23 OCTWEDNESDAY2019 6:28:16 AM
Nari

कैंसर की वजह बन सकती है ये 10 चीजें, आज ही कर दें किचन से बाहर

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 27 Sep, 2019 09:13 AM
कैंसर की वजह बन सकती है ये 10 चीजें, आज ही कर दें किचन से बाहर

कैंसर एक ऐसी खतरनाक बीमारी है, जोकि हर साल लाखों लोगों की जान ले लेती है। बहुत से लोगों को लगता है कि सिर्फ शराब, सिगरेट या इसके घुएं और तंबाकू के कारण ही कैंसर होता है जबकि ऐसा नहीं है। जहां कैंसर का एक कारण शराब व धूम्रपान है वहीं हमारे घर में भी कई ऐसी चीजें मौजूद है जो इसकी वजह बनती हैं। रोजाना खाई जाने वाली या काम के लिए इस्तेमाल होने वाली इन चीजों से कैंसर का खतरा दोगुणा बढ़ जाता है।

चलिए आज हम आपको कुछ ऐसी चीजों के बारे में बताते हैं, जिनसे कैंसर का खतरा हो सकता है। अगर आपकी किचन में भी इनमें से कोई चीज मौजूद है तो बेहतर होगा कि आप उसे हटा दें।

प्लास्टिक का सामान

प्लास्टिक का सामान बनाने के लिए बिस्फेनॉल ए (बीपीए) नामक रासायनिक यौगिक का यूज किया जाता है। यह कैमिकल खाने के जरिए शरीर में पहुंकर इम्यून सिस्टम व हार्मोन्स पर असर पड़ता है। वहीं जब प्लास्टिक कंटेनरों में खाना गर्म किया जाता है तो इससे निकलने वाले टॉक्सिंस इंसुलिन को बढ़ाकर फैट सेल्स को रिलीज करते हैं, जो कैंसर का संभावना बढ़ा देते हैं।

वैकल्पिक: कैंसर से बचने के लिए मिट्टी, स्टील, तांबे या कांच से बने बर्तनों का इस्तेमाल करें।

PunjabKesari
 
माइक्रोवेव पॉपकॉर्न

टीवी या फिल्म देखते हुए आप पॉपकॉर्न तो बड़े मजे से खाते हैं लेकिन कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी का कारण भी बन सकता है। दरअसल, जब माइक्रोवेव में पैकेट को गर्म किया जाता है तो वो ऐसे केमिकल्स छोड़ता है जो पॉपकॉर्न में मिलकर फेफड़ों को नुकसान पहुंचाते है। इससे आपको फेफड़ों का कैंसर हो सकता है।

वैकल्पिक: नट्स, फल या सलाद खाएं।

डिब्बा बंद खाना

भागदौड़ भरी जिंदगी के बीच लोग आजक लोग ताजे फल और सब्जियों के बजाए डिब्बा बंद खाने का सहारा ले रहे हैं लेकिन यह सेहत के लिए हानिकारक होते है। इस तरह के फूड्स में बिसफेनोल ए नामक कैमिकल पाया जाता है, जोकि कैंसर का कारण बनता है।

वैकल्पिक: घर का बना खाना खाएं।

रिफाइंड चीनी

कैंसर का एक सबसे बड़ा कारण रिफांइड चीनी और हाई-फ्रुटोज कॉर्न सीरप भी होता है। ब्राउन शुगर में कलर और फ्लेवर मिलाए जाने के कारण यह ज्यादा खतरनाक हो जाती है। रिफाइंड चीनी से शरीर के अंदर कैंसर सेल्स बढ़ते हैं और आप इस बीमारी का शिकार हो जाते हैं।

PunjabKesari

वैकल्पिक: नेचुरल शुगर का यूज करें।

कार्बोनेटिड ड्रिंक

आजकल लोग ज्यादातर कार्बोनेटिड ड्रिंक्स पीते हैं, खासकर गर्मियों में लेकिन आपको बता दें कि यह भी सेहत के लिए हानिकारक है। दरअसल, बोतल में भरी ऐसी ड्रिंक्स में कार्बोहाइड्रेट होता है। साथ ही इसमें मौजूद हाई-फ्रुटोज कॉर्न सीरप, तरह-तरह के कैमिकल्स और कलर्स भी होते हैं, जोकि कैंसर सेल्स को बढ़ावा देते हैं।

वैकल्पिक: जूस, नारियल पानी या घर की बनी ड्रिंक पीएं। साथ ही दिनभर में कम से कम 8-9 गिलास पानी पीएं।

रिफाइंड या वेजिटेबल ऑयल

रिफाइंड व वेजिटेबल ऑयल को लंबे समय तक चलाने के लिए हाइड्रोजन और अन्य रासायनिक प्रतिक्रिया द्वारा बनाया जाता है। वहीं तेल को रिफाइन करने के एसिड और इसकी तीखी गंध को दूर करने के लिए हेक्सानॉल नामक एक रसायन का यूज होता है, जो हृदय रोग, इम्यून सिस्टम और कैंसर को बढ़ावा देते हैं।

वैकल्पिक: इसकी बजाए आप खाना बनाने के लिए नेचुरल तेल जैसे नारियल, सरसों के तेल का यूज करें। इससे कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल में रहता है और कैंसर का खतरा भी कम होता है।

नॉन-स्टिक कुकवेयर

आजकल खाना बनाने के लिए नॉन स्टिक बर्तनों का इस्तेमाल काफी बढ़ गया है। शोध के अनुसार, 90% शहरी लोग इन बर्तनों का इस्तेमाल करते हैं लेकिन बता दें कि इससे भी आप कैंसर की चपेट में आ सकते हैं। दरअसल, तेज फेलम पर नॉन-स्किट कुकवेयर का प्रयोग धुएं के रूप में PFCs कोटिंग पर असर डालता है। यह कोटिंग पेट में जाकर कैंसर, लीवर और डाइजेस्टिव सिस्टम जैसी परेशानियों का कारण भी बनता है।

PunjabKesari

वैकल्पिक: इसकी बजाए खाने बनाने के लिए कॉपर, तांबे, लौहे या स्टील के बर्तनों का यूज करें।

आलू चिप्स

आलू चिप्स खाना तो हर किसी को पसंद होता है लेकिन इनमें सबसे ज्यादा फैट और कैलोरी पाई जाती है। आलू के चिप्स और फ्रेंच फ्राई में अधिक मात्रा में एक्रिलामाइड नामक तत्व पाया जाता है जोकि सिगरेट में मौजूद होता है।

वैकल्पिक: इसकी बजाए अपने घर पर ही स्नैक्स बनाकर खाएं। हो सके तो इनका कम से कम सेवन करें।

एल्युमिनियम फॉयल

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, शरीर के लिए 50 मिलीग्राम एल्यूमीनियम सही होता है। वहीं फॉयल में पैक्ड फूड में करीब 2-5 मिलीग्राम एल्यूमीनियम होता है। दरअसल, फॉयल की यह मात्रा बॉडी में जिंक के अवशोषण में समस्या पैदा करती है जिससे कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा इससे बोन डेंसिटी भी कम होती है।

वैकल्पिक: इसकी बजाए आप बटर पेपर या सूती कपड़े का यूज करें।

केमिकल युक्त फल व सब्जियां

आप बाजार से जिस फल व सब्जी को ताजा समझकर घर ले आते हैं, उनमें बहुत से केमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता है। कई बार धोने से भी यह केमिकल साफ नहीं होते और कैंसर का कारण बनते हैं।

वैकल्पिक: इससे बचने के लिए आप ऑर्गेनिक फल और सब्जियों का इस्तेमाल कर सकते हैं या घर पर ही सब्जियां उगाएं।

PunjabKesari

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News