20 APRSATURDAY2019 10:50:27 AM
Nari

बच्चे को जन्मजात मोटापा दे सकती है प्रेग्नेंसी में ली आर्टिफिशल ड्रिंक

  • Edited By Priya verma,
  • Updated: 23 Nov, 2018 04:15 PM
बच्चे को जन्मजात मोटापा दे सकती है प्रेग्नेंसी में ली आर्टिफिशल ड्रिंक

सॉफ्ट ड्रिंक आजकल लोगों के लाइफस्टाइल का हिस्सा बन गया है। घर आए मेहमानों को जब तक कोल्ड ड्रिंक सर्व न की जाए तो मेहमानबाजी अधूरी समझी जाती है। वहीं, प्रेग्नेंसी जैसी अवस्था में भी कुछ महिलाएं जम कर सॉफ्ट ड्रिंक का सेवन करती हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि इससे होने वाले बच्चे की सेहत पर बुरा असर पड़ता है। इस तरह की ड्रिंक्स में मीठा बहुत ज्यादा होता है जो मोटापा और डायबिटीज का खतरा बढ़ा देता है। 

 

बच्चा हो सकता है मोटापे का शिकार

एक शोध के अनुसार प्रेग्नेंसी के समय मीठे पेयपदार्थ के सेवन से होने वाले बच्चे में  मोटापे की परेशानी हो सकती है। कनाडा की यूनिवर्सिटी ऑफ मैनीटोबा के मुख्य लेखक मेघन आजाद के अनुसार, 'प्रेग्नेंसी के दौरान कृत्रिम मीठे पेय पदार्थों की खपत शिशु के वजन परिवर्तन से जुड़ी हुई है।' इस अध्ययन में 3,033 मां-शिशु की जोड़ी को शामिल किया गया, जिसमें पाया गया कि गर्भावस्था में पेय पदार्थों का ज्यादा सेवन शिशु के बॉडी मास इंडेक्स को असर पड़ता है। 
PunjabKesari

मोटापे के दोगुने जोखिम की संभावना

अमेरिकी पत्रिका जेएएमए पीडियाट्रिक्स में प्रकाशित इस शोध के बारे में यह बात सामने आई कि 30 प्रतिशत महिलाओं ने सॉफ्ट ड्रिंक और चाय-कॉफी के सेवन की बात स्वीकार की। नतीजा सामने आया कि पहले साल में उनके बच्चे में मोटापे के दोगुने जोखिम की संभावना बढ़ गई। 


बच्चे में मोटापे के कारण होने वाली बीमारियां 

डायबिटीज टाइप 1

बच्चे में बढ़ता मोटापा टाइप 1 डायबिटीज का खतरा ज्यादा बढ़ जाता है। जिससे छोटी उम्र में ही उसे कई खाद्य पदार्थों से दूरी बनानी पड़ती है।  
PunjabKesari, Diabties

दिल की बीमारियां

मोटापा कई तरह के रोगों का कारण बनता है। इससे दिल से जुड़े रोग होने की संभावना भी बढ़ने लगती है। 
PunjabKesari, Child Heart

अनिद्रा

ओवरवेट होने के कारण बच्चे को अनिद्रा की परेशानी भी हो सकती है। प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने के कारण हाई ब्लड प्रैशर की समस्या भी बच्चे को घेरने लगती है। 

PunjabKesari, child sleepless

तनाव 

सेहत से जुड़ी समस्या होने के कारण बच्चा हमेशा तनाव में रहने लगता है। इसके कारण बच्चा किसी एक्टिविटी में हिस्सा भी नहीं ले पाता। 

PunjabKesari

 

फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP

Related News

From The Web

ad