20 MAYMONDAY2019 3:44:12 AM
Nari

ना कोई Rule ना ही Silence, बच्चों के लिए बनी है यह अनूठी लाइब्रेरी

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 17 Apr, 2019 05:23 PM
ना कोई Rule ना ही Silence, बच्चों के लिए बनी है यह अनूठी लाइब्रेरी

जकार्ता शहर से बाहर निकलते ही एक फ्लाईओवर के नीचे 2 सड़कों के बीच खाली जगह में नन्हे बच्चों के लिए एक लाइब्रेरी चलाई जा रही है। अन्य किसी भी लाइब्रेरी की तरह इस पर चुप्पी का नियम लागू नहीं होता क्योंकि यहां सारा दिन आस-पास गुजरती गाड़ियों का शोरगुल रहता है। इसके बावजूद बच्चे यहां बेहद खुश होते हैं। 3 करोड़ की जनसंख्या वाला जकार्ता दुनिया के कुछ सबसे खराब ट्रैफिक जामों के लिए बदनाम है।

PunjabKesari

लाइब्रेरी के लिए इस असामान्य स्थान के बावजूद 'तमान बाका मासयाराकट कोलांग' नामक यह लाइब्रेरी हिट हो चुकी है। सार्वजनिक पुस्तकालयों की कमी के चले यह कुछेक स्थानों में से एक है जहां इलाके के बच्चे किताबें पढ़ सकते हैं। लाइब्रेरी की कोऑर्डिनेटर देविना फैब्रियांती कहती हैं कि हम बच्चों को किताबों के करीब लाना चाहते थे।

PunjabKesari

कई साल पहले जाकार्ता के इस फ्लाईओवर के नीचे गंदगी के ढेर लगे रहते थे और चारों उचक्कों का ठिकाना था लेकिन कुछ स्थानीय संगठनों ने इस फ्लाईओवर के नीचे सफाई करके इसका कायाकल्प कर दिया। कलाकारों मे दीवारों पर सुदंर पेटिंग्स बनाई है, यहां घास जैसी हरे रंग की मैट बिछाई गई, गमलों में पौधे लगाए गए और कई दर्ज पुस्तकों के साथ एक पुस्तकालय में इस बदल दिया गया। हालांकि, 2016 में जब इसे चालू किया गया तो उसका खास स्वागत नहीं हुआ।

PunjabKesari

देविना कहती हैं कि शुरूआत में हर कोई इस अभियान के साथ नहीं था क्योंकि हमसे पहले ही कुछ लोग इस जगह का इस्तेमाल कर रहे थे। सबस पहले हमने इस जगह का इस्तेमाल करने वाले गैंगस्टरों और फिर एंगकोट (मिनी वैन्स) ड्राइवरों से माफी मांगी। इसके बाद बच्चों के माता-पिता को भरोसा में लेना भी आसान नहीं था, जिन्हें डर था कि यहां से उनके बच्चे का अपहरण हो सकता है या व्यस्त सड़क पर उनका एक्सीडेंट ना हो जाए। आखिर ममें माता-पिता और गैंगस्टरों को भी इस लाइब्रेरी का विचार अच्छा लगने लगा।

PunjabKesari

आज स्कूल के बाद यहां 70 से अधिक बच्चे पहुंचते हैं जहां वे टीचरों के साथ कहानियां पढ़ते हैं, होमवर्क में मदद लेते हैं या नाच-गाने का आनंद उठाते हैं। यहां बुकशैल्फ भी बनाई हैं, जो बच्चों की किताबों से भरी हैं। 11 वर्षीय स्टूडेंट एमिलिया क्लारा बताती हैं कि उसे यहां आकर दोस्तों के साथ कहानियां पढ़ना पसंद है, खासकर कहानियों वाली किताबें। इलाके के पास रहने वाले अभिभावकों का भी अब मानना है कि नई चीजें सीखने से लेकर खेलने के लिए भी उनके बच्चों के लिए यह एक शानदार जगह है।

PunjabKesari

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News

From The Web

ad