Twitter
You are hereNari

इन 6 कारणों से नौजवानों के घुटनों में भी हो सकती हैं दर्द की समस्या

इन 6 कारणों से नौजवानों के घुटनों में भी हो सकती हैं दर्द की समस्या
Views:- Thursday, June 7, 2018-11:13 AM

पुराने जमाने में घुटने में दर्द होने की समस्या केवल बूढ़े लोगों में ही देखने को मिलती थी। घुटनों में होने वाले दर्द को आमतौर पर बुढ़ापे की बीमारी समझा जाता था। मगर आजकल यह समस्या बच्चों और नौजवानों में भी देखने को मिल रही है। गलत-खान पान, शरीर में यूरिक एसिड के बढ़ने से भी घुटनो और जोड़ों में दर्द होने लगता है। इसके अलावा इस समस्या के होने पर जोड़ों में सूजन भी होती है और रोगी को चलना-फिरना मुश्किल हो जाता है। दर्द से छुटकारा पाने के लिए लोग बिना इसका कारण जाने ही दवा खाने लगते हैं। किसी भी चीज का इलाज तब ही होता है जब उसके पीछे का कारण ढूंढा जाएं। आज हम आपको उम्र से पहले शरीर में होने वाले दर्द का कारण बताएंगे तो आइए जानते है उनके बारे में। 

 

1. मोटापा
समय से पहले घुटनों में दर्द होने का एक कारण मोटापा भी है। शरीर का वजन बढ़ने का सबसे ज्यादा असर घुटनों पर ही पड़ता है। जब जरूरत से ज्याजा वजन घुटनों पर पड़ने लगता है तो जोड़ों में दर्द होने लगता है। इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए जरूरी है कि अपनी उम्र के हिसाब से वजन रखा जाए।

 

2. मांसपेशियों में बदलाव
कई बार मांसपेशियों में बदलाव होने के कारण भी उम्र से पहले ही जोड़ों में दर्द होने की समस्या बढ़ सकती है। 20 से 60 साल की आयु के बीच में मांसपेशियां तकरीबन 40 फीसदी तक सिकुड जाती है। उनमें शक्ति कम होने लगती हैं। जब हम चलते है या फिर शारीरिक क्रियाएं करते हैं तो कुल्हों और टांगों की मांसपेशियां शरीर का भार उठाते हैं। मगर उम्र के साथ मांसपेशियों में बदलाव होने लगता है। उनकी क्षमता कम होती जाती है। इसके कारण टांगों पर अधिक दबाव पड़ता है। यही वजह है कि हमारे घुटनों में दर्द होने लगता है। 

 

3. ऑस्टियोपो‍रोसिस
ये बीमारी आजकल 20 से 30 वर्ष की आयु के करीब 14 प्रतिशत लोगों में आम देखने को मिल रही है। इसमें बीमारी में शरीर की हड्डियों की रक्षा करने वाले कार्टिलेज टूट जाते हैं। जब हड्डियों को मजबूत करने वाले तत्व टूट जाते हैं तो उनमें दर्द होना शुरू हो जाता है। 

 

4. अर्थराइटिस
पुराने जमाने में अर्थराइटिस की समस्या केवल बड़े लोगों में ही देखने को मिलती थी। मगर आजकल छोटे बच्चे भी इस बीमारी के शिकार है। अर्थराइटिस होने का खतरा सबसे ज्यादा महिलाओं को होता है। अर्थराइटिस होने पर भी उम्र से पहले ही शरीर में दर्द होने लगता है। 

 

4. बर्साइटिस
घुटने में चोट लगाने, भाग-दौड़ करने के कारण भी जोड़ों के आस-पास सुजन होने लगती है। ये समस्या सबसे ज्यादा खिलाड़ियों और जिम जाने वाले लोगों को होती है। इसके अलावा जिन लोगों का वजन जरूरत से ज्यादा है उनको भी घुटनों, कंधा, कोहनी, कूल्हा और घुटनों में दर्द होने लगता है। 

 

5. टेन्टीनाइटिस
आपके घुटने में सामने की ओर दर्द जो सीढ़ियों अथवा चढ़ते और उतरते समय बढ़ जाता है।  टेन्टीनाइटिस धावकों,स्कॉयर और साइकिल चलाने वाले लोगों को ज्यादा होता है।


 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP