23 OCTWEDNESDAY2019 5:19:10 AM
Nari

केक का बिजनेस कर करोड़ों कमा रही है जासमीन, जानिए इनके हौसले और जज्बे की कहानी

  • Edited By khushboo aggarwal,
  • Updated: 13 Oct, 2019 05:25 PM
केक का बिजनेस कर करोड़ों कमा रही है जासमीन, जानिए इनके हौसले और जज्बे की कहानी

मुसीबतें तो हर किसी पर आती है, बस फर्क सिर्फ इतना है कि कोई हंसकर तो कोई इसे रो-कर दूर करता है। आज हम आपको एक ऐसी ही महिला के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने लाख मुसीबतों के बाद भी अपना हौंसला और हिम्मत नहीं छोड़ी। हम बात कर रहे हैं कैंसर सर्वाइवर जासमीन लूला की, जिन्होंने मुसीबतों से लड़कर अपना मुकाम पाया है। मगर जासमीन की इस सफलता के पीछे की कहानी भी बेहद दुखभरी है, जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं।

 

दो लोगों के साथ शुरू किया था केक का बिजनेस

इंदौर की रहने वाली 40 साल की जासमीन ऐसी बिजनेस वुमन है, जिनका सालान टर्नओवर करीब 10 करोड़ है। बता दें कि जासमीन केक का बिजनेस करती है। आज उनका यह बिजनेस विदेशों तक फैला हुआ है। जब जासमीन ने केक का बिजनेस शुरू किया तब उनके साथ सिर्फ दो लोग खड़े थे।

PunjabKesari,nari

बिजनेस की शुरूआत में पता चला 'कैंसर'

6 साल पहले जासमीन ने केक बनानेकी फैक्टरी शुरू की थी लेकिन तभी उन्हें पता चला कि उन्हें ब्रेस्ट कैंसर है। यह सुनकर जासमीन को धक्का लगा। जासमीन कहती हैं, 'जब मुझे इस बीमारी का पता चला तो मैं टूट चुकी थीं, लेकिन फिर मैंने सोचा मैं हार नहीं मान सकती। अगर मैं हिम्मत हार गई तो उनके बच्चों व परिवार का क्या होगा।'

कैंसर से भी नहीं हारी जासमीन

जासमीन बताती है कि उनका कैंसर शुरूआती स्टेज पर था इसलिए उन्होंने इलाज करवाना शुरू किया। परिवार और दोस्तों के साथ बिजनेस पार्टनर्स ने भी उनका साथ दिया। इससे उन्हें लड़ने की शक्ति मिली। इसके बाद उन्होंने कैंसर के इलाज के साथ-साथ उन्होंने अपनी फैक्टरी का काम भी जारी रखा। फिर क्या था 3 साल के कठिन परिश्रम के चलते उनकी फैक्टरी ने कंपनी का रूप ले लिया। उनका केक अब ऑनलाइन बिकने लगा और एक ब्रांड बन गया था। इसी बीच चिकित्सकों ने एक खुशखबरी दी कि वह कैंसर से बाहर आ चुकी है।

PunjabKesari,Nari

ऑस्ट्रेलियन स्कूल ऑफ पतेश्री से ऑनलाइन बेकरी कोर्स

पहली कीमोथैरेपी लेने के बाद जासमीन बहुत निराश हो गई। वहीं दूसरी कीमोथैरेपी के बाद उन्हें चिकन पॉक्स हो गया। तब उनकी हिम्मन ने जवाब दे दिया लेकिन पति और दोस्तों के हौंसले से उन्हें हिम्मत मिली। मगर डॉक्टर उन्हें कमरे से बाहर निकलने से मना कर दिया। इसके बार घर में ही सारी कैमरे लगवा दिए गए थे ताकि वह अपने काम का सही संचालन कर सके। इसी दौरान उन्होंने ऑस्ट्रेलियन स्कूल ऑफ पतेश्री से ऑनलाइन बेकरी का कोर्स किया, जिससे वह अपने काम को ओर बढ़ा सके व अच्छा कर सके। बता दें कि इलाज के दौरान उनकी 6 कीमोथैरेपी व 31 रेडिएशन थैरेपी हुई।

3 साल तक लड़ी कैंसर से जंग 

जासमीन को जब पता लगा कि वह ब्रेस्ट कैंसर की शुरुआत स्टेज पर है तो वह पूरी तरह से टूट गई थी लेकिन परिवार की हिम्मत व कंपनी के लिए उन्होंने कैंसर का सामना किया। लगातार 3 साल तक संघर्ष करने के बाद वह ठीक हो चुकी हैं। कैंसर से लड़ते हुए उन्होंने अपना केक बनाने का सफर जारी रखा। इन 3 सालों में उनकी फैक्ट्री ने एक कंपनी का रुप ले लिया था। उनका ऑनलाइल ब्रांड बन चुका है। 

PunjabKesari,nari

आज करोड़ों में है कमाई

शुरूआत में जासमीन ने दो लोगों के साथ यह कंपनी शुरू की थी लेकिन आज इसमें 100 से अधिक लोग काम कर रहे है। इस समय कंपनी का टर्नओवर 10 करोड़ के करीब पंहुच चुका है। शुरु में कपंनी में 3 से 4 तरह के केक बनाए जाते थे लेकिन इस समय वहां पर 250 से अधिक किस्म के केक बनते है।

PunjabKesari,nari

कैंसर पेशेंट को दी सलाह

जासमीन का कहना है कि कैंसर का इलाज बहुत ही दर्दनाक होता है इसलिए मेरा दूसरे मरीजों से कहना है कि हिम्मत न हारे और इलाज पूरा जरूर करवाएं, क्योंकि दर्द के कारण मरीज इलाज बीच में ही छोड़ देते हैं। इस बीमारी में मरीज को अकेले नहीं रहना चाहिए। योग करें, व्यायाम करें, गेम्स खेलें। खुद से और परिवार से प्यार करना सीखें, क्योंकि खुद से प्यार करने वाला ही इस बीमारी को हरा सकता है। अब मैं कैंसर फाउंडेशन से जुड़ चुकी हूं और दूसरे पीड़ितों को बीमारी से लड़ने का हौसला देती हूं।

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News