

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 21 Apr, 2019 12:23 PM
कंगाली का कारण बनती है घर में रखी ये 7 नकारात्मक चीजें

अच्छी कमाई होने के बावजूद भी पैसों की तंगी बनी रहती है तो इसका कारण घर का वास्तुदोष हो सकता है। जी हां, घर में रखी कुछ नकारात्मक चीजें ही कंगाली का कारण बनती हैं। सिर्फ आर्थिक परेशानी ही नहीं, घर में रखी ये चीजें परिवार में लड़ाई-झगड़ा भी बढ़ाती हैं। ऐसे में अगर आपके घर में भी ये चीजें मौजूद है तो उसे तुंरत हटा दें।

 

टूटा हुआ शीशा

घर में टूटा शीशा या टूटे कांच की चीजें रखने से आर्थिक नुकसान होता है। साथ ही इससे परिवारिक सदस्यों में कलेश भी बढ़ता है। दरवाजे-खिड़कियों में लगे कांच टूट जाएं तो उन्हें भी बदल देना चाहिए।

PunjabKesari

एक ही देवी-देवता की मूर्ति

घर के मंदिर में एक ही देवी-देवता की मूर्ति को कभी भी आमने-सामने नहीं रखता है। इससे आय के साधन कम और खर्चे ज्यादा होते हैं।

कांटेदार पौधे

अगर आपको बगीचे में भी कांटेदार पौधे मौजूद है तो उसे तुंरत हटवा दें क्योंकि इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा के साथ पैसों कि किल्लत भी बनी रहती है।

PunjabKesari

खंड़ित प्रतिमा

अगर किसी भगवान की मूर्ति थोड़ी-सी भीू टूट गई हैं तो इसे जल में प्रवाहित कर दें। वास्तु के अनुसार, भगवान की टूटी हुई प्रतिमा रखने से घर में पैसों संबधी परेशानियां होने लगती है।

मकड़ी का जाला

मकड़ी का जाला ना सिर्फ घर की शोभा खराब करता है बलिक् यह अशुभ संकेत भी माना जाता है। ऐसे में कोशिश करें कि घर में मकड़ी का जाला ना हो। वास्तु के अनुसार, इससे घर में उलझन, लड़ाई-झगड़े और पैसों की किल्लत बढ़ती है।

PunjabKesari

टूटे हुए बर्तन

घर में टूटे-फूटे बर्तन नहीं रखने चाहिए। शास्त्रों के अनुसार, यदि ऐसे बर्तन घर में रखे जाते हैं तो इससे मां लक्ष्मी असप्रसन्न होती हैं और घर में दरिद्रता का प्रवेश हो सकता है। इसके अलावा टूटा-फूटा इलेक्ट्रॉनिक सामान, तस्वीर, फर्नीचर, पलंग, घड़ी, दीपक, झाड़ू, मग, कप आदि भी घर में नहीं रखना चाहिए। इससे नकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है।

घर की छत पर कबाड़

घर की छत पर कबाड़ और फालतू सामान रखने से आर्थिक तंगी होती है। जिससे पारिवारिक सदस्यों की कमाई और मानसिक स्थिती पर बुरा असर पड़ता है।

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News