20 MARWEDNESDAY2019 8:41:20 PM
Nari

Word Sleep Day: ये 5 संकेत बताएंगे कि आपको हो गई हैं नींद की कमी

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 15 Mar, 2019 01:59 PM
Word Sleep Day: ये 5 संकेत बताएंगे कि आपको हो गई हैं नींद की कमी

हम सिर्फ इसलिए नहीं सोते हैं क्योंकि हमें नींद आती है बल्कि नींद हमारे शरीर के लिए चार्जर का काम भी करती है। जब हम सोते हैं तो शारीरिक और मानसिक शांति मिलने के साथ ही हमारा दिमाग चार्ज भी होता है। 15 मार्च को इंटरनेशनल स्लिप डे मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का मकसद लोगों को नींद की पूर्ति के प्रति जागरुक करना है। काम के चक्‍कर में लोग अक्सर देर रात तक जागते रहते हैं और सुबह फिर वे जल्‍दी उठ जाते हैं। इस कारण उनकी नींद पूरी नहीं हो पाती और इस अधूरी नींद के कारण उन्‍हें कई बीमारियों का सामना करना पड़ता है। शोधों के मुताबिक नींद पूरी ना होने पर डायबिटीज और हार्ट प्रॉब्लम्स का खतरा बढ़ सकता है। आइए जानते हैं नींद की कमी से होने वाली परेशानियों के बारे में-

 

चिड़चिड़ापन

जब आपकी नींद पूरी नहीं होती, तो स्वभाव में चिड़चिड़ापन आना लाजमी है। ऐसे लोगों को बहुत जल्दी गुस्सा आ जाता है। वे चिंता या डिप्रेशन का शिकार हो सकते हैं। उनका बर्ताव भी असामान्‍य हो सकता है। उनकी स्‍मरण शक्ति पर भी असर पड़ता है और वे किसी बात पर अच्‍छी तरह ध्‍यान नहीं दे पाते।

 

कमजोर याददाशत 

अगर आप बढ़ती उम्र के साथ पर्याप्त नींद नहीं ले रहे, तो सावधान हो जाइए। आपके दिमाग के घटते आयतन का संबंध कम नींद से हो सकता है। नींद की कमी से दिमाग के अलग-अलग भागों पर बुरा असर पड़ता है।

PunjabKesari

 

ओबेसिटी का कारण

नींद की कमी के कारण युवा लड़कों में मोटापे का खतरा बढ़ जाता है लेकिन हैरान करने वाली बात यह है कि युवा लड़कियों के मामले में ऐसा नहीं है। अगर कोई किशोरी कम नींद लेती है तो उसे इस कारण मोटापे की समस्या का सामना नहीं करना पड़ता।

 

तनाव का खतरा

नींद की कमी का जल्द इलाज ना कराया जाए, तो इससे गंभीर समस्या पैदा हो जाती है। नींद न आने पर रोगी हमेशा के लिए डिप्रेशन का शिकार हो सकता है। ऐसे में व्यक्ति के दिमाग का न्यूरोट्रांसमीटर कमजोर हो जाता है। अगर डिप्रेशन का समय पर इलाज न किया जाए तो सेहत पर बुरा असर पड़ता है।

PunjabKesari

 

दिल के लिए खतरनाक

नींद और हार्ट पल्स का गहरा संबंध होता है। एक स्टडी में पता चला है कि 96 प्रतिशत हार्ट प्रॉब्लम्स के मरीजों में नींद के दौरान सांस से जुड़ी परेशानी पाई जाती है। दिल के मरीजों में आधे से ज्यादा मरीज नींद संबंधी समस्या से भी जुझ रहे होते हैं। 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News

From The Web

ad