27 JUNTHURSDAY2019 4:02:29 PM
Nari

बच्चे के चिड़चिड़ेपन की वजह हो सकती है चीनीः शोध

  • Edited By Priya verma,
  • Updated: 25 Dec, 2018 11:43 AM
बच्चे के चिड़चिड़ेपन की वजह हो सकती है चीनीः शोध

छोटे बच्चे का मन बहुत कोमल होता है, कई बार कुछ बातों के लिए उनका व्यवहार बहुत आक्रमक हो जाता है। ऐसा सिर्फ उनके आस-पास के माहौल ही नहीं बल्कि उनके खान-पान के कारण भी होता है। अगर आपका बच्चा भी बात-बात पर चिल्लाता है तो इसकी वजह चीनी हो सकती है। यह हैरान कर देने वाली बात हाल ही में हुए एक शोध में सामने आई है कि जो बच्चे चीनी का अधिक सेवन करते हैं उनका स्वभाव हिंसक हो जाता है। 

PunjabKesari, candy

जर्नल सोशल साइंस एंड मेडिसिन में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक यह बात सामने आई है कि ज्यादा शुगर वाली चीजें खाने या पीने से बच्चे के व्यवहार पर बहुत बुरा असर दिखना शुरू हो जाता है। स्टडी के अनुसार, 
बच्चों की बॉडी में शुगर का हाई लेवल होने पर उनके झगड़े में पड़ने की संभावना दोगुनी हो जाती है, जबकि 95 फीसदी बच्चों में नशे की लत लगने की आशंका होती है।

PunjabKesari, Aggrasive child

मिठाइयों से भी ज्यादा खतरनाक चॉकलेट और एनर्जी ड्रिंक

शोधकर्ताओं का यह भी कहना है कि एनर्जी ड्रिंक और चॉकलेट जैसी चीजें सेहत के लिए मिठाइयों से भी ज्यादा हानिकारक है क्योंकि इनमें कैफीन होता है। यह बात इजराइल की बार इलन यूनिवर्सिटी के द्वारा की गई एक स्टडी में साबित हुई। इसमें 137,284 बच्चों पर स्टडी की जिसमें 11, 13 या 15 वर्ष के बच्चों को शामिल किया गया। इसमें पाया गया कि बच्चों के व्यवहार का शुगर की मात्रा से बहुत गहरा संबंध है।

PunjabKesari, cold drink

कितनी मात्रा में लेनी चाहिए शुगर

इस बारे में नेशनल हेल्थ सर्विस इंग्लैंड की गाइडलाइन्स का कहना है कि 11 साल की उम्र वाले बच्चे को 30 ग्राम से ज्यादा शुगर वाले पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए। वहीं, 4 से 6 साल की उम्र वाले बच्चे को दिन में 19 ग्राम से ज्यादा शुगर नहीं लेनी चाहिए जबकि कोकाकोला के एक कैन में ही 35 ग्राम शुगर होती है। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि बच्चे अनजाने में शुगर की कितनी ज्यादा मात्रा का सेवन कर रहे हैं। 
 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News

From The Web

ad