21 OCTMONDAY2019 6:23:04 PM
Nari

जवां रहने के लिए रोज खाएं राजमा,  6 गंभीर बीमारियां होंगी दूर

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 01 Mar, 2019 10:49 AM
जवां रहने के लिए रोज खाएं राजमा,  6 गंभीर बीमारियां होंगी दूर

राजमा को किडनी बीन्स के नाम से भी जाना जाता है। भारत समेत दुनिया के ज्यादातर हिस्सों में राजमा बहुत चाव से खाया जाता है। ज्यादातर लोग राजमा सिर्फ स्वाद के लिए खाते हैं, सेहत के लिए नहीं लेकिन ये स्वाद में तो बेस्ट है ही साथ ही यह पूरे शरीर को पोषण भी देता है। राजमा गुणों की खान है क्योंकि इसमें ऐसे ढेर सारे गुण होते हैं जो आपके पूरे शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। आयरन और विटामिन्स से भरपूर राजमा में कई ऐसे एंटी एजिंग एंटीऑक्सिडेंट्स होते हैं। ये एंटीऑक्सिडेंट्स उम्र के प्रभाव को कम करते हैं इसलिए अपने आहार में राजमा को शामिल करने से आप लंबे समय तक खूबसूरत और जवान दिख सकते हैं।

 

बढ़ती उम्र का असर करें कम

राजमा में लो फैट प्रोटीन होता है इसलिए ये दिल की बीमारियों के लिए बहुत फायदेमंद है। इसमें मौजूद प्रोटीज नामक तत्व कैंसर से लड़ने और उम्र के प्रभाव को कम करने में मदद करता है। राजमा में मौजूद विटामिन ए आपको जवां बनाए रखने में मदद करता है। ये बढ़ती उम्र की परेशानियों से बचाता है। हर रोज बीन्स के सेवन से आप खुद में जल्द ही बदलाव महसूस करेंगे।

PunjabKesari

 

एंटीऑक्सिडेंट्स गुणों से भरपूर

राजमा का प्रयोग रूमेटिक, आर्थराइटिस तथा पेशाब से जुड़ी समस्या की दवा बनाने के लिए किया जाता है। राजमा में एंटीआक्सीडेंट की मात्रा भी काफी होती है। एंटीआक्सीडेंट शरीर में कोशिकाओं की मरम्मत के लिए अच्छा माना जाता है। साथ ही इसे खाने से बॉडी के टॉक्सिन्स दूर होते हैं और स्किन में निखार आता है।

 

कैंसर से बचाव

राजमा में फ्लेवोनॉइड्स के साथ-साथ केंपफ्रेरॉल और क्यूरेस्टिन होता है जो कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता हैं। सप्ताह में तीन से चार बार राजमा का सेवन महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर की समस्या से बचाता है। सीमित मात्रा में राजमा का सेवन करने से पाचन क्रिया भी दुरुस्त रहती है और पेट से जुड़ी बीमारियां होने का खतरा भी नहीं रहता है।

PunjabKesari

 

प्रेग्नेंसी में है फायदेमंद

प्रेग्नेंसी के दौरान राजमा के सेवन से गर्भ में पल रहें शिशु के दिल का विकास सही ढंग से होता है। अध्ययन बताते हैं कि यह शिशु को अस्थमा से बचाने में भी सहायक है इसलिए इसे गर्भवती महिला के आहार में राजमा शामिल करें। इसके अलावा ये स्किन में ग्लो भी लाता है।

 

पीरीयड संबंधी प्रॉब्लम्स

राजमा में फैट्स और कोलेस्ट्रॉल कम होता है और यह फाइबर प्रोटीन का अच्छा स्रोत है। इसके नियमित सेवन से महिलाओं में पीरियड के दौरान होने वाली समस्या में काफी आराम मिलता है। मेनोपॉज के दौरान इसका सेवन महिलाओं के लिए बहुत जरूरी है।

PunjabKesari

डायबिटीज

राजमा का 'ग्लाइसेमिक इन्डेक्स' कम होता है। इसका मतलब होता है कि जिस तरह से दूसरी खाने की चीजें खाने से खून में शुगर का लेवल बढ़ जाता है, राजमा खाने के बाद ऐसा नहीं होता। राजमा में मौजूद फाइबर ब्लड में शुगर का लेवल ठीक बनाए रखने में मदद करते हैं। इसके साथ ही इसमें कैल्शियम, मैंगनीज होता है जिससे हड्डियां मजबूत होती हैं। इसमें मैग्नीशियम होता है जिससे दिल की बीमारियों से बचाव होता है।

Related News