26 JANSUNDAY2020 4:57:00 PM
Nari

हिंदी कवयित्री तेजी को मिली स्वीडन के राजा से 'नाइट' की उपाधि

  • Edited By khushboo aggarwal,
  • Updated: 05 Dec, 2019 10:59 AM
हिंदी कवयित्री  तेजी को मिली स्वीडन के राजा से 'नाइट' की उपाधि

कहते है लेखकों और कवियों की असल पूंजी पैसा नहीं बल्कि उनका लेखन होता है। जब उन्हें उनके लिखे हुए संग्रह के लिए सम्मान मिलता है तो वह जीवन में हर धन को कमा लेते है। अपने संग्रह के लिए जीवन में मिलने वाले सम्मान से बड़ी पूंजी उनके लिए ओर कुछ नहीं होती है। अपनी इसी पूंजी को संग्रहित करते हुए हिंदी की प्रसिद्ध कवयित्री तेजी ग्रोवर ने 'नाइट' उपाधि का सम्मान हासिल किया।  ग्रोवर हिंदी की पहली लेखिका है जिन्हें यह सम्मान मिला हैं। कवयित्री के साथ चित्रकार तेजी ग्रोवर का जन्म 1955 में पठानकोट, पंजाब में हुआ था। 

 

PunjabKesari,nari


स्वीडन के राजा कार्ल ने दिया यह सम्मान

भारत की यात्रा पर आए स्वीडन के राजा कार्ल सोलहवां गुस्ताफ और महारानी सिल्विया ने हिंदी की प्रसिद्ध कवयित्री तेजी ग्रोवर को साहित्य और अनुवाद के जरिए भारत- स्वीडन के संबंधों को मजबूत बनाने के लिए 'नाइट' की उपाधि से सम्मानित किया हैं। ग्रोवर को बुधवार स्वीडन दूतावास में स्वीडी कविता के अनुवाद से साहित्य को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए 'रॉयल ऑर्डर ऑफ पोलर स्टार' और नाइट की उपाधि दी। इस अवसर पर भारत की स्वीडन के राजदूत भी थे।

 

PunjabKesari,nari

23 कवियों के अलावा कविताओं का किया अनुवाद

ग्रोवर ने स्वीडी भाषा के 23 कवियों के अलावा 'स्वीडी कवि लार्स लुंडकविस्ट' के कविता संग्रह 'टूवे ओल्गा ऑरोरा' तथा 'ऑन जाडरलुंड' की कविता के संग्रह 'फीका गुलाबी' रंग  का अनुवाद किया है। इसके अलावा उनकी अपनी कविताओं का एक संग्रह स्वीडी भाषा में इसी साल आया है। ग्रोवर ने यह सम्मान मिलने पर कहा कि स्वीडन पृथ्वी पर मेरे अपने घर जैसा देश है। नाइट की उपाधि और मैडल मेरे लिए स्वप्निल-सी चीज है। मेरे मरणोपरांत मैडल को स्टॉकहोम के केंद्रीय गिरजाघर के अजायबघर में रखा जाएगा। ग्रोवर पंजाब विश्वविद्यालय में अंग्रेजी की प्रोफैसर रह चुकी हैं। 

 

PunjabKesari,nari

 

मिल चुका है वाणी फाउंडेशन पुरस्कार 

इसी साल तेजी ग्रोवर को विदेशी साहित्य के हिंदी में अनुवाद के लिए वाणी फाउंडेशन अनुवाद पुरस्कार देकर भी सम्मानित किया जा चुका है। वह  3 भाषाओं में 13 पुस्तकों का हिंदी अनुवाद कर चुकी हैं। इसी के साथ इनकी 5 कविता संग्रह, 1 कहानी और 1 उपन्यास प्रकाशित हो चुका है। 

 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें

Related News