26 OCTMONDAY2020 9:07:24 PM
Nari

गंभीर मानसिक बीमारी से जूझ चुकी हैं आलिया, इन संकेतों से पहचानें बीमारी

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 19 Dec, 2019 02:27 PM
गंभीर मानसिक बीमारी से जूझ चुकी हैं आलिया, इन संकेतों से पहचानें बीमारी

आलिया भट्ट उन एक्ट्रेस में से एक है जिन्होंने बेहद कम उम्र में ही सफलता हासिल कर ली। भले ही आलिया हमेशा खुश और फनी अंदाज में ही नजर आती हैं लेकिन एक समय ऐसा भी था जब वो गंभीर मानसिक बीमारी से जूझ रही थी। जी हां, कुछ समय पहले एक इंटव्यू में आलिया ने बताया था कि वो एंग्जाइटी जैसी गंभीर बीमारी का सामना कर चुकी हैं।

 

एंग्जाइटी से जूझ चुकी हैं आलिया

दरअसल, एक मैग्जीन को दिए इंटरव्यू में आलिया ने बताया कि वो करीब 6-7 महीने एंग्जाइटी नामक मानसिक बीमारी से ग्रस्त रही। इसके कारण वो कभी अचानक खुश हो जाती थी तो कभी दुखी। इस बीमारी से निजात पाने के लिए उन्होंने तरह की कोशिश भी की। उन्होंने बताया, 'मुझे ऐसा लगने लगा था कि शायद मैं ज्यादा काम कर रही हूं इस वजह से थक जाती हूं। जब मैंने अपने करीबी दोस्तों से भी इस बारे में पूछा तो उन्होंने मुझे बताया कि ये अपने आप ही ठीक हो जाएगा। तुम नॉर्मल फील करने लग जाओगी। जरूरी ये है कि तुम जैसा फील कर रही हो उसे स्वीकार करो और ये ना सोचो कि तुम ठीक हो। '

PunjabKesari

बहन शाहिन से मिली मदद

आलिया ने कहा, 'मैं इस मामले में अपनी बहन शाहिन भट्ट का शुक्रिया करना चाहती हूं जिसकी वजह से मैं इस बीमारी को लेकर काफी जागरूक हूं।' उन्होंने कहा कि डिप्रेशन आपको कई वजह से हो सकती है जैसे काम का अधिक प्रेशर, आपकी खराब लाइफस्टाइल।

PunjabKesari

बता दें कि आलिया की बहन शाहीन लंबे समय तक तनाव का शिकार रही थीं। उन्होंने एक बुक 'आई हैव नेवर बीन अन-हैप्पीयर' में अपने इस एक्सपीरियंस के बारे में भी लिखा। यही कारण है कि आलिया को अपनी मानसिक बीमारियों से ज्यादा वक्त तक परेशान नहीं होना पड़ेगा।

क्या है एंग्जाइटी?

एंग्जाइटी एक ऐसी मानसिक है जो भावनाओं से जुड़ी है। इसमें बैचेनी, बेवजह की चिंता, भविष्य का डर होने लगता है। हालांकि सही इलाज ना होने पर यह आपको पागलपन की कगार तक पहुंचा सकता है। वहीं इसका असर रोजमर्रा का लाइफ पर भी पड़ता है। भारत में 15.20 % लोग एंग्जाइटी और 15.17 % लोग डिप्रेशन के शिकार हैं, जिसमें ज्यादातर संख्या महिलाओं की है।

PunjabKesari

एंग्जाइटी के कारण

-फैमिली हिस्ट्री होना
-डिप्रैशन, बाइपोलर डिसऑर्डर, मल्टीपल स्क्लेरोसिस और सीजोफ्रेनिया के कारण।
-प्रेगनेंसी के दौरान भी महिलाएं इस डिसऑर्डर की शिकार हो सकती हैं।
-अधिक दवाइयों का सेवन भी आपको इस बीमारी का शिकार बना सकता है।
-ड्रग्स, शराब, तंबाकू, सिगरेट और निकोटिन का अधिक सेवन करना।

एंग्जाइटी के लक्षण

. बहुत ज्यादा गुस्सा आना
. बेचैनी महसूस होना
. अचानक खुश या दुखी होना
. छोटी-छोटी बात की चिंता करना
. जल्दी थक जाना
. स्वभाव में चिड़चिड़ापन
. नींद ना आना
. एकाग्रता की कमी

PunjabKesari

चलिए अब हम आपको कुछ टिप्स देते हैं, जिससे आपको इस बीमारी से लड़ने में काफी मदद मिलेगी।

1. आप चाहे तो साइकोथेरेपी की मदद ले सकते है। इसमें मन पर कंट्रोल करना सिखाया जाता है।

2. भरपूर नींद लें क्योंकि आधी-अधूरी नींद भी इस बीमारी का कारण बन सकता है।

3. डाइट में ताजे फल, सब्जियां, साबुत अनाज और वसा युक्त चीजें लें। अपना भोजन नियमित समय पर और पूरा खाएं। अनहैल्दी और जंक फूड्स खाने से बचे।

4. गाने सुनने से ब्‍लड़ प्रेशर कम, हार्ट रेट नॉर्मल, स्ट्रेस और तनाव दूर हो जाता है। ऐसे में अपने पसंदीदा गानें सुनें।

5. रोजाना 30 मिनट व्यायाम व योग जरूर करें। साथ ही सुबह-शाम ताजी हवा में सैर करें।

PunjabKesari

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News