14 OCTMONDAY2019 12:12:57 PM
Nari

तेजी से करना है Weight loss तो फॉलो करें रिवर्स डाइट, जानें इसके बारे में सबकुछ

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 06 Oct, 2019 09:28 AM
तेजी से करना है Weight loss तो फॉलो करें रिवर्स डाइट, जानें इसके बारे में सबकुछ

वजन घटाने के लिए लोग नई-नई तरह की एक्सरसाइज और डाइटिंग अपनाते रहते हैं। आजकल लोगों में रिवर्स डाइटिंग का क्रेज खूब देखने को मिल रहा है लेकिन क्या वाकई ये डाइटिंग फायदेमंद है। यह एक ऐसी तकनीक है, जिसका इस्तेमाल बॉडी बिल्डर्स, एथलीट्स वेट लॉस के वक्त एनर्जी लेवल को बढ़ाने के लिए करते हैं। चलिए आपको बताते हैं कि क्या है रिवर्स डाइटिंग और कैसे करती है यह काम...

क्या है रिवर्स डाइटिंग?

रिवर्स डाइटिंग एक ऐसा डाइट प्लान है जो धीरे-धीरे कैलोरी इनटेक को बढ़ाता है। यह डाइट कैलोरी-रिस्ट्रिक्टेड (कैलोरी को बिल्कुल छोड़ना) के बाद ली जाती है। साथ ही इसे मेटॉबॉलिज्म बूस्ट होता है और वेट लूज प्रक्रिया तेज होती है। अगर आप अपनी पुरानी डाइट के साथ वजन घटाना चाहते हैं तो भी यह आपके लिए फायदेमंद है।

PunjabKesari

बॉडी बिल्डर्स में ज्यादा फेमस है यह डाइट

यह डाइट बिल्डर्स और एथलीट्स में ज्यादा पॉप्युलर है क्योंकि इससे एनर्जी लेवल बनी रहता है। साथ ही यह वेट को भी मैटेन रखती हैं। एक्सपर्ट के मुताबिक, इससे भूख कम लगती है, जिससे आप ओवरइटिंग से बचे रहते हैं और वजन घटाने में मदद मिलती है।

कैसे काम करती है रिवर्स डाइटिंग?

ज्यादातर डाइट प्लान में कंज्यूम की गई कैलोरी से ज्यादा कैलोरी बर्न करने पर ध्यान दिया जाता है। मगर इसमें कैलोरी इनटेक को कम करते हुए आपके वर्कआउट या उसकी इंटेन्सिटी को बढ़ाने पर ज्यादा फोकस किया जाता है।

PunjabKesari

कैसे करें रिवर्स डाइटिंग?

रिवर्स डायटिंग में आपको सामान्य इन्पुट से 50 से 100 कैलोरी लेनी होती है, जिसे 4-10 हफ्ते तर फॉलो करना होता है। मगर ध्यान रहें कि इस दौरान आपका प्रोटीन इनटेक एक सामान हो। इसके साथ ही नॉन एक्सरसाइज एक्टिविटी जैसे बात करना, चलना और सामान्य काम भी करते रहें, ताकि कैलोरी लेवल बैलेंस हो सके।

PunjabKesari

क्या वेट लॉस में मददगार है रिवर्स डायटिंग? 

रिवर्स डायटिंग के जरिए अनहेल्दी फूड को खाने की अच्छा कम होती है। ऐसे में देखा जाए तो  वेट लॉस के लिए अच्छा है। इससे मेटाबॉलिज्म बूस्ट होता है और डाइटिंग के बाद दोबारा वजन बढ़ने का खतरा नहीं रहता। हालांकि इस पर पूरी तरह विश्वास भी नहीं किया जा सकता।

चलिए अब हम आपको बताते हैं कि इस डाइटिंग से आपको क्या-क्या फायदे होते हैं...
-कैलोरी इनटेक के बढ़ने से आपका मेटाबॉलिज्म मजबूत होता है जिसकी वजह से नॉन एक्सरसाइज एक्टिविटी थर्मोजेनेसिस (NEAT) के जरिए भी कैलोरी बर्न की जाती है। इसमें चलना, बात करना जैसी चीजें शामिल हैं.
-रिवर्स डाइटिंग आपके लेप्टिन हॉर्मोन को सही रखने में मदद करता है, जो वजन को कंट्रोल करता है।
-ज्यादा कैलोरी इनटेक से आप खुद को एनर्जेटिक महसूस करते हैं। इसकी वजह से आपका मूड भी ठीक रहता है साथ ही आपका कॉन्सनट्रेशन भी बढ़ता है।

PunjabKesari

होते हैं कई नुकसान भी...

इसकी मदद से आप कुछ समय के लिए तो अपना वजन घटा सकते हैं लेकिन इसका आपके मेटाबॉलिज्म पर बुरा प्रभाव पड़ता है। ज्यादा तेज मेटाबॉलिज्म आपकी पूरी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है, और हो सकता है कि अगर आप दोबारा अपने डाइटिंग रुटीन पर लौटना चाहें तो ये भी आपके लिए संभव न हो।

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News