23 JULTUESDAY2019 4:24:45 AM
Nari

मां और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद है आम का सेवन

  • Edited By khushboo aggarwal,
  • Updated: 25 Jun, 2019 04:21 PM
मां और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद है आम का सेवन

गर्भावस्था के दौरान न केवल अपनी बल्कि बच्चे की सेहत का भी पूरा ध्यान रखती है, डाइट का पूरा ध्यान रखते हुए डाइट प्लान फॉलो करती है। इस कारण उन्हें हमेशा इस बात की असमंजस रहती है कि उन्हें क्या चीज खानी चाहिए क्या नहीं ?  गर्मियों का मौसम आते है आम मिलना भी शुरु हो जाता है, आम न केवल एक फल के तौर पर बल्कि गर्भावस्था के दौरान मां व बच्चों दोनो के लिए बहुत ही पौष्टिक आहार हैं। इसमें विटामिन सी, फोलिक एसिड, एंटीऑक्सीडेंट्स आदि पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसलिए गर्भवती महिला को अपने खाने की डाइट में आम को जरुर शामिल करना चाहिए। 

मीठे के लिए है बेस्ट ऑप्शन

गर्भावस्था के दौरान अगर कुछ मीठा खाने का मन कर रहा है तो आम सबसे अच्छा ऑप्शन हैं। इसे खाने से एक तो एनर्जी मिलेगी दूसरा मोटापा भी नहीं होगा। 100 ग्राम आम में 15 ग्राम शर्करा पाई जाती हैं। लेकिन डायबिटीज वाले पेंशट को अधिक आम नही खाने चाहिए। अगर आप आम की स्मूदी, शेक, लस्सी पीना पसंद करते है तो इसमें डलने वाली चीनी को अवायड करनी चाहिए। 

PunjabKesari

संतुलित आहार के लिए बेस्ट

आम से शरीर में विटामिन, प्रोटीन, फोलिक एसिड जैसे तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते है। जब मां आम खाएगी तो यह सारे तत्व बच्चे को भी मिलेंगे। आम में काफी मात्रा में कैलोरी पाई जाती है, गर्भावस्था के नौवें महीनें में कैलोरी की काफी मात्रा की आवश्यकता होती है, इसलिए इन्हें स्नैक्स के तौर पर शामिल किया जा सकता हैं। 

कब्ज की समस्या से राहत

आम में फाइबर की भरपूर मात्रा पाई जाती है, जिसके कारण पाशन की क्रिया सही रहती हैं। आम खाने से इस अवस्था के दौरान होने वाली कब्ज की समस्या दूर हो जाती हैं। 

मां व बच्चे को बीमारियों से बचाते है

इसमें पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट महिला व गर्भ में पल रहे बच्चे को विभिन्न तरह की बीमारियों से बचा कर रखते हैं। इससे बच्चे व मां होने वाली छोटी छोटी बीमारियों से बचे रहते हैं। 

PunjabKesari

 

आम खाना जितना सेहत के लिए अच्छा होता है उतना इसे खाते समय सावधानी रखनी चाहिए, क्योंकि मार्किट में प्राकृतिक तरीके से पकाए गए आम के साथ साथ कृत्रिम तरीके से पकाए गए आम भी शामिल होेते है। इन कृत्रिम तरीके से पके हुए आमों से मां व बच्चे दोनो का काफी नुकसान पहुंच सकता हैं।  आईए जानते है आम खरीदते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए । 

कृत्रिम आम न खाएं 

मार्किट में से आम खरीदते समय कोशिश करें कि आम प्राकतिक तरीके से पकाया गया हो न कि दवाई लगा कर कृत्रिम तरीके। क्योंकि कृत्रिम तरीके से पकाए गए आम से मां व बच्चे दोनों को नुकसान  पहुंचा सकता हैं। जैसे कि पेट में गड़बड़,सिर दर्द, चक्कर आना, अत्याधिक नींद आना, मुंह में छाले, दौरा पड़ना आदि। 

ऐसे पता लगाएं कृत्रिम आमों के बारे में 

प्राकृतिक तरीके से पका हुआ आम अकसर बाहर देखने व हाथ लगाने से ही पता लग जाता है, लेकिन अगर आपकों पता नहीं लगता है तो आप इन बातों का ध्यान रखें। कृत्रिम आम के ऊपर भूरे-सफेद या काले रंग के पाउडर की परत होती है जिसमें से लहसुन की तरह गंध आती हैं। बाहर से पका हुआ दिखाता है लेकिन अंदर से ठोस व कच्चा होता हैं। खाने के बाद मुंह में अजीब सा स्वाद रह जाता हैं। इन आमों में जल्द ही काले धब्बे या पकने के लक्षण दिखाई देते हैं। 

PunjabKesari

धो कर खाएं फल 

अगर आपको पता नहीं लगता है कि यह फल प्राकृतिक तरीके से पका हुआ या कृत्रिम तो आप उसे अच्छए से धो कर खाएं। फलों को कभी भी मुंह से छील कर न खाएं। आम काटने के बाद याद से अपने हाथ और काटने के लिए प्रयोग हुआ चाकू और बोर्ड अच्छे से धोएं। 

Related News

From The Web

ad