15 OCTTUESDAY2019 12:49:51 AM
Nari

Health Alert: क्या आप भी स्किप कर देते हैं Breakfast? तो जान लीजिए 5 बड़े नुकसान

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 05 Mar, 2019 07:10 PM
Health Alert: क्या आप भी स्किप कर देते हैं Breakfast? तो जान लीजिए 5 बड़े नुकसान

बिजी शेड्यूल और भागमभाग के चलते कई लोग सुबह नाश्ता नहीं कर पाते हैं। वजन घटाने की कोशिश करने वाले भी कई बार यह सोचकर ब्रेकफास्ट छोड़ देते हैं कि इससे वे कैलोरी कम कर सकेंगे लेकिन क्या आप जानते हैं कि  यह गलती आपकी हेल्थ को भारी नुकसान पहुंचा सकती है। हकीकत तो यह है कि दिनभर के आहार में सुबह का नाश्ता सबसे ज्यादा जरूरी होता है और सुबह का ब्रेकफास्ट न करने से न सिर्फ आपको टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा तीन गुना बढ़ जाता है बल्कि जो लोग पहले से ही मोटापे का शिकार हैं उनमें तो इसका खतरा और भी ज्यादा होता है।

 

30 प्रतिशत लोग नहीं करते सुबह का नाश्ता 

एक डेटा के मुताबिक दुनियाभर के 30 प्रतिशत लोग ऐसे हैं जो ब्रेकफास्ट नहीं करते। एक्सपर्ट्स की मानें तो भारत में ब्रेकफास्ट न करना शहरी कल्चर का हिस्सा बनता जा रहा है और वह भी खासतौर पर युवाओं के बीच। बुजुर्गों में यह ट्रेंड देखने को नहीं मिलता। इसकी मुख्य वजह यह है कि काम से जुड़े स्ट्रेस और ऑफिस तक पहुंचने में लगने वाले समय की वजह से ज्यादातर लोग या तो ब्रेकफास्ट स्किप कर देते हैं या फिर बहुत थोड़ा सा खाते हैं। डॉक्टरों की मानें तो डाइनिंग टेबल पर बैठकर हेल्दी और होलसम ब्रेकफास्ट करना बेहद जरूरी है क्योंकि बैलेंस्ड डाइट के जरिए ही शरीर में शुगर के लेवल को कंट्रोल में रखा जा सकता है। 

 

डायबिटीज का खतरा

वैसे लोग जो सुबह की पहली मील यानी ब्रेकफास्ट नहीं करते उनमें टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा 33 प्रतिशत ज्यादा होता है। इतना ही नहीं वे लोग जो सप्ताह में 4 दिन ब्रेकफास्ट नहीं करते उनमें तो डायबीटीज होने का खतरा 55 प्रतिशत अधिक होता है। 

 

वजन बढ़ना

अगर आपको लगता है कि ब्रेकफास्ट स्किप करने से वजन कम होता है तो आप बिल्कुल गलत हैं। कई स्टडी में इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि रोजाना ब्रेकफास्ट करने से शरीर का वजन सही बना रहता है। इसके अलावा स्टडी में ये भी बताया गया है कि जो लोग ब्रेकफास्ट स्किप करते हैं वो लंच और डिनर में ज्यादा खाते हैं जिससे वजन बढ़ता है।

PunjabKesari

मेटाबॉलिज्म पर असर

ब्रेकफास्ट स्किप करने से शरीर के मेटाबॉलिज्म को नुकसान पहुंचता है। दिनभर के किसी भी आहार को स्किप करने से शरीर पर बुरा असर पड़ता है। लंबे समय तक न खाने से शरीर की कैलोरी बर्न करने की कम होती है।

 

भूख लगने के साथ गुस्सा आना

ज्यादा लंबे समय तक भूखा रहने से कई लोगों को गुस्सा आने लगता है। एक स्टडी में ये बात सामने आई थी कि जो लोग रोजाना ब्रेकफास्ट करते हैं उनका मूड उन लोगों के मुकाबले अच्छा रहता है जो ब्रेकफास्ट नहीं करते। इसके अलावा इससे ब्लड शुगर का स्तर भी कम होता है। 

 

मूंह से बदबू आना

ब्रेकफास्ट न करने से सिर्फ सेहत पर ही बुरा असर नहीं पड़ता है, बल्कि इससे आपकी सोशल लाइफ भी प्रभावित हो सकती है।. जी हां, ब्रेकफास्ट न करने से मूंह में सलाइवा कम मात्रा में बनता है, जिससे जीभ पर मौजूद बैक्टीरिया दूर नहीं हो पाते हैं और मूंह से बदबू आने लगती है।

PunjabKesari

हैल्दी ब्रेकफास्ट खाना भी बहुत जरूरी

देसी ब्रेकफास्ट

भारतीयों में देसी ब्रेकफास्ट को लेकर सोच बदल रही है। ज्यादातर लोग मानते हैं कि भारतीय नाश्ता जैसे पराठे, चीला आदि वजन बढ़ाते हैं। हालांकि, यह पूरी तरह सच नहीं है। अगर इन्हें सही ढंग से और सही मात्रा में  खाया जाए तो यह इंडियन ब्रेकफास्ट डिशेज वजन बढ़ाएंगी नहीं बल्कि घटाएंगी। 

PunjabKesari

प्रोटीनयुक्त ब्रेकफास्ट

अगर आप ज्यादा प्रोटीन और कार्बोहायड्रेट्स वाला ब्रेकफास्ट करते हैं तो पेट ज्यादा देर तक भरा रहता है। लंच में भी आप ओवरइटिंग नहीं करते। यहां तक कि डिनर आप लाइट भी करें तब भी पेट भरा हुआ ही महसूस होता है। ऐसे में वजन कम करने में काफी मदद मिलती है। पनीर में काफी प्रोटीन होता है। सुबह पनीर के पराठे बनाएं और उसे गर्मागर्म ही खाएं। इसके साथ आप चटनी या दही खा सकते हैं। 

 

लाइट एंड हेल्दी ब्रेकफास्ट

बेसन से बनने वाले ढोकले न सिर्फ लाइट होते हैं बल्कि पेट के लिए डाइजेस्ट करने में भी आसान होते हैं। अगर आप कैलरीज कम करना चाहते हैं तो यह देसी नाश्ता आपके लिए बेस्ट है। सत्तू का पराठा भी हेल्दी देसी ब्रेकफास्ट में से एक है। पराठा बनाते वक्त सत्तू के साथ चना दाल पाउडर, अमचूर और अजवाइन मिलाएं। इससे पराठा और स्वादिष्ट बनेगा। इस पराठे से आपका पेट देर तक भरा रहेगा।

PunjabKesari

 

ब्रेकफास्ट को स्किप ना करें

अगर आप किसी भी मील को फिर चाहे वह ब्रेकफास्ट हो, लंच या फिर डिनर लगातार कई दिनों तक स्किप करते हैं तो इससे आपके बॉडी सिस्टम पर तनाव बढ़ता है और हॉर्मोन इंसुलिन कम ऐक्टिव होने लगता है और ब्रेकफास्ट तो सुबह का सबसे पहला और सबसे जरूरी मील है। लिहाजा आपके सुबह का ब्रेकफास्ट बेहद बैलेंस्ड होना चाहिए। इसमें हेल्दी प्रोटीन की मात्रा अधिक होनी चाहिए, कार्बोहाइड्रेट कम और मक्खन जैसे सैच्युरेटेड फैट बेहद कम। इतना ही नहीं अगर कोई व्यक्ति ब्रेकफास्ट नहीं करता है तो वह स्ट्रेस में आ जाता है और दूसरे अनहेल्दी बिहेवियर अपना लेता है।' 

PunjabKesari

 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News