Twitter
You are hereNari

कहीं पैसा ही तो नहीं आपके टूटते रिश्ते की वजह, जान लें ये 5 बातें

कहीं पैसा ही तो नहीं आपके टूटते रिश्ते की वजह, जान लें ये 5 बातें
Views:- Friday, October 12, 2018-6:56 PM

इंसान की जिंदगी में रिश्ते और पैसे, दोनों की अपनी अलग महत्ता है। जहां बिना रिश्ते के व्यक्ति अकेलेपन का शिकार हो जाता है तो बिना पैसे के लाइफ गुजारनी मुश्किल है। यह दोनों चीजें एक सामान्तर दिशा में चले तो ठीक है लेकिन जब रिश्ते पर पैसा हावी होने लगे तो दरार आना लाजमी है। ऐसा सबसे ज्यादा लाइफपार्टनर के साथ होता है। 

एक शोध की मानें तो दुनियाभर में रिश्ते-टूटने का तीसरा सबसे बड़ा कारण पैसा ही है। लेकिन अगर आप थोड़ी समझदारी से काम लें तो न सिर्फ पैसों से जुड़ी समस्या का आसानी से हल होगा बल्कि मुश्किल समय में भी आपका रिश्ता मजबूत बना रहेगा।

पार्टनर बरतें समझदारी
1. पैसों से जुड़ी बातें
अक्सर घर की आर्थिक जिम्मेदारी पति की ही समझी जाती है और वह भी पत्नी से इस बारे में सलाह लेना जरुरी नही समझते। नतीजा स्थिति हाथ से बाहर जाने से दोनों में लड़ाई झगड़े होने लगते हैं। ऐसे में बेहतर आप्शन यही है कि पैसों से जुड़ी हर बात समय रहते एक-दूसरे से शेयर की जाए।

2. मिलकर बनाएं बजट
पति-पत्नी दोनों मिलकर महीने भर के खर्चों की लिस्ट बनाएं। अगर आपका पार्टनर कोई चीज लेने से मना कर रहा है तो लड़ने की बजाए उसकी बात पर गौर करें। इसके अलावा एक-दूसरे से छिपाकर पैसे खर्च न करें।
PunjabKesari
3.पहले ही बनाए चीजों की लिस्ट
आप जो भी खरीदना चाहते हैं उसकी लिस्ट पहले ही बनाए और पैसे जोड़ना शुरू करें। महीने के खर्च में से पैसे बचाए और फिर उसे खरीदें। इससे आपका आर्थिक संतुलन नहीं बिगड़ेगा। आर्थिक संतुलन नहीं बिगड़ेगा तो लड़ाई का सवाल ही नहीं उठता।

4. इमरजेंसी के लिए रखें सेविंग्स
घर खर्च में से हर महीने थोड़ा-थोड़ा बचाएं, ताकि किसी इमरजेंसी में आपको कोई प्रॉब्लम न हो।

PunjabKesari

5. खर्च की सीमा करें तय
अपनी जरूरत के हिसाब से खर्चा करें। हर महीने की पहली तारीख को अपने खर्चों की एक लिस्ट बना लें। फिर उस लिस्ट के हिसाब से ही पैसे को इस्तेमाल करें। कई बार फिजूलखर्ची से भी परिवार में लड़ाई-झगड़े होने लगते हैं। 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP
Edited by: