Twitter
You are hereNari

अब कीड़ों से बना पास्ता देगा भरपूर प्रोटीन

अब कीड़ों से बना पास्ता देगा भरपूर प्रोटीन
Views:- Wednesday, November 28, 2018-6:12 PM

पास्ता बच्चों की फेवरेट फूड लिस्ट में शामिल है। मैदे की बजाय व्हीट यानि गेहूं से बना पास्ता सेहत के लिए ज्यादा फायदामेंद है। होल वीट पास्ता के एक कप में 174 कैलोरी, फाइबर और कार्बोहाइड्रेट की मात्रा ज्यादा होती है लेकिन अगर आपको कहा जाए कि कीड़ों से बना पास्ता इससे भी ज्यादा लाभकारी है तो शायद आप हैरान हो जाएंगे। यह अजीबो-गरीब लेकिन हैल्दी डिश जल्द ही हकीकत बनने वाली है। 

घर में मौजूद कीट से ही बनाया जाएगा मीलवॉर्म

यह आपके घर में ही एक कीट की मदद से पैदा किए गए कीड़ों से तैयार किया जाएगा। हॉन्ग-कॉन्ग एंटरप्रेन्योर की 20 वर्षीय कथरीना उंगर अगर अपने इस स्टार्ट-अप में कामयाब होती हैं तो यह सच हो जाएगा। वह मीलवॉर्म का उत्पादन करने वाला एक मॉडल तैयार कर रही है जो किचन में इस्तेमाल किया जाएगा और इसकी कीमत 10,000 रुपये के करीब होगी। बता दें कि कथरीना लिविन फार्म नाम के स्टार्ट-अप की फाउंडर हैं जो 2016 से इन्सेक्ट इनक्यूबेटर बना रही हैं। 

PunjabKesari, Katharina Unger

2050 में खाने के नए तरीके तलाशेंगे लोग

कथरीना का अपने इस प्रोजेक्ट के बारे में कहना है कि 2050 तक धरती पर करीब 9 अरब लोग होंगे और पेट भरने के लिए उन्हें नए तरीके तलाशने होंगे। ऐसे में कीड़े का मांस बेहतर ऑप्शन होगा क्योंकि ये बचे हुए खाने से ही पैदा किए जा सकेंगे। इसके लिए कम पानी और कम जगह की जरूरत होगी और स्वाद भी लाजवाब होगा। 

मॉडल खरीदने पर तोहफे में मिलेगी रेसिपी मैगजीन 

अगर आप सोच रहे हैं कि कीडे पैदा करने के बाद इसे पकाना कैसे होगा तो आपकी यह परेशानी भी दूर हो जाएगी। इस मॉडल की खरीददारी करने वाले को फर्म की तरफ से तोहफे में एक रेसिपी मेगजीन भी दी जाएगी। 

PunjabKesari, insect pasta

थाइलैंड और चीन में कीडें खाना आम

कीड़े खाने के बारे में सोचते ही कुछ लोग उल्टियां करनी शुरू कर देते हैं लेकिन थाइलैंड और चीन में यह आम बात है क्योंकि हैल्थ एक्सपर्ट का मानना है कि फ्राई टिड्डे, बग्स और सिल्कवॉर्म स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक है। इसमें प्रोटीन की मात्रा उच्च और कोलेस्ट्रॉल बहुत कम होता है।

PunjabKesari, pasta

क्या प्रोटीन का विकल्प सुरक्षित है या नहीं?

प्रोटीन के इस विकल्प के बारे में अभी पूरा भरोसा नहीं किया जा सकता। वैसे मीलवॉर्म को आहार का हिस्सा बनाने का काम पहली बार नहीं हुआ है, इससे पहले स्विटजरलैंड की एक फूड चेन बग बर्गर भी लॉन्च कर चुकी है। हालांकि इसके बारे में हॉन्ग कॉन्ग के न्यूट्रिशनिस्ट माइल्स प्राइस ने कहा, प्रोटीन के ऐसे उत्पादन पर निगरानी नहीं की जा रही है जिससे खाद्य सुरक्षा और उपभोक्ताओं के बीच स्वीकार्यता का सवाल उठता है। हमें इनके प्रोडक्शन में उपभोक्ताओं में यह विश्वास जगाना होगा कि प्रोटीन का यह तरीका बिल्कुल सुरक्षित है। 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
Edited by:

Latest News