23 OCTWEDNESDAY2019 12:17:02 AM
Nari

गुस्सा भी तेजी से बढ़ाता है वजन और बनता है कई बीमारियों की वजह, जानिए कैसे ?

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 17 Jun, 2019 07:05 PM
गुस्सा भी तेजी से बढ़ाता है वजन और बनता है कई बीमारियों की वजह, जानिए कैसे ?

बात छोटी हो या बड़ी, जब खुद पर कंट्रोल नहीं रहता है तो गुस्सा आता है। जिसे हम आम सी बात समझ लेते हैं जबकि ऐसा नहीं है। यह सिर्फ रिश्तों को ही खराब नहीं करता बल्कि आपकी सेहत को भी नुकसान पहुंचाता है। हमारे शरीर, दिमाग यहां तक कि बढ़ते वजन की वजह भी गुस्सा हो सकता है। जी हां, आप सही पढ़ रहे हैं कि गुस्सा करने से वेट बढ़ता है। और यह हम नहीं बल्कि रिसर्च में कहा गया है।

चलिए जानते हैं कैसे गुस्सा करने से वेट बढ़ता है लेकिन उससे पहले जानते हैं गुस्सा आता क्यों है...

जब हमारी इच्छा पूरी नहीं होती या फिर किसी के साथ बोलने, ज्यादा डांटने, धैर्य की कमी के कारण गुस्सा आ जाता हैं। वहीं नींद पूरी ना होना, काम का प्रेशर, स्ट्रेस  मानसिक तनाव भी गुस्से की वजह बनता है। वहीं आजकल खराब लाइफस्टाइल, हिंसक प्रोग्राम बच्चों के दिमाग पर काफी असर डालते है, जिससे की वह भी छोटी छोटी बातों पर उत्तेजित हो जाते हैं। 

गुस्से से कैसे बढ़ता है वजन?

गुस्से से हमारे शरीर में न केवल भावनात्मक बल्कि रासायनिक प्रक्रियाएं भी होती है। इन रासायनिक प्रक्रियाओं से एड्रेनालाइन जारी होता है। यह हमें लड़ाई के लिए तैयार करता है, इस दौरान हमारी शक्ति शरीर के अंगों में फ्लो होती है लेकिन जब इसका स्तर कम होने लगता है तो हमें भूख लगती हैं, हम अपनी खोई हुई एनर्जी को दोबारा भरने की कोशिश में  जो मिलता है, खाने लगते है जो वजन बढ़ाने का ही काम करता है।

PunjabKesari

 

शरीर पर होता है यह असर 

- आंखें लाल हो जाती है
- दिल में जलन होने लगती हैं। 
- ब्लड प्रेशर बढ़ जाता हैं। 
- सोचने समझने की शक्ति कमजोर हो जाती हैं। 
- पाचन तंत्र कमजोर हो जाता है, जिससे एसिडिटी, कब्ज  हो जाती हैं। 
- नींद नहीं आती है, स्वस्थ्य प बुरा असर पड़ता हैं।  

गुस्से के लक्षण 

- जल्दी जल्दी खाना खाना 

PunjabKesari

- बैचेनी होते रहना 

- काम के दौरान चिडचिड़ापन महसूस होना
- खुद को ही नुकसान पहुंचाना 

 

इस तरह गुस्से को करें कम

- गहरी सांस लें, यह दिमाग के क्रोध सर्किट को बंद करने में मदद करता हैं।  
- गुस्सा आने पर चुप रहे, कुछ न बोले। 
- रोजाना ध्यान लगाएं, इससे जीवन शांत व संतुलित रहता हैं। 

PunjabKesari
- लड़ाई या गुस्से वाली स्थिति से तुरंत हट जाएं। 
- अपनी आखों व कानों को बंद कर लें, इससे जिस कारण लड़ाई हो रही है वह आप न ही सुन पाएंगे या न ही देख पाएंगे। 
-  किताब पढ़ें, संगीत सुनें और एरोमाथेरेपी करें। 

PunjabKesari
- सोने और जागने की दिनचर्या बनाएं, जिससे की आप तनाव मुक्स हो सकें। 
- -कमरे को साफ करें, पिक्चर देखें या बाहर जा कर थोड़ा घूम आएं। 
 

Related News