15 NOVFRIDAY2019 12:12:46 AM
Nari

जिस गड्ढे में पिता दफना रहा था अपनी बेटी, उसी में दफन थी एक नन्ही परी

  • Edited By khushboo aggarwal,
  • Updated: 14 Oct, 2019 05:31 PM
जिस गड्ढे में पिता दफना रहा था अपनी बेटी, उसी में दफन थी एक नन्ही परी

पहले के समय में जहां बेटियों को अभिशाप समझा जाता था वहीं समय के साथ लोगों की सोच में काफी बदलाव देखने  को मिला है। मगर आज भी कई लोग ऐसे जो आज भी बेटियों को श्राप समझ जन्म लेने से पहले ही मार देते हैं। कुछ लोग तो हैवानियत की सारी हदें पार कर कुछ ऐसा कर देते हैं, जिसपर यकीन करना भी मुश्किल हो जाए। हाल ही में बेरेली में कुछ ऐसा ही देखने को मिला, जहां जिंदा नवजात बच्ची मिट्टी में दफन पाई गई।

PunjabKesari,Nari

 

उत्तरप्रदेश के बरेली में एक महिला ने कुछ समय पहले एक प्री-मिच्योर बच्ची को जन्म दिया जिसने कुछ समय बाद ही अपना दम तोड़ दिया। मृत बेटी के दुख में दुखी पिता हितेश कुमार जब बच्ची को दफनाने के लिए शमशानघाट में पहुंचा तो उसे वहीं धरती में दफनाई हुई दूसरी बेटी मिल गई। पिता ने बेटी दफनाने के लिए जैसे ही मिट्टी का गड्ढा खोदा तो वहां पर फावड़ा लगने से एक मटकी फूट गई जिसमें पड़ी दूसरी नवजात बच्ची के रोने की आवाज सुनाई दी। 

 

बच्ची की आवाज सुन कर सारा परिवार बेहद डर गया व हैरान हो गया। तब उन्होंने श्मशान के चौकीदार के पास जाकर बात बताई व उन्होंने हिम्मत कर उस बच्ची को वहां से बाहर निकाला। तब परिवार के कुछ लोग बच्ची को अस्पताल ले गए व कुछ नेे मृतक बच्ची को गड्ढे में दफना दिया।

स्थानीय लोगों ने बच्ची को दिया सीता नाम 

परिवार के सदस्यों ने बच्ची जिला अस्पताल के शिशु केयर सेंटर में भर्ती करवाने के  साथ पुलिस को इस बारे में जानकारी दी।  बच्ची को जमीन खोदकर बाहर निकाला गया इसलिए स्थानीय लोगों ने उसे सीता नाम दे दिया। बच्ची की हालात इस समय काफी गंभीर है। वजन कम होने के साथ बच्ची के खून में इंफेक्शन भी है। 

 

PunjabKesari,Nari

अभी पुलिस द्वारा बच्चों को जमीन के दफनाने वाले आरोपियों के बारे में पता लगाया जा रहा है ताकि उन्हें ढूंढ कर सजा दी जा सकें। वहीं दूसरी तरफ बिथरी चैनपुर के विधायक राजेश मिश्रा ने इस बच्ची के लालन-पालन का खर्च उठाने की जिम्मेदारी उठाई है व हितेश  कुमार ने उस बच्ची को अपना लिया है। 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News