26 MARTUESDAY2019 11:59:50 PM
Nari

बढ़ते बच्चों की परेशानी होगी दूर अगर पापा निभाएंगे ये जिम्मेदारियां

  • Edited By Priya verma,
  • Updated: 11 Sep, 2018 11:54 AM
बढ़ते बच्चों की परेशानी होगी दूर अगर पापा निभाएंगे ये जिम्मेदारियां

बच्चे जैसे-जैसे बड़े होते जाते हैं, उनके व्यवहार में बदलाव आता रहता है। उम्र के हिसाब से बच्चों की सोच और मां-बाप के बारे में उनका नजरिया बदलता जाता है। यह बात भी सच है कि बच्चे की परवरिश सिर्फ मां ही नहीं पापा की भी जिम्मेदारी होता है। एक शोध में यह बात भी साबित हो चुकी है कि अगर मां-बाप अनुशासित होंगे तो उनके बच्चे भी पूरी तरह से नियमों का पालन करने वाले होते हैं। ऐसे में पिता को  अपने बच्चों के साथ अच्छी बाडिंग रखना बहुत जरूरी है ताकि उनका आत्मविश्वास बढ़ सके।

 

पिता हैं बच्चों के सुपर हीरो
यह बात बिल्कुल सच है कि पिता ही बच्चों के सुपह हीरो होते हैं। मां चाहे कितनी भी कोशिश कर ले लेकिन कुछ बातों बच्चे सिर्फ पापा से ही सीखते हैं। पापा का बिजनेस, उनका स्टाइल, आत्मविश्वास बच्चे को बहुत आकर्षित करता है। 

 

पिता है साइलेंट लर्निंग
भले ही काम में व्यस्त होने के कारण पिता के पास बच्चों के लिए टाइम न हो लेकिन पिता का वे साइलेंट लर्निंग का काम करते हैं। उनकी छोटी-छोटी बातें परिवार से साथ अच्छी बॉडिंग, मेहनत से काम करने का तरीका, बच्चों की फिक्र, परिवार के साथ भावात्मक रूप से जुड़ाव बच्चों को बहुत कुछ सीखा जाता है। 

 

पिता फॉलों करें ये टिप्स 
जिस तरह बच्चे पिता से कई बाते सीखते हैं, उसी तरह पिता की भी उनके लिए कुछ जिम्मेदारियां बनती है। हर बात के लिए उन्हें गुस्सा होने की बजाए प्यार से बातें समझाएं। कुछ छोटे-छोटे और स्मार्ट टिप्स से आप अपनी जिम्मेदारियां निभा सकते हैं। 

1. किशोर होते बच्चों में कई तरह के शारीरिक बदलाव आते हैं। जिससे उनका स्वभाल चिड़चिड़ा हो जाता है। आप अपना समय याद करें और उन्हें अपने अनुभव सुनाएं। इससे वे तनाव मुक्त रहेंगे। 

 

2. हर समय बच्चों की कमियां न निकालें। उनके मोटापे, ड्रेसिंग और हेयरस्टाइल पर कमेंट करने की बजाए सोसायटी पर ध्यान दें। उन्हें अच्छे दोस्त की खूबियां बताएं। 

 

3. हर काम खुद करने की बजाय धीरे-धीरे उन पर भी कुछ जिम्मेदारियां सौंपे। कुछ बातों पर उनकी सलाह भी लें। 

 

4. बच्चा सारा दिन घर से बाहर दोस्तों के साथ समय बिताता है तो उसे दोस्तों को घर पर लाने को कहें। रोक- टोक करने की बजाए कभी-कभी खुद भी उनकी मस्ती में शामिल हो जाएं। 

Related News

From The Web

ad