Twitter
You are hereNari

थायरॉयड को कंट्रोल करे योग

1 of 4Nextथायरॉयड को कंट्रोल करे योग
Views:- Friday, March 20, 2015-4:00 PM

हाइपोथायरॉइडिज्म के लक्षण थकान, कमजोरी और वजन बढऩा । पसीना अधिक आना । बालों का खुश्क होना । स्किन का रूखा होना और पीला पडऩा । बाल झडऩा। ठंडा बर्दाश्त करने की शक्ति में कमी । मांसपेशियों में ऐंठन और दर्द । कब्ज की शिकायत । चिड़चिड़ापन । अनियमित मासिक स्राव और यौन इच्छा में कमी ।

हाइपरथायरॉइडिज्म  
अधिक स्राव होने पर हाइपरथायरॉइडिज्म की स्थिति पैदा होती है । व्यक्ति क्रियाशील और कठोर परिश्रमी बन जाता है । वह दुर्बल हो जाता है । नाड़ी संस्थान संवेदनशील हो जाता है, जिससे हाथों में कम्पन शुरू हो जाता है । हृदय की धड़कन बढ़ जाती है और घबराहट उत्पन्न होती है । गर्मी बर्दाश्त करने की शक्ति में कमी, उत्तेजना, अनिद्रा व सांस लेने में कठिनाई जैसे लक्षण दिखते हैं ।

यौगिक क्रिया : पवन मुक्तासन, वज्रासन, पद्मासन, योग मुद्रा, गोमुखासन, उत्तानपादासन, भुजंगासन, धनुरासन, सर्वांगासन, हलासन, मत्स्यासन, मेरुवक्रासन, सिंहासन ।

मुद्रा : विपरीतकरणी मुद्रा, सूर्यामुद्रा, अग्रिसार क्रिया ।

प्राणायाम : ऊं प्राणायम, कपालभाति प्राणायाम, भस्त्रिका प्राणायाम, अनुलोम-विलोम, उज्जायी प्राणायम, भ्रामरी प्राणायाम । 

करें योग, रहें मस्त
रहन-सहन और खानपान में गड़बड़ी, तनाव भरा जीवन शरीर में हार्मोन की व्यवस्था को अस्त-व्यस्त कर देता है । शरीर की अंत:स्रावी ग्रंथियों, विशेष कर थायरॉयड ग्रंथि से निकलने वाले हार्मोन में असंतुलन की वजह से कई समस्याएं आती हैं । गले में स्थित 20 ग्राम वजन की थायरॉयड ग्रंथि सांस नलिका और स्वरतंत्र से जुड़ी होती है । खाना निगलते समय इसके लोब्स ऊपर-नीचे होते रहते हैं ।

 - डॉ. नन्द कुमार झा


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Latest News