11 DECWEDNESDAY2019 5:48:20 AM
Nari

ब्रेस्ट कैंसर के कारण खोई अपनी मां, अब महिलाओं को जागरुक करते है यह खिलाड़ी

  • Edited By khushboo aggarwal,
  • Updated: 10 Nov, 2019 11:30 AM
ब्रेस्ट कैंसर के कारण खोई अपनी मां, अब महिलाओं को जागरुक करते है यह खिलाड़ी

व्यक्ति दूसरे के दुख को तभी समझ सकता है अगर उसने उस दुख को खुद सहा हो। ऐसे में दूसरों को खुशी बांटने से न केवल उनका दर्द कम होता है बल्कि खुद का दर्द भी कम होता है। ब्रेस्ट कैंसर के कारण अपने परिवार के 5 सदस्यों को खो चुके  अमेरिका में नेशनल फुटबॉल लीग से जुड़े खिलाड़ी डी एंजेलो विलियम्स ने 500 महिलाओं की मैमोग्राफी का खर्चा उठाया हैं इतना ही नहीं, वह महिलाओं के लिए फाउंडेशन भी चलाते है जो कि उन्हें ब्रेस्ट कैंसर के बारे में जागरुक करती है। मैमोग्राफी से महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के बारे मेें पता चलता हैं। वह इसी तरह अपने बालों को भी गुलाब करवा कर रखते है ताकि ब्रेस्ट कैंसर से पीड़ित महिलाओं को विश्वास दिला सकें कि वह अकेली नहीं हैं। 


बालों को किया है गुलाबी रंग 

विलियम्स अपने बालों को अक्सर ही गुलाबी रंग लगा कर रखते है। इतना ही नहीं जब उन्होंने कैरोलिना पैंथर्स और पिट्सबर्ग स्टीलर्स के लिए खेलना शुरु किया था तो उनके बालो का गुलाबी रंग हेलमेट से बाहर दिखाई देता था। जब उनसे कोई इस बारे में पूछता तो वह कहते कि यह गुलाबी रंग नहीं उनकी संस्कृति हैं। 

 

PunjabKesari,nari

मां के साथ खोई अपनी 4 बहनें 

2006 मेें  ब्रेस्ट कैंसर के कारण विलियम्स की मां सांड्रा हिल मौत हो गई थी। इसके कुछ समय बाद उनकी 4 बहनों की इस बीमारी के कारण मौत हो गई थी जिनकी उम्र 50 साल से भी कम थी। इस घटना के बाद विलियम्स को काफी धक्का लगा। तब उन्होंने अपनी मां की याद में डी एंजिलो विलियम्स फाउंडेशन बनाया व लोगों को इस बीमारी के बारे में जागरुक करते हैं। 

अब तक 500 महिलाओं की करवा चुके हैं मैमोग्राफी

फाउंडेशन शुरु करने के बाद उन्होंने स्ट्रांग फॉर सांड्रा प्रोजेक्ट शुरु किया। जिसमें उन्होंने 53 महिलाओं की मैमोग्राफी का खर्च उठाने का निर्णय किया क्योंकि उनकी मां की उम्र 53 साल थी। जब 53 लोगों की मैमोग्राफी से कुछ हासिल नहीं हुआ तो उन्होंने अपने इस प्रोजेक्ट को बढ़ा दिया। इस समय वह उत्तरी कैरोलिना, पेनसिल्वेनिया, टेनेसी और आराकांस में 500 से अधिक महिलाओं की मैमोग्राफी करा चुके हैं। 

PunjabKesari,nari

50 राज्यों में काम कर रहा है फाउंडेशन

उनकी फाउंडेशन इस समय 50 से अधिक राज्यों में काम कर रही हैं। वह एक ऐसा कार्यक्रम करना चाहते है जहां पर मुफ्त मैमोग्राफी की जाए। वहीं अगर किसी महिला को इससे आगे जांच करवाने की जरुरत है तो वह इसका भी खर्च उठाने के लिए तैयार है। वह उन महिलाओं की मदद करना चाहते है जो अपना खर्च उठाने में सक्षम नहीं है। 

PunjabKesari,nari
 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News