16 OCTWEDNESDAY2019 10:18:52 PM
Nari

66 दिनों की बच्ची ने मौत को हराकर पाई नई जिदंगी, भावुक मां ने शेयर की फोटो

  • Edited By khushboo aggarwal,
  • Updated: 23 Sep, 2019 01:35 PM
66 दिनों की बच्ची ने मौत को हराकर पाई नई जिदंगी, भावुक मां ने शेयर की फोटो

एक मां के लिए सबसे अच्छा पल होता है जब उसका बच्चा सही सलामत मौत से लड़कर भी उसके पास वापिस आ जाए। चीन की एक मां बेटी की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुई है क्योंकि उस मां की 66 दिन की बच्ची मौत को हरा कर वापिस अपने मां के पास आ गई है। 66 दिन की रुईरुई का हार्ट ट्रांसप्लांट ऑप्रेशन किया गया जो कि पूरी तरह से सफल हुआ है। इसके बाद मां व बेटी की रोती हुई की एक फोटो वायरल हुई हैं। 

तीन महीने के लिए रखा जाएगा आईसीयू 

चीन के वुहान शहर के यूनियन अस्पताल में 66 दिन व 3 किलो की रुईरुई का हार्ट ट्रांसप्लांट किया गया हैं। यह एशिया का पहला केस जिसमें इतनी छोटी बच्ची का दिल बदला गया हैं। डॉक्टर डोंग नियांगुओ ने बताया कि बच्ची को 4 चार के बच्चे टोंगटोंग का हार्ट ट्रांसप्लांट किया गया हैं। ट्रांस्प्लांट के प्रोसेस के दौरान काफी सारी समस्याएं सामने आई हैं। ऑप्रेशन के बाद बच्ची पूरी संक्रमण मुक्त है लेकिन अभी 3 महीने तक उसकी देखभाल के लिए उसे आईसीयू में रखा जाएगा।

PunjabKesari,Nari

इससे पहले 2014 में 113 दिन के बच्चे का हार्ट ट्रांसप्लांट किया गया था। जिसका वजन 4.25 किलो था। इस ऑपरेशन में बच्चे के माता पिता की कई घंटो तक काउंसलिंग की गई थी उसके बाद ही वह इस बात के लिए राजी हुई थे। 

मुश्किल से मिलते है अंगदाता

भारत ही नही दुनिया के  ऐसे कई हिस्से है जहां पर लोगों को अंगदाता ढूंढने में काफी दिक्कत होती है। रुई रुई को गुआंगडोंग प्रांत के ग्वांघजू के रहने वाले टोंगटोंग का दिला ट्रांसप्लांट किया गया हैं। इसकी मृत्यु एक इमारत से गिरने के कारण हुई थी। इसके बाद लड़के के माता- पिता को इस बारे में जागरुक करवा कर अंगदान करने के लिए राजी किया गया हैं। 

अंगदान करने से दूसरे लोगों को एख नई जिदंगी मिलती है। अंगदान करने में कोई भी बुरी बात नही है बल्कि समाज कल्याण के लिए उठाया गया यह एक अच्छा कदम हैं। 

 

 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News