Twitter
You are hereNari

18 साल का होने से पहले ही अपने बेटे को सिखाएं ये 6 बातें

18 साल का होने से पहले ही अपने बेटे को सिखाएं ये 6 बातें
Views:- Thursday, November 15, 2018-2:26 PM

जैसे-जैसे बच्चे बड़े होते है वैसे ही उनकी परवरिश का दायित्व उनके माता-पिता पर बढ़ता जाता है। मां का लगाव अपने बेटे और पिता का लगाव अपनी बेटी के साथ ज्यादा होता हैं। वैसे तो बेटियों को बढ़ाने के दौरान कई प्रकार की हिदायतें और निर्देश दिए जाते हैं जबकि बेटों को भी ऐसी शिक्षा देनी बहुत जरूरी है। इससे न केवल उसका विकास अच्छी तरह होगा बल्कि बड़ा होकर जिम्मेदार व आदर्श व्यक्ति भी बनेंगा। 

 

1. किचन सिर्फ लड़कियों के लिए नहीं
अनेक मांएं अपने बेटों को किचन का कोई काम नहीं करने देतीं क्योंकि उनका भी यही मनाना है कि किचन में काम करना लड़कियों का काम है। अपने बेटे को बताएं कि आज के दौर में किचन का काम सिर्फ लड़कियां नहीं बल्कि लड़कों को भी आना चाहिए। पढ़ाई व जॉब के दौरान उन्हें अकेले रहना पड़ सकता है जिस वजह से वह खुद खाना बनाकर तो खा सकेंगा। 

 

2. बेसिक कुकिंग 
12 वर्ष की आयु के बाद बच्चा परिपक्व होने लगता है। उसे आप इस अवस्था में बेसिक कुकिंग जैसे चाय व सैंडविच बनाना आदि सिखा सकती हैं। 

 

3. शारीरिक हिंसा से दूरी 
बेटे को शारीरिक हिंसा से हमेशा दूर रहने को कहें। इससे जहां वह बाहर लड़ाई-झगड़े से दूर रहेगा, वहीं घर के सदस्यों से भी हाथापाई नहीं करेगा। 

 

4. महिलाओं का सम्मान
हर महिला को अपने बेटे को महिलाओं को सम्मान करने की शिक्षा देनी चाहिए। इस प्रकार बचपन से मिली शिक्षा के कारण वह हर रिश्ते व बाहर की महिलाओं का भी सम्मान करेगा। उनके आदर के लिए सूचक शब्दों का इस्तेमाल करेगा। 

 

5. भावनात्मकता का पाठ बढ़ाएं
कई महिलाएं अपने बेटे को रोते समय कहती हैं कि तुम लड़की हो क्या, ऐसा न कहें। भावनात्मक होना कोई शर्मनाक बात नहीं है। ऐसा करने से आप उस बच्चे के साथ अन्याय कर रही हैं। 

 

6. दया भाव भी सिखाएं
बेटे को बताएं कि उसे मन में सभी के प्रति दया भाव रखना चाहिए। क्रूर बनना बेहद शर्मनाक बात है। उसे जीवों से प्रेम करना और सभी को प्यार करना सिखाएं। 
 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
Edited by: