Twitter
You are hereNari

8 घंटे से ज्यादा की नींद बढ़ा देती है मौत का खतरा: रिसर्च

8 घंटे से ज्यादा की नींद बढ़ा देती है मौत का खतरा: रिसर्च
Views:- Sunday, December 9, 2018-1:03 PM

स्वस्थ रहने के लिए हेल्दी डाइट के साथ-साथ पर्याप्त नींद लेना भी जरूरी होता है। पूरी नींद ना लेने की वजह से तनाव, टेंशन, सिरदर्द, खराब पाचन क्रिया और थकान जैसी समस्याएं हो सकती हैं। हालांकि, यह भी जरूरी है कि आप जरूरत से ज्यादा नींद ना लें। हाल में एक नई रिसर्च में कहा गया है कि जरूरत से ज्यादा ली गई नींद मौत की वजह भी बन सकती है।

अधिक सोने से बढ़ रहा है कार्डियोवस्कुलर डिजीज

शोध के अनुसार, रात को 6-8 घंटे से ज्यादा नींद लेने पर मौत का खतरा बढ़ जाता है। इस शोध में यह भी पाया गया कि 8 घंटे से ज्यादा सोने पर कार्डियोवस्कुलर डिजीज जैसे दिल का दौरा और हार्ट फेल का खतरा 41 प्रतिशत अधिक होता है। शोधकर्ताओं ने कहा कि कुछ लोग विशेष स्वास्थ्य समस्याओं के कारण अधिक नींद लेते हैं, जिनमें कार्डियोवस्कुलर डिजीज का खतरा ज्यादा होता है।

PunjabKesari

दिन व रात में सोने से बढ़ जाती है मौत की संभावना

इस रिसर्च में शोधकर्ताओं ने दिन में सोने वाले लोगों में भी इन जोखिमों की संभावना का पता लगाया। रिसर्चर ने कहा, 'जो लोग रात में 6 घंटे से ज्यादा सोने के बाद दिन में भी नैप लेते हैं उनमें कार्डियोवस्कुलर डिजीज व मौत का खतरा अधिक देखा गया। जबकि जो लोग रात में 6 घंटे से कम नींद लेने के बाद दिन में सोते हैं उनमें यह खतरा नहीं था।'

कम नींद लेना भी है सेहत के लिए खतरनाक

रात में कम सोने वाले लोग दिन में नींद लेकर स्लिपिंग टाइम को पूरा कर लेते हैं। इससे उनमें कार्डियोवस्कुलर डिजीज का खतरा नहीं होता लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो 6 घंटे से कम की नींद ही ले पाते हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि पूरे दिन में 6 घंटे से कम नींद लेने वाले लोगों में इन बीमारियों का खतरा 9% अधिक होता है। ऐसे में हर किसी के लिए 6-8 घंटे की नींद लेना जरूरी है।

PunjabKesari

उम्र के हिसाब से जानें कितने घंटे की नींद लेनी चाहिए?

रिसर्च के मुताबिक उम्र के हिसाब से हम सबकी नींद की जरूरत अलग-अलग होती है और आप पूरी नींद लेने पर ही बीमारियों से बच सकते हैं। तो चलिए जानते हैं किस उम्र के लोगों को कितनी देर सोना चाहिए।

नवजात शिशु

नवजात शिशुओं को तकरीबन 14-17 घंटे की नींद लेनी चाहिए लेकिन उन्हें 19 घंटे से ज्यादा नहीं सोने देना चाहिए।

PunjabKesari

3-5 साल की उम्र के बच्चें

विशेषज्ञों के मुताबिक, इस उम्र-वर्ग के बच्चों के लिए 10-13 घंटों की नींद पर्याप्त है। इसके अलावा 8 घंटे से कम और 14 घंटे से ज्यादा की नींद इन बच्चों के लिए सही नहीं मानी जाती।

6-13 साल की उम्र तक के बच्चें

इन बच्चों के लिए नेशनल स्लीप फाउंडेशन (एनएसएफ) 9 से 11 घंटे नींद की सलाह देता है। इनके लिए 7 से कम और 11 से ज्यादा घंटे की नींद सही नहीं मानी जाती।

किशोरावस्था

14 साल से 17 साल तक की उम्र के लोगों को 8-10 घंटे की नींद की सलाह दी गई है लेकिन 7 से कम और 11 से ज्यादा घंटों की नींद इनके लिए सही नहीं है।

PunjabKesari

वयस्कों के लिए सही नींद

18-64 उम्र-वर्ग के लोगों को कम से कम 7-9 घंटे की नींद लेनी चाहिए। इसके अलावा उन्हें 6 घंटे से कम और 11 घंटे से ज्यादा तो बिल्कुल नहीं सोना चाहिए।

बुजुर्गों के लिए पर्याप्त नींद

65 साल से ज्यादा की उम्र के लोगों को कम से कम 7-8 घंटे की नींद लेनी चाहिए। ऐसे लोगों को 5 घंटे से कम और 9 घंटों से ज्यादा नहीं सोना चाहिए।

PunjabKesari


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP
Edited by: