04 AUGTUESDAY2020 4:38:35 AM
Nari

खांसी-जुकाम का रामबाण इलाज है बेलपत्र, मिलेंगे और भी जबरदस्त फायदे

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 07 Jul, 2020 10:15 AM
खांसी-जुकाम का रामबाण इलाज है बेलपत्र, मिलेंगे और भी जबरदस्त फायदे

भगवान शिव को बेलपत्र बेहद प्रिय है इसलिए उनकी पूजा करते समय धतूरा, भांग के साथ बेलपत्र जरूर चढ़ाया जाता है। मगर, शिवजी को अर्पित किए जाने वाले बेलपत्र सिर्फ पूजा के काम ही नहीं आते बल्कि सेहत के लिए भी फायदेमंद है। इसमें मौजूद कैल्शियम, फॉस्फोरस, फाइबर, प्रोटीन, आयरन जैसे गुण ना तनाव और दिल के रोगों का खतरा कम करते हैं। साथ ही इससे आप छोटी-मोटी समस्याओं से भी छुटकारा पा सकते हैं। चलिए आपको बताते हैं बेलपत्र के बेहतरीन फायदे...

लू से होगा बचाव

सुबह खाली पेट बेलपत्र की पत्तियां चबाकर खाएं। इससे शरीर को अंदर से ठंडक मिलेगी, जिससे आप लू जैसी समस्याओं से बचे रहेंगे। साथ ही मुंह के छाले भी दूर होंगे।

PunjabKesari

तनाव को रखे दूर

बेलपत्र की पत्तियां चबाने से तनाव, डिप्रेशन और मानसिक रोगों में शांति मिलती है। आप चाहे तो रोजाना 1 गिलास बेल का शरबत भी पी सकते हैं।

आंखों की चुभन करे दूर

बेल के पत्तों का रस निकालकर छान लें। अब इसकी 1-2 बूंद आंखों में डालें। इससे आंखों में खुलजी, जलन, दर्द ठीक होगा। साथ ही इसे आंखों की रोशनी भी तेज होगी। इसके अलाव यह कंजक्टिवाइटिस की समस्या में भी काफी फायदेमंद है।

दिल को रखे स्वस्थ

बेल के पत्तों का काढ़ा बनाकर रोजाना पीएं। इससे कोलेस्ट्रॉल लेवल कंट्रोल में रहेगा और आप दिल की बीमारियों से बचे रहेंगे। साथ ही यह हार्ट अटैक का खतरा भी कम करता है।

PunjabKesari

बेहतर पाचन क्रिया

बेल आंतों के लिए भी बेहतरीन दवा है।  इससे पेट में दर्द व आंतों के कीड़े मर जाते हैं। साथ ही यह डाइजेशन सिस्टम को भी सही रखता है, जिससे कब्ज, एसिडिटी जैसी परेशानियां नहीं होती।

कफ, वात्त को करे शांत

इसकी तासीर गर्म होती है, जिससे कफ वात शांत होते है। इससे आप बदलते मौसम में सर्दी-खांसी, गले में खराश, जुकाम और बुखार से बचे रहते हैं।

सांस संबंधी समस्याएं

सांस संबंधी समस्याएं रहती हैं तो बेलपत्र के रस में शहद मिलाकर पीएं। इससे आपको काफी आराम मिलेगा।

मोच व अंदरूनी चोट

मोच व अंदरूनी चोट लगने पर भी आप इसका यूज कर सकते हैं। इसके लिए बेलपत्रों को पीस लें और गुड़ के साथ पकाएं। फिर इसकी पोटली बनाकर मोच यह चोट पर सिकांई करें। इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण आपकी समस्या को दूर कर देंगे।

PunjabKesari

Related News