15 OCTTUESDAY2019 4:34:08 PM
Nari

मैटरनिटी इनरवियरः नई मां को पता होनी चाहिए ये 4 तरह की नर्सिंग ब्रा

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 15 May, 2019 12:36 PM
मैटरनिटी इनरवियरः नई मां को पता होनी चाहिए ये 4 तरह की नर्सिंग ब्रा

महिलाएं अक्सर कंफर्ट या पैसे बचाने के चक्कर में सालों तक एक ही ब्रा पहनती रहती हैं। मगर प्रैग्नेंसी के बाद ऐसा करना आपको भारी पड़ सकता है। दरअसल, प्रेग्नेंसी में या ब्रेस्टफीडिंग करवाने वाली महिलाओं के लिए साधारण ब्रा पहनना असुविधाजनक हो सकता है क्योंकि इस दौरान स्तन का आकार बढ़ने से कप साइज में बदलाव आ जाता है। ऐसे में आज हम आपको 4 ब्रा के बारे में बताएंगे, जिसे आप प्रेग्नेंसी और डिलीवरी के बाद पहन सकती हैं।

 

प्रेग्नेंसी में बदल जाता है ब्रेस्ट साइज

प्रेग्नेंट होने और डिलीवरी के बाद जल्दी ही मैटरनिटी नर्सिंग ब्रा (Nursing Bra) की जरुरत महसूस होने लगती है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस दौरान महिलाओं के शरीर में बहुत से बदलाव आते हैं, जिनमें से एक हैं ब्रेस्ट साइज का आकार बदलना। प्रेग्नेंसी के 3 महीने के बाद ही स्तन के कप का आकार बढ़ जाता है।

कौन-सी ब्रा पहनना है सही?

गर्भावस्था में और स्तनपान कराने वाली मां का बेंड साइज लगभग 2 नंबर से और कप साइज लगभग 4 नंबर से बढ़ जाता है। इसके कारण महिलाए साधारण ब्रा में असहज महसूस करने लगती है लेकिन वह इसे बदलने की कोशिश नहीं करती क्योंकि ज्यादातर औरतों को नहीं पता होता कि इस दौरान किस तरह की ब्रा पहननी चाहिए। बता दें कि इसके लिए खास तरह प्रकार की ब्रा मिलती हैं, जिसे मैटरनिटी नर्सिंग और फीडिंग ब्रा (Feeding Bra) कहा जाता हैं। इनके इस्तेमाल से आपकी परेशानी कम हो सकती है।

PunjabKesari

4 तरह की होती है ब्रा

आज हम आपको 4 तरह की ब्रा के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें आप प्रेग्नेंसी पीरियड और डिलीवरी के बाद पहन सकती हैं। यह आपके लिए कम्फर्टेबल और पूरी तरह से सुरक्षित होती हैं।

पेड बदलने वाली ब्रा (Pad Changable)

ब्रेस्टफीडिंग करवाने वाली महिलाओं के स्तन से दूध लीक होता है, जिसके कारण उन्हें बार-बार ब्रा चें करनी पड़ती है। मगर इसके लिए कुछ ब्रा ऐसी आती हैं, जिनमे पेड लगाए जा सकते हैं। इससे आपको ब्रा नहीं बल्कि सिर्फ पेड बदलने की जरूरत होती है। इतना ही नहीं, ये पेड डिस्पोजल भी होते हैं, जिन्हें धोने के बाद दोबारा यूज किया जा सकता है।

PunjabKesari

फीडिंग ब्रा (Feeding Bra)

स्तनपान करवाने वाली महिलाओं के लिए फीडिंग ब्रा भी बिल्कुल सही है क्योंकि इसमें कप में निपल वाली जगह खोलने की सुविधा होती है। दरअसल, इसमें कप को नीचे की तरह या साइड से खोला जा सकता है। इतना ही नहीं, इसमें पीछे की तरह काफी ज्यादा हुक लगे होते हैं, जिसे आप जरूरत अनुसार लूज या टाइट कर सकती हैं। साथ ही इनकी बनावट भी ब्रेस्ट को सहारा देने वाली होती है।

PunjabKesari

स्लीप ब्रा (Sleep Bra)

गर्भावस्था तथा डिलीवरी के बाद महिलाओं को सबसे ज्यादा परेशानी सोते समय होती है। ऐसे में आप स्लीप ब्रा का यूज कर सकती हैं, जो स्तन को सपोर्ट देती है। साथ ही इससे स्तनपान करवाने में भी आसानी होती है।

PunjabKesari

मैटरनिटी स्पोर्ट्स ब्रा (Sports Bra)

गर्भावस्था में , योगासन या जिम में की जाने वाली कसरत के समय पहनने के लिए भी ब्रा उपलब्ध है, जो कम्फर्टेबल के साथ अट्रैक्टिव लुक भी देती है।

PunjabKesari

नर्सिंग और साधारण ब्रा में क्या है फर्क?

-साधारण ब्रा के बेंड में 2-3 हुक लगे होते हैं जबकि नर्सिंग या फीडिंग ब्रा में ना सिर्फ ज्यादा हुक लगे होते हैं बल्कि इनकी चौड़ाई भी अधिक होती है।
-साधारण ब्रा के मुकाबले नर्सिंग ब्रा का बेंड ज्यादा चौड़ा होती है, ताकि दूध से भरे स्तनों को सहारा मिल सके।
-नर्सिंग ब्रा में कप नीचे की तरफ या साइड में खुलने वाले होते है, जिसे आप एक हाथ से भी खोल सकती हैं। मगर साधारण ब्रा में सिर्फ पीछे की तरफ ही हुक लगे होते हैं।
-साधारण ब्रा सिंथेटिक मेटीरियल की बनाई जाती है, जो जल्दी नहीं सूखती और पहनने में भी असहज होती है। मगर नर्सिंग ब्रा का मेटेरियन कॉटन का होता है, जो ना सिर्फ जल्द सूखती हैं बल्कि पहनने में भी कम्फर्टेबल होती है।
-नर्सिंग ब्रा में आप कप साइज E , F या G तक खरीद सकती हैं लेकिन साधारण ब्रा में बड़ा कप साइज मिलना मुश्किल होता है।
-नर्सिंग ब्रा ना सिर्फ पहनने में कम्फर्टेबल होती हैं बल्कि यह आपको अट्रैक्टिव लुक भी देती हैं।

PunjabKesari

मेटरनिटी नर्सिंग ब्रा के फायदे

-ब्रा में ज्यादा हुक लगे होने इनके बेंड को छोटा-बड़ा करने में आसानी होती है। साथ ही आप इसे आसानी से लूज व टाइट भी कर सकती हैं।
-इनमे कप का शेप बड़ा, बीच का हिस्सा अधिक गहरा और स्ट्रेप्स चौड़े होते है। इससे ब्रेस्ट को ज्यादा आराम मिलता है।
-यह कॉटन की बनी होती है, जो पहनने में आरामदायक होती है। साथ ही इसमें अलग तरह के इलास्टिक यूज किए जाते हैं, जिससे त्वचा पर निशान नहीं पड़ते।

सही ब्रा नहीं पहनने के नुकसान

-गर्भवती महिलाओं के लिए सही साइज की ब्रा पहनना बहुत जरूरी है। छोटे साइज की ब्रा पहनने से स्तन के टिशू पर दबाव पड़ता है, जिससे स्तन को नुकसान पहुंचता है। इतना ही नहीं, कई बार यह दूध की नलिया बंद होने का कारण भी बन सकती हैं।
-वहीं ढीली ब्रा पहनने से स्तन को स्पोर्ट नहीं मिलता, जिससे ब्रेस्ट में दर्द की समस्या हो सकती है। साथ ही इससे स्तन का आकार भी बिगड़ जाता है। ऐसे में जरूरी है कि आप सही साइज की ब्रा का चुनाव करें।

 

अब तो आपको पता चल ही गया होगा कि प्रेग्नेंसी के दौरान सही ब्रा पहनना कितना जरूरी है। ऐसे में अपने लिए सही ब्रा का चुनााव करें। साथ ही अगर दुकान में ट्रायल रूम है तो ट्राई करके आराम देने वाली ब्रा ही खरीदें, ताकि आपको बाद में कोई प्रॉब्लम ना हो।

फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP

Related News