Twitter
You are hereNari

क्यों होती है 'प्रेग्नेंसी क्रेविग'? इस तरह करें कंट्रोल

क्यों होती है 'प्रेग्नेंसी क्रेविग'? इस तरह करें कंट्रोल
Views:- Tuesday, December 25, 2018-4:26 PM

प्रेग्नेंसी के दौरान महिला का मन बहुत मचलता है। कभी खट्टा तो कभी कुछ मीठा खाने की बार-बार इच्छा होती है। चाट, गोलगप्पे, डोसा, चटनी, अचार आदि गर्भवती महिला को बहुत भाता है। इस स्थिति को 'प्रेग्नेंसी क्रेविग' कहा जाता है। ऐसा शरीर में होने वाले हार्मोंस के असंतुलन की वजह से होता है। आइए जानें, इस स्थिति में महिलाओं का दिल बार-बार कुछ खास चीजें खाने क्यों करता है?

 

हार्मोंस के बदलाव हैं जिम्मेदार 

गर्भावस्था में हार्मोंस बहुत तेजी के साथ बदलते हैं। शरीर में आए इस बदलाव की वजह से खाने-पीने की इच्छा भी बदलती रहती है। इस समय खाने-पीने में होने वाली इन इच्छाओं को सामान्य माना जाता है। प्रेग्नेंसी में कभी चटपटी इमली तो कभी मिठाइयां पसंदीदा बन जाती हैं लेकिन ऐसी स्थिति में उन्हें खाने से नहीं रोका जा सकता। 

PunjabKesari, Pregnancy Craving

ज्यादा खाने पहुंचा सकता है नुकसान 

ऐसे में गर्भ में पल रहे बच्चे और अपनी सेहत का ख्याल खुद ही रखना पड़ता है। मन को न ललचाएं और हर चीज का स्वाद लें लेकिन ओवरवेट होने से बचें क्योंकि यह मां और बच्चे दोनों की सेहत के लिए हानिकारक है।  

 

खाने की हर चीज नहीं होती फायदेमंद


हर समय कुछ न कुछ खाने की इच्छा को फूड क्रेविंग कहा जाता है। यह बात भी सच है कि खाने की सिर्फ एक चीज में पोषक तत्वों की कमी पूरी नहीं की जा सकती। इसके लिए बैलेंस डाइट का सेवन करना बहुत जरूरी है। वहीं, कभी-कभार कुछ खा लेना ठीक है मगर हर समय कुछ न कुछ खाने की इच्छा होने से परेशानियां बढ़ सकती हैं।

PunjabKesari, Pregnancy food

खुद को रखें व्यस्त

इस दौरान कोशिश करें कि जितना हो सके खुद को व्यस्त रखें। खाली बैठने से बार-बार खाने की तरफ ध्यान जाएगा। ऐसे में अपने शौक पूरे करें, पेंटिंग, बुक पढ़े, अखबार पढ़े, किसी से बात करें या फिर पसंदीदा टीवी शो भी देख सकते हैं। 

 

योग के लिए समय निकालें

प्रेग्नेंसी में भारी काम करना मना होता है लेकिन यह मत भूलें कि आपका और बच्चेे का सेहतमंद होना बहुत जरूरी है। इसके लिए दिन में कम से कम आधा घंटा योग के लिए समय जरूर निकालें। इससे बार-बार खाने की इच्छा भी कंट्रोल होनी शुरू हो जाएगी और पोष्टिक आहार खाने का भी मन करेगा। 

 

क्रेविंग होने पर पानी पिएं

खाना खाने के बाद यानि पेट भरा होने पर भी फूड क्रेविंग की इच्छा हो तो 1 गिलास पानी का सेवन करें। ऐसा कई बार डिहाइड्रेशन की वजह से भी होता है। यहा कारण है कि प्रेग्नेंसी में भरपूर पानी पीने की सलाह दी जाती है। 

PunjabKesari, Drink water in Pregnancy

घर का बना खाना खाए

कोशिश करें कि खाना हमेशा घर का बना ही खाएं। बाहर का मसालेदार भोजन या फिर प्रोसेस्ड फूड आपकी सेहत बिगाड़ सकता है। इसकी जगह पर सूप, अंकुरित अनाज, ड्राई फ्रूट, हरी सब्जियां आदि शामिल करें। 

 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP
Edited by:

Latest News