Twitter
You are hereNari

ससुराल के नए माहौल के लिए बेटी ही नहीं, बेटे को भी करें तैयार

ससुराल के नए माहौल के लिए बेटी ही नहीं, बेटे को भी करें तैयार
Views:- Sunday, October 21, 2018-12:03 PM

शादी तय होने के बाद पेरेंट्स बेटी को ससुराल की तैयारी करवाना शुरू कर देते हैं। उन्हें सिखाया जाता है कि किस तरह ससुराल वालों के साथ तालमेल बिठाना है और कैसे सभी का ख्याल रखना है। मगर सिर्फ बेटी ही नहीं बल्कि बेटे को भी ससुराल की तैयारी करवाना बहुत जरूरी है। आज हम आपको यही बताएंगे कि किस तरह बेटे को ससुराल के नए माहौल के लिए तैयार करनी चाहिए।

 

बेटों को भी करें ससुराल के लिए तैयार
घर के काम सिर्फ बेटियों को ही नहीं बल्कि बेटों को करने की आदत डालें। शुरूआत से ही उन्हें घर के छोटे-मोटे काम सिखाएं। घर के कामों की जिम्मेदारी सिर्फ लड़कियों की ही नहीं बल्कि बेटों की भी होती है। भले ही घर में नौकर हो लेकिन खुद के काम करने की आदत तो हर लड़के में होनी चाहिए।

PunjabKesari

सास-ससुर का आदर
सिर्फ लड़की ही नहीं बल्कि लड़को को भी उनके ससुराल वालों का आदर करना सिखाएं। उन्हें बताए कि अब वह भी उनके पेरेंट्स की तरह है और उन्हें अब उनकी जिम्मेदागी भी निभानी है।

लड़को को भी सिखाएं किचन का काम
लड़कियों के साथ-साथ लड़कों को भी किचन के कुछ काम आने चाहिए। अगर शादी के बाद पत्नी नौकरीपेशा होगी तो यह हमेशा उनके काम आएगा।

घर के रीति-रिवाजों को अपनाएं
जिस तरह लड़की अपने ससुराल के हर रीति-रिवाज का सम्मान करती है उसी तरह आपको भी उनकी मान्यताओं को समझना चाहिए। अगर आप उनके घर के रीति-रिवाजों को फॉलो करेंगे तो आपकी पत्नी को अच्छा लगेगा।

बच्चों को प्यार और बड़ों को दें सम्मान
अपने बेटे को बताए कि उन्हें सबसे पहले बच्चों के साथ दोस्ती करनी चाहिए। इसके अलावा बड़ों के लिए आपके मन में सम्मान की भावना होनी चाहिए।

PunjabKesari

हमउम्र से कीजिए दोस्ती
जिस तरह लड़की को उनके देवर या ननंद से दोस्ती करने के लिए कहा जाता है उसी तरह लड़के को भी अपनी सालियों से दोस्ती करनी चाहिए। आप चाहे तो होने वाली पत्नी के घर में जो भी आपका हमउम्र हो उससे दोस्ती करें।

खुशियों में शामिल हों
घर में जो भी खुशी का मौका हो तो उसमें शामिल हों और कोशिश करें कि आपकी वजह से उस मौके को और ज्यादा खास बनाया जा सके।

रिश्तेदारों को भी प्यार दें
ससुराल में घर के सदस्यों के अलावा कुछ रिश्तेदार भी हो सकते हैं इसलिए आपको घर वालों के साथ-साथ रिश्तेदारों को भी प्यार देना चाहिए। अगर किसी रिश्तेदार का स्वभाव आपको अटपटा लगे तो पहले अपनी पत्नी को इस बारे में बताएं।


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP
Edited by: