17 SEPTUESDAY2019 5:47:25 AM
Nari

पहलवानी के बाद अब राजनीतिक अखाड़े में कदम रखेंगी 'दंगल गर्ल' बबीता फोगाट

  • Edited By khushboo aggarwal,
  • Updated: 12 Sep, 2019 04:31 PM
पहलवानी के बाद अब राजनीतिक अखाड़े में कदम रखेंगी 'दंगल गर्ल' बबीता फोगाट

दंगल गर्ल यानि बबिता फोगाट को हर कोई जानता हैं शायद ही ऐसा कोई होगा जो इनके बारे में नही जानता होगा। जिनके पिता महावीर फोगाट ने रुढ़ीवादी सोच को खत्म कर अपनी बेटियों को दंगल के मैदान में उतारा था। आज वहीं बबीता हरियाणा पुलिस में से इंस्पेक्टर के पद का त्याग कर राजनीति में कदम रखने जा रही हैं। 

PunjabKesari,Babita Phogat,BJP, Nari


ट्वीट कर दी जानकारी 

पहलवान बबीता फोगाट ने अपने पिता महावीर फोगाट के साथ मिलकर बीजेपी ज्वाइंन कर ली हैं। वह अब बीजेपी के लिए अगले चुनाव में लड़ सकती हैं। वीरवार को फोगाट ने एक ट्वीट में बताया कि आज वह भारतीय जनता पार्टी के साथ जुड़कर राजनीति ने नए सफर की शुरुआत की करने जा रही हैं। आप भी बीजेपी के साथ जुड़कर प्रधानमंत्री जी के हाथों को मजबूत करें। इससे पहले केंद्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू  की उपस्थिति में वह शामिल हो गए थे। 

चलिए आपको बबिता फोगाट के जीवन के बारे में बताते हैं।

बबिता फोगाट एक ऐसे परिवार से है जहां पर उनके पिता व बहन भी पहलवान हैं। इन्होंने अपनी शिक्षा हरियाणा से पूरी की हैं। कुश्ती के कारण यह अपनी क्लास में बहुत ही कम जाती थी जिस कारण इनके शिक्षक इनकी पढ़ाई पूरी करने में मदद करते थे। इन्हें लोग भारतीय कुश्ती वर्ल्ड के नाम से भी जानते हैं।

PunjabKesari,Babita Phogat,BJP, Nari

जीवन पर बन चुकी है फिल्म

 बबिता 20 नंवबर 1989  में हरियाणा के बालाली गांव मेें पैदा हुई थी। इन्हें पहलवानी के गुण उनके पिता महावीर सिंह फोगाट ने सिखाए थे। वह अपने समय के प्रसिद्ध पहलवान व द्रोणाचार्य पुरस्कार प्राप्त कर चुके है। 6 साल की उम्र में ही उनके पिता ने उन्हें पहलवानी के अखाड़े में ले जाना शुरुकर दिया था। 2016 में इन पर  व इनकी बहन पर दंगल फिल्म बनाई गई थी। इनके बाद इनकी बहन गीता कुमार व चचेरे भाई विनेश फोगाट ने भी कॉमन वेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक जीता था।

2009 में जीता पहला स्वर्ण पदक 

पंजाब के जालंधर में 2009 में कॉमनवेल्थ कुश्ती चैंपिनयशिप में बबिता ने गोल्ड जीता उसके बाद 2010 में दिल्ली में हुई कॉमनवेल्थ गेम में रजत पदक जीता। इसके बाद 2011 में कॉमनवेल्थ कुस्ती में उन्होंने गोल्ड मैडल जीता। भारत सरकार की ओर से उन्हें अर्जुन पुरस्कार मिल चुका हैं। 

 

 

Related News