17 SEPTUESDAY2019 1:45:41 AM
Nari

गर्भावस्था मे अधिक विटामिन्स लेने से हो सकती है परेशानियां

  • Updated: 23 Dec, 2017 06:58 PM
गर्भावस्था मे अधिक विटामिन्स लेने से हो सकती है परेशानियां

विटामिन्स की मात्रा : प्रैग्नेंसी हर मां के लिए सुखद का पल है। जब कोई औरत मां बनने वाली होती है तो उसे अपनी डाइट का विशेष ख्याल रखने को कहा जाता है, जो मां और बच्चे की सुरक्षा के लिए जरूरी भी है। प्रैग्नेंट महिला को अपनी डाइट में ऐसे आहार को शामिल करना चाहिए, जिनमें भरपूर प्रोटीन, विटामिन्स, आयरन और कैल्शियम मौजूद हो लेकिन इनकी मात्रा पर अत्यधिक ध्यान रखना चाहिए क्योंकि जरूरत से ज्यादा पोषक तत्व लेने से प्रॉबल्म बढ़ सकती है। बहुत सी महिलाएं प्रैग्नेंसी में विटामिन की कमी को पूरा करने के लिए सप्लीमेंट का सहारा लेती है जो मां और बच्चे के लिए हानिकारक हो सकते है। इसलिए सप्लीमेंट लेने से पहले अपने डॉक्टर से अच्छे से सलाह करें। उनकी सलाह से ही अपनी डाइट में इन पोषक तत्वों की मात्रा को पूरा करें। आज हम आपको इसी के बारे में बताएंगे कि प्रैग्नेंसी में जरूरत से ज्यादा विटामिन्स लेने से कैसे मां और बच्चे को नुकसान पहुंच सकता है। 

 

1. विटामिन ए

PunjabKesari
ज्यादा मात्रा में विटामिन ए लेने से लीवर को नुकसान हो सकता है। कई बार तो गर्भपात का खतरा भी बना रहता है। अगर आप विटामिन ए का सेवन कर रही है तो अपने डॉक्टर से उसकी मात्रा के बारे में अच्छे से बात कर लें। 

 

2. विटामिन बी1
विटामिन बी1 की अधिक मात्रा लेने से एलर्जी, हार्ट पैल्पिटैशन्ज, सीने में दर्द, सांस लेने में दिक्कत और उल्टी के साथ खून आने की प्रॉबल्म हो सकती है। इसलिए अपनी डाइट में विटामिन बी1 मात्रा को सीमित रखें।

 

3. विटामिन बी6
प्रैग्नेंसी में विटामिन बी6 भी जरूरी है लेकिन जरूरत से ज्यादा लेने से गर्भ में पल रहे शिशु को नुकसान हो सकता है। इसके अलावा, इससे दर्द, त्वचा पर दब्बे और मतली जैसी दिक्कतें आ सकती है। 

 

4. विटामिन बी12
विटामिन बी12 की अत्यधिक मात्रा भी फायदे की जगह नुकसान पहुंचा सकती है। इससे खुजली, दिल संबंदी बीमारी और चक्कर आने की समस्या रह सकती है। इस विटामिन की अधिक मात्रा लेने से ल्यूकेमिया होने का खतरा भी बन सकता है। 

 

5. विटामिन सी
वैसे तो विटामिन सी गर्भवती महिला और उसके शिशु के लिए जरूरी है लेकिन अधिक मात्रा में इसका डाइट में शामिल करने से यह विटामिन हमारे शरीर में ऑक्सालेट में बदलकर यूरिन के जरिए बाहर निकल जाता है। अगर इसकी मात्रा बढ़ जाए तो इसको शरीर से बाहर निकाल पाना मुश्किल हो जाता है। 


 

फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP

Related News