23 OCTWEDNESDAY2019 7:38:20 AM
Nari

ओवेरियन कैंसर के हो सकते हैं ये 8 सकेंत, ना करें इग्नोर करने की गलती!

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 25 Sep, 2019 07:05 PM
ओवेरियन कैंसर के हो सकते हैं ये 8 सकेंत, ना करें इग्नोर करने की गलती!

ओवरियन कैंसर एक ऐसी खतरनाक बीमारी है जो महिलाओं में तेजी से बढ़ रही हैं। वैसे महिलाओं को यह कैंसर किसी भी उम्र में हो सकता है लेकिन 40 की उम्र के बाद महिलाओं में इसका खतरा बढ़ जाता है। वहीं 60% महिलाओं को इस बीमारी की जानकारी एडवांस स्टेज में होती है, जिसका सबसे बड़ा कारण जागरूकता की कमी है। अगर समय रहते बीमारी के लक्षणों को पहचानकर इलाज करवा लिया जाए तो महिला की जान बचाई जा सकती है। ऐसे में हर महिला को इस बीमारी के बारे में पूरा जानकारी होना बहुत जरूरी है।

 

सबसे पहले आपको बताते हैं ओवेरियन कैंसर आखिर है, जो महिला को मौत के दरवाजे तक ले जाता है। गर्भाश्य के आस-पास मौजूद दो छोटे अंगों को ओवरी या अंडाशय कहते हैं, जो । यह महिला के प्रजनन अंग का एक हिस्सा है, कई तरह की कोशिकाओं से निर्मित होती है। यह गर्भवती होने में अहम भूमिका निभाते हैं लेकिन जब ओवरी में किसी तरह का विकार या घाव हो जाए तो कैंसर कोशिकाएं फैलने लगती हैं।

PunjabKesari

किन महिलाओं को अधिक खतरा

-फैमिली हिस्ट्री यानि जनेटिक, बढ़ती उम्र, प्रजनन हिस्ट्री (reproductive history) और मोटापे से ग्रस्त महिलाओं को इसका अधिक खतरा होता है।
-40 साल की उम्र से पहले स्तन कैंसर होने पर ओवेरियन कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।
-इंफर्टिलिटी का लंबा ट्रीटमेंट चलने से भी इस बीमारी का खतरा बढ़ सकता है।
-बच्चा न होना, हॉर्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी या एंडोमेट्रियोसिस का निदान करने वाली महिलाओं में भी इसकी संभावना ज्यादा होती है।

PunjabKesari

अगर समय रहते इसका उपचार किया जाए तो 94% चांसेस हैं कि कम से कम 5 सालों तक स्वस्थ जीवित व्यतीत करे लेकिन इसके लिए सबसे जरूरी है लक्षणों को पहचानना।

चलिए अब आपको बताते हैं इसके लक्षण...

कंसीव करने में मुश्किल

गर्भधारण करने में समस्या आना भी इस बीमारी का संकेत हो सकता है। हालांकि प्रेगनेंसी कंसीव न कर पाने के कई ओर भी कारण हो सकते हैं लेकिन टेस्ट करवाना ही आपके लिए बेहतर होगा।

अनियमित पीरियड्स

कभी-कभी पीरियड्स समय पर न आना आम है लेकिन अगर ऐसा रेगुलर हो रहा है तो नजरअंदाज न करें। यह ओवेरियन कैंसर के साथ किसी गंभीर बीमारी का संकेत भी हो सकता है।

PunjabKesari

पेल्विक पेन

कमर में दर्द या पेल्विक पेन परेशान कर रहा है तो बिना देरी किए ओवेरियन कैंसर की जांच करवाए।

पेट से जुड़ी परेशानियां

पेट से जुड़ी परेशानियां, खट्टी डकारें आना, कब्ज और संभोग करते समय तेज दर्द की शिकायत भी इस बीमारी का संकेत हो सकते हैं।

पेट फूलना

अचानक मोटापा बढ़ना या पेट फूलना भी ओवेरियन कैंसर के लक्षण हो सकता है। इसके अलावा इस कैंसर में पेट में बहुत अधिक गैस बनने लगती है और दस्त रहते हैं।

PunjabKesari

सांस लेने में परेशानी

अचानक से बार-बार सांस लेने में पेरशानी हो रही है तो इसे हल्के में ना लें। ओवेरियन कैंसर के दौरान बिना काम किए भी आपको सांस चढ़ने लगती है। वहीं यब अस्थमा का संकेत भी हो सकता है।

भूख न लगना

अगर आपको 3 हफ्तों से भूख कम लग रही है या थोड़ा खाने पर भी पेट भरा लगता है तो अपने डॉक्टर से बात करें। यह कैंसर का संकेत हो सकता है।

बार-बार यूरिन आना

कम पानी पीने के बावजूद भी आपको बार-बार पेशाब आ रहा है तो सतर्क हो जाएं। साथ ही यूरिन पास करते समय जलन होना भी ओवरियन कैंसर का संकेत हो सकता है।

PunjabKesari

याद रखें ओवरी कैंसर से तभी बचा जा सकता है जब इसका पता समय पर चल जाए इसलिए समय-समय पर चेकअप करवाती रहें, ताकि समय रहते इस गंभीर बीमारी का इलाज शुरू किया जा सके।

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News