14 OCTMONDAY2019 11:11:33 AM
Nari

अपने सपनों को छोड़ रोशनी ने संभाला फैमिली बिजनेस, आज बनीं देश की सबसे अमीर महिला

  • Edited By khushboo aggarwal,
  • Updated: 26 Sep, 2019 06:11 PM
अपने सपनों को छोड़ रोशनी ने संभाला फैमिली बिजनेस, आज बनीं देश की सबसे अमीर महिला

घर का काम हो या ऑफिस आज महिलाएं हर क्षेत्र में आगे रह कर पुरुषों के बराबर अपनी जगह बना रही है। हाल ही में  आईआईएफएल (IIFL) वेल्थ हुरुन इंडिया द्वारा जारी की लिस्ट में भारत के सबसे अमीर बिजनेसमैन होने का दर्जा रियालंस इंडस्ट्री के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने हासिल किया है लेकिन महिलाएं भी लिस्ट में पीछे नही हैं। एचसीएल की सीईओ व कार्यकारी निर्देशिका रोशनी नादर बिजनेस वुमेन में सबसे अमीर महिला रही है। आईआईएफएल द्वारा 37 साल की रोशनी नादर की संपत्ति के आंकड़े जारी नही किए गए हैं लेकिन उन्होंने साबित कर दिया है कि महिलाएं पुरुषों से कम नही हैं। 

 

रोशनी ने चाहे अपने पिता के साथ बिजनेस को संभाला है लेकिन उन्होंने इस बिजनेस को आगे बढ़ाने में बहुत ही मेहनत की। इस बिजनेस को संभालने के लिए उन्होंने अपनी पढ़ाई व पसंद को दांव पर लगा दिया। बताते है आपको रोशनी नादर की सक्सेस स्टोरी। 

 

PunjabKesari,Nari, Roshni nadar

एक कमरे से पिता ने शुरु की थी कंपनी

तामिलनाडु के नेल्लई में नादर परिवार में रोशनी का जन्म हुआ था। रोशनी के पिता ने 1976 में 1 लाख 87 हजार रुपए के साथ एक कमरे से एचसीएल कंपनी की शुरुआत की थी। उन्होंने कंपनी को मजबूत बनाने के लिए लगातार 40 साल तक संघर्ष किया। उसके बाद उन्होंने कंपनी की जिम्मेदारी अपनी बेटी रोशनी को सौंप दी। इस समय रोशनी 31 हजार करोड़ रुपए की पूंजी व 70 हजार से ज्यादा कर्मचारियों वाली कंपनी की सीईओ हैं। 

PunjabKesari,nari,roshni nadar

अपने सपनों को छोड़ संभाली कंपनी 

रोशनी ने अपने सपनों को दांव पर लगा कर अपने पिता की कंपनी संभाली है। शुरुआत में रोशनी ने अमेरिका से मीडिया की पढ़ाई कर  अमेरिका में CNN चैनल में इंटर्नशिप कर न्यूज प्रॉड्यूसर के तौर पर काम किया हैं। कुछ समय बाद अपने पिता के संघर्ष से प्रेरणा लेते हुए रोशनी ने अपनी पढ़ाई व पसंद को छोड़ कर अपने परिवार की बिजनेस संभाला। उन्होंने अपने परिवार के आईटी बिजनेस को इंटरनेशनल लेवल पर पहुंचाया।

अमेरिका से की एमबीए 

अपने माता- पिता की इकलौती संतान होने के कारण रोशनी को शुरु से ही इस बात का पता था उन्हें एक दिन अपनी पसंद व जिम्मेदारी में से किसी एक चुनना पड़ेगा। अपनी जिम्मेदारी को चुनने के बाद 1996 से लेकर 1998 के बीच उन्होंने अमेरिका से एमबीए की। तब से लेकर अब तक वह कंपनी के ट्रेजरी ऑपरेशंस, ब्रांड बिल्डिंग प्रोजेक्ट्स में वन मैन आर्मी की तरह काम करती हैं।

PunjabKesari,nari,roshni nadar

शुरु किया एजुकेशन सेक्टर 

बिजनेस को नई पहचान दिलाते हुए रोशनी ने आईटी के साथ एजुकेशन सेक्टर में भी प्रयोग किए। यूपी में रोशनी ने नए स्कूल खोले इसके साथ ही उन्होंने शिव नडार यूनिवर्सिटी की स्थापना की। रोशनी द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में की गई पहल को काफी सराहा गया है।

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News