20 APRSATURDAY2019 10:29:59 AM
Nari

झुर्रियां हो या फाइन लाइन्स, हर ब्यूटी प्रॉब्लम दूर करेगी कैंडल मसाज

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 27 Nov, 2018 09:43 AM
झुर्रियां हो या फाइन लाइन्स, हर ब्यूटी प्रॉब्लम दूर करेगी कैंडल मसाज

खूबसूरत दिखने के लिए जरूरी नहीं कि आप मंहगे ब्यूटी प्रोडक्ट्स खरीदें। खूबसूरती को बरकरार रखने के लिए आप कैंडल्स का इस्तेमाल भी कर सकती हैं। रंग-बिरंगी खूबसूरत कैंडल्स से फिगलने वाली मोम आपकी त्वचा को ज्यादा चमकदार बनाती है। यदि एक्सपर्ट्स की मानें तो त्वचा में कसाव लाने के लिए कैंडल मसाज कारगार उपाय है।

 

कैंडल थेरेपी का तरीका

इस थेरेपी में कैंडल को जलाकर पिघलाया जाता है। इसके बाद इस वैक्स से स्क्रब करने के बाद हॉट टावल रैप से त्वचा को साफ करते हैं। इससे डेड स्किन निकल जाती है। उसके बाद कैंडल को फिर से पिघलाया क्रीम तैयार की जाती है और उसके बाद स्किन को मॉश्‍चराइज किया जाता है। फिर आखिर में स्किन ब्राइटनिंग पैक लगाया जाता है। इसमें कैंडल के साथ जोजोबा ऑयल, कोकोआ बटर और विटामिन ई जैसे तेलों का मिश्रण होता है इसलिए यह मसाज ब्यूटी प्रॉब्लम को दूर करने का बेहतरीन तरीका है।

PunjabKesari

कैंडल थेरेपी के फायदे
त्वचा में लाए कसाव

कैंडल मसाज से चेहरे पर पड़ने वाली फाइन लाइन्स, झुर्रियां और ढीली स्किन की समस्या कम होती है और त्वचा में कसाव आता है। इसके अलावा यह मसाज थेरेपी वजन कम करने के बाद ढीली त्वचा में भी कसावट लाती है।

PunjabKesari

बढ़ती उम्र की समस्याएं करें दूर

कैंडल मसाज का सबसे ज्यादा असर असर उम्रदराज और रूखी त्वचा की चमक को बढ़ाने के लिए किया जाता है क्योंकि इसके इस्तेमाल से उम्र कम नजर आने लगती है।

बेहतर रक्त संचार

इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि इससे रक्त संचार सही ढंग से होता है, जिससे आपकी हेल्थ और ब्यूटी प्रॉब्लम्स दूर रहती हैं।

डेड स्किन निकालने में मददगार

कैंडल मसाज न सिर्फ डेड स्किन को निकालती है बल्कि यह उसे नरिश भी करती हैं। इससे आपको चमकदार और बेदाग त्वचा मिलती है। यह त्‍वचा को पोषण, एक्‍सफोलिएट और त्वचा सेल के पुनर्जनन के लिए बेहतरीन उपाय है।

PunjabKesari

शारीरिक दर्द से राहत

इससे आपको शारीरिक दर्द से भी राहत मिलती है। यही नहीं, सासं की समस्याओं से भी कैंडल मसाज निजात दिलाती है।

कैंडल मेनिक्‍योर-पेडिक्‍योर

कैंडल थेरेपी के दौरान मेनिक्‍योर-पेडिक्‍योर की शुरूआत सिपंल तरीके से की जाती है। मेनिक्‍योर-पेडिक्‍योर सबसे पहले नाखूनों को काटा, फाइल, शेपिंग, क्‍यूटकल पर क्रीम लगाना और सफाई करना शामिल है। ट्रीटमेंट के दौरान कुछ खास तरह से बनाई गई कैंडल्‍स का यूज करके स्क्रब और क्रीम बनाई जाती है, जिसे मेनिक्‍योर-पेडिक्‍योर के लिए यूज किया जाता है। इससे पैरों और हाथों की त्‍वचा सर्दियों में भी नमी युक्‍त रहती है। यह मेनिक्‍योर-पेडिक्‍योर 100 प्रतिशत तक नेचुरल है।

PunjabKesari

फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP

Related News

From The Web

ad