Twitter
You are hereNari

इस आदिवासी लड़की ने पहले प्रयास में ही पास किया सिविल एग्जाम

इस आदिवासी लड़की ने पहले प्रयास में ही पास किया सिविल एग्जाम
Views:- Monday, December 24, 2018-1:13 PM

ओडिशा सिविल सर्विस एग्जाम का रिजल्ट आ चुका है और खुशी की बात यह है कि इसमें टॉप 3 रैंक पर महिलाओं का कब्जा रहा। उन्होंने यह काबलियत अपने दम पर हासिल की है जो देशभर की महिलाओं के लिए प्रेरणा बन कर ऊभरी हैं। इस परिणाम को जारी हुए 2 दिन हुए हैं जिसमें कुल 106 अभ्यर्थियों ने सफलता हासिल की और 42 स्थानों पर महिलाओं का कब्जा रहा है। 

 

आदिवासी परिवार की लड़की ने पास किया सिविल सर्विस एग्जाम

परीक्षा इसलिए भी चर्चा का विषय रही क्योंकि आदिवासी किसान परिवार में जन्मीं संध्या समर्थ नाम की लड़की ने इस एग्जाम में 91वीं रैंक हासिल की। किसी आदिवासी के लिए इतनी बड़ी सफलता हासिल करना गर्व की बात है क्योंकि आदिवासी परिवार में लड़कियों को पढ़ाने से भी मना किया जाता है लेकिन इन सब मुश्किलों के बावजूद अपने हौसलों के बल पर सफलता पाना लड़की के लिए बहुत खुशी की बात है। 

 

कौन है संध्या समर्थ?

मलकानगिरी जिले के मथिलि ब्लॉक के अंतर्गत समिली गांव की रहने वाली संध्या ने अपनी शुरुआती पढ़ाई गांव के ही एक छोटे से स्कूल से की। पढ़ाई में दिलचस्पी होने के कारण स्कूल के बाद आगे की पढ़ाई के लिए नवोदय विद्यालय में दाखिला ले लिया। इसके बाद आगे की पढ़ाई भुवनेश्वर कॉलेज से की। कॉलेज पूरा करने के बाद एम.फिल में दाखिला ले लिया। 

 

एमफिल करते हुए शुरू की सिविल एग्जाम की तैयारी

एमफिल की पढ़ाई के साथ-साथ उन्होंने सिविल सर्विस की तैयारी भी शुरू कर दी। खास बात यह है कि यह सिविल एग्जाम उन्होंने पहली बार में ही क्लीयर कर लिया। संध्या ने सिविल सर्विस की परीक्षा तो पास कर ली हैं लेकिन उनका सपना आईएएस बनने का है ताकि बड़े पैमाने पर लोगों की सेवा कर सके। 

 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP
Edited by: