19 NOVTUESDAY2019 10:21:09 AM
Nari

यूएस में लाखों का पैकेज छोड़, देश के बच्चों की शिक्षा के लिए शुरु किया फाउंडेशन

  • Edited By khushboo aggarwal,
  • Updated: 06 Nov, 2019 11:13 AM
यूएस में लाखों का पैकेज छोड़, देश के बच्चों की शिक्षा के लिए शुरु किया फाउंडेशन

पढ़ाई करने के बाद हर व्यक्ति चाहता कि उसे एक अच्छी नौकरी मिले ताकि वह जीवन में सफल और अमीर व्यक्ति बन सके लेकिन बहुत ही कम लोगों होते है जो कि एक अच्छी नौकरी पाने के बाद उसे छोड़ कर समाजिक कार्यों को अपने जीवन का हिस्सा बना लेते है। आज हम आपको जिस महिला की बारे में बताएंगे उन्होंने बच्चों की शिक्षा के लिए अपनी लाखों के पैकेज वाली नौकरी को छोड़ा। इतनी ही नहीं, वह अमेरिका को छोड़ कर वापिस अपने देश लौट आई और आज वह देश में के कई बच्चों की जिदंगी को सुधार चुकीं है। 

 

चलिए बताते है आपको कंप्यूटर इंजीनियर समीना बानो की सफल समाज सेविका बनने की कहानी..

 

समीना बानो अमेरिका की एक अंतरराष्ट्रीय कंपनी में नौकरी करती थी लेकिन 2012 में वह अपनी नौकरी छोड़ कर वापिस भारत आ गई। समीना पुणे की रहने वाली है। उनके पिता एयर फोर्स में ऑफिसर थे जिस कारण उनकी पढ़ाई देश के अलग-अलग हिस्सों में पूरी हुई है। आईआईएम बैंगलुरु से अपनी एमबीए करने के बाद समीना अमेरिका चली गई और वहां पर नौकरी करने लगी।

 

 PunjabKesari,Nari

विदेश में रहते हुए आती थी देश की याद 

समीना चाहे अमेरिका में रह कर एक मल्टीनेश्नल कंपनी में नौकरी कर रही थी लेकिन उन्हें हमेशा अपने देश की याद आती रहती थी। वह सोचती रहती कि उनके पेरेंट्स ने उन्हें जो शिक्षा दी है उसके कारण वह आज इस मुकाम पर है लेकिन भारत के अभी भी कई ऐसे हिस्से है जहां पर बहुत सारे बच्चों को शिक्षा ही नहीं मिलती है। वह स्कूल नहीं जा पाते है। इसी सोच और देश की याद में धीरे-धीरे उनका नौकरी से मोह खत्म हो गया और वह देश वापिस आ गई। 

किराए के एक मकान से लखनऊ में शुरु किया काम 

इंडिया वापिस आकर समीना ने पुणे के बच्चों के लिए काम करने के बारे में सोचा वह अभी इस बारे में योजना बना ही रही थी कि उनके एक दोस्त ने उन्हें पुणे या बंगलुरु की जगह उत्तरप्रदेश में काम करने की सलाह दी। जब उन्होंने लखनऊ में किराए का मकान लेकर वहां पर सर्वे करना शुरु किया। समीना ने अपने काम की शुरुआत झुग्गी- झोपड़ियों में रहने वाले 50 बच्चों को पढ़ाने से की। इन बच्चों को पढ़ाते समय उन्हें लगा कि इतने बच्चों को पढ़ाने से उनका काम नहीं होगा इसके लिए उन्हेें कुछ बड़ा करना होगा तो उन्होंने सरकार की मदद लेने के बारे में सोचा। 

PunjabKesari,Nari

शुरु किया ‘भारत अभ्युदय फाउंडेशन’

इसी दौरान समीना ने लखनऊ के विनोद यादव के साथ मिलकर ‘भारत अभ्युदय फाउंडेशन’ की शुरुआत की। इसके बाद बच्चों को पढ़ाने के साथ उन्होंने संस्था के माध्यम से सरकार के साथ मिलकर शिक्षा के क्षेत्र में सुधार लाने के लिए सिस्टम और पॉलिसी में तालमेल बनाकर उसे लागू करवाया गया।

प्राइवेट स्कूलों में करवाया बच्चों का दाखिला

 उन्होंने सबसे पहले सरकार के साथ मिलकर प्राइवेट स्कूलों में आर्थिक रुप से कमजोर बच्चों को दाखिला देने की बात कही। जिसके तहत उन्होंने 18 महीनों में ही यूपी के 50 जिलों में 20 हजार से अधिक आर्थिक रुप से कमजोर बच्चों का प्राइवेट स्कूल में दाखिला करवाया। सरकारी स्कूलों में बच्चों का स्तर उठाने के लिए बच्चों को माई स्कूल, माई वॉयस का अधिकार दिलवाया। 

PunjabKesari,Nari

वोकेशनल ट्रेनिंग पर किया काम

बच्चों और टीचर्स को वह वोकेशनल ट्रेनिंग देने पर काम कर किया ताकि वह स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों में समानता ला सकें। जिनके बच्चे कम पढ़े लिखे है और जिनके अधिक पढ़े लिखे है उनके बीच तालमेल बनाया जा सके। इसके साथ ही उन्होंने स्कूल प्रिंसिपल और टीचर्स के लिए बी वोकेशनल ट्रेनिंग का सेशन आयोजित किया था। 

 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News