17 AUGSATURDAY2019 8:10:30 PM
Nari

भारत की ये 5 महिलाएं, जिन्होंने देश के लिए कुर्बान की अपनी जिंदगी

  • Edited By khushboo aggarwal,
  • Updated: 15 Aug, 2019 10:46 AM
भारत की ये 5 महिलाएं, जिन्होंने देश के लिए कुर्बान की अपनी जिंदगी

आज भारत की आजादी के 73 साल पूरे हो गए है। इस मौके पर देश के लिए शहीद होने वाले देशवासियों को पूरे सम्मान के साथ याद किया जा रहा है। जिन्होंने देश की आजादी के लिए अपना परिवार व जिंदगी सब कुछ दांव पर लगा दी थी। इन में न केवल पुरुष ही नही बल्कि महिलाएं भी शामिल रही थी। जिन्होंने वीरों की तरह लड़ कर अपने देश को आजाद करवाया था। आज हम देश की ऐसी ही कुछ विरंगनाओं के बारे में बताएंगें, जिन्होंने देश को बचाने के लिए सरहानीय काम किया था। 

विजय लक्ष्मी पंडित 

कुलीन परिवार से ताल्लुक रखने वाली विजय लक्ष्मी जवाहरलाल नेहरु की बहन थी। अपने भाई की तरह इन्होंने भी देश की आजादी में अपना पूरा योगदान दिया था। सविनय अवज्ञा आंदोलन के दौरान इन्हें काफी दिन जेल में भी बंद रहना पड़ा था इतना ही नही राजनीतिक इतिहास में यह पहली महिला मंत्री भी बनी थी। इसके बाद यह संयुक्त राष्ट्र की पहली भारतीय महिला अद्यक्ष होने के साथ आजाद भारत की पहली महिला राजदूत थी। जिन्होंने मॉस्को, लंदन व वॉशिंगटन में भारत का प्रतिनिधित्व किया है। 

PunjabKesari,Vijay lakshami pandit, Nari

सुचेता कृपलानी

एक स्वतंत्रता सेनानी होने के साथ इन्होंने विभाजन के दंगों के समय महात्मा गांधी का बहुत साथ दिया था। इंडियन नेशनल कांग्रेस में शामिल होने के बाद राजनीति में अहम रोल अदा किया। वहीं भारतीय संविधान बनाते समय इन्हें गठित संविधान सभा की ड्राफ्टिंग समिति के सदस्य के रुप में भी चुना गया था। आजादी के बाद इन्हें उत्तरप्रदेश राज्य की मुख्यमंत्री के तौर पर चुना गया था। 

PunjabKesari, Nari

सरोजिनी नायडू

सरोजिनी नायडू भारत की न केवल स्वतंत्रता सेनानी थी बल्कि बहुत ही अच्छी कवियत्री भी थी। इन्हें भारतीय कोकिला के नाम से जाना जाता था। इन्होंने खिलाफत आंदोलन की बागडोर को संभालते हुए भारत में से अंग्रेजो को निकालने में अहम भूमिका अदा की थी। 

PunjabKesari, Nari

रानी लक्ष्मी बाई 

रानी लक्ष्मी बाई आज हर महिला के लिए एक प्रेरणा है। जब भी महिला सशक्तिकरण की बात आती है तो इनकी बात सबसे पहले आती है। 1857 में इन्होंने देश के पहले स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी। इन्होंने न केवल अपने शौर्य से बल्कि अपनी समझदारी से सबको चकित कर दिया था। इनकी वीरता को देखकर अंग्रेज भी हैरान थे। 

PunjabKesari, Nari

कस्तूरबा गांधी

कस्तूरबा गांधी की पहचान न केवल गांधी जी की पत्नी के तौर पर है बल्कि इन्होंने आजादी की लड़ाई में अपने पति का पूरा साथ दिया था। कई बार गांधी जी के मना करने के बाद भी उन्होंने जेल जाने व विभिन्न तरह के आंदोलनों में भाग लिया। कई तरह के संघर्षों में शिरकत भी की थी। इसके साथ ही वह गांधी जी की प्रेरणा भी थी, जो उन्हें देश की आजादी के लिए आगे आने के लिए प्रेरित करती थी। 

PunjabKesari, Nari

 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News

From The Web

ad