Twitter
You are hereNari

रोजाना करें ये 5 आसन, बीमारियां रहेंगी कोसो दूर

रोजाना करें ये 5 आसन, बीमारियां रहेंगी कोसो दूर
Views:- Saturday, December 8, 2018-5:32 PM

शरीर को स्वस्थ और निरोग रखने का सबसे अच्छा माध्यम है योगासन। योग ना सिर्फ आपकी शारीरिक प्रॉब्लम्स को दूर रखता है बल्कि इससे आप मानसिक समस्याओं से भी बचे रहते हैं। स्वस्थ रहने के लिए भले ही आप एक्सरसाइज या वर्कआउट ना कर पाएं लेकिन सिर्फ 30 मिनट योगा करने से ही आप निरोग व हैल्दी लाइफ जी सकते हैं। साथ ही योग करने के लिए आप ना तो ज्यादा साधनों की जरूरत पड़ती है और ना ही इससे पैसे खर्च होते हैं। आज हम आपको ऐसे ही 5 आसन बताएंगे, जो आपको स्वस्थ व निरोग रखने में मदद करेंगे।

शीर्षासन करने का तरीका

इस आसन को करने के लिए सबसे पहले आप मैट के आगे बैठ जाए। अब आप अपने उंगुलियों को इन्टर्लाक करके सिर को उस पर रखें। फिर पैरों को धीरे-धीरे ऊपर करके उंगुलियों को इन्टर्लाक करें और शरीर का पूरा भार सिर पर डालें। 2-3 मिनट तक इस स्थिति में कुछ देर रहने के बाद सामान्य हो जाएं। आप इस आसन को दीवार से साथ लगकर भी कर सकते हैं।

PunjabKesari

शीर्षासन योग के फायदे

-मोटापा घटाने के लिए फायदेमंद
-स्मरण शक्ति बढ़ाने में कारगार
-पेट से जुड़ी समस्याएं होती हैं दूर
-झड़ते बातों की समस्या से निजात
-रोग प्रतिरोधक क्षमता को करे मजबूत
-दिल की बीमारियां रहती है दूर
-त्वचा में आता है निखार

चक्रासन करने का तरीका

सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं। फिर घुटनों को मोड़कर अपनी एड़ियों को हिप्स से स्पर्श करवाए। हिप्स से स्पर्श करते हुए अपने पैरों को 10-12 इंच की दूरी पर रखें। अब बाजू उठाएं और कोहनियों को मोड़ लें। अपनी हथेलियों को कंधों के ऊपर सिर के नजदीक जमीन पर रख लें। फिर सांस ले और धीरे-धीरे धड़ को उठाते हुए अपनी पीठ को मोड़ लें। अब अपनी गर्दन को हल्का छोड़ते हुए बाजूओं और पैरों को सीधा तान लें। अब धीरे-धीरे सांस लें और छोड़ें। जब तक संभव हो तब तक इसी मुद्रा में रहे। इसके बाद धीरे-धीरे शरीर को नीचे करते हुए पहली वाली स्थिति में आ जाए। अपना सिर जमीन पर टिका लें। थोड़ी देर के लिए शरीर को नीचे लाकर रेस्ट दें। इसी तरह दिन में 4-5 चक्र करें।

PunjabKesari

चक्रासन के फायदे

-पीठ की मांसपेशियों को मजबूत बनाने और पीठदर्द से छुटकारा दिलाने में मददगार।
-हृदय प्रणाली को सुचारू रूप से चलाने में भी फायदेमंद है चक्रासन।
-शरीर को सही आकार देकर सर्वाइकल की समस्या में देता है राहत।
-इससे त्वचा बढ़ती उम्र में भी जवां नजर आता है और आंखें स्वस्थ रहती हैं।
-शरीर में स्फूर्ति बनाए रखने के साथ पाचनशक्ति होती है बेहतर।

हलासन करने का तरीका

इसे करने के लिए समतल जमीन पर कमर के बल सीधा लेट जाएं। अब दोनों हाथों को जांघों के पास जमीन पर रख दें। फिर सांस लेते हुए धीरे-धीरे दोनों पैरों को सीधा उठाएं। अब हाथों को नीचे की ओर दबाएं और कमर को मोड़ते हुए पैरों को सिर के पीछे हल की तरह लगा दें। फिर बिना सिर उठाए 2-3 मिनट बाद धीरे-धीरे वापस सामान्य स्थित में आ जाएं।

PunjabKesari

हलासन करने के फायदे

-इस आसन से रीढ़ की हड्डियां मजबूत व लचीली बनी रहती है।
-रोजाना यह आसन करने से पेट व कमर की चर्बी कम होती और शरीर सुडौल दिखता है।
-श्वसन संबंधी रोग में भी इस आसन से काफी लाभ मिलता है।
-स्किन हेल्दी व ग्लोइंग और बाल लंबे होते हैं।
-थायराइड में फायदा मिलता है।
-डायबिटीज से बचाव होता है।

भुजंगासन करने का तरीका

इस आसन को करने के लिए जमीन पर मैट बिछाकर बैठ जाएं। इसके बाद अपनी हथेली को कंधे के समानातंर लाएं। दोनों पैरों के बीच की दुरी को कम करके पैरों को सीधा एवं तना हुआ रखें। अब सांस लेते हुए शरीर के अगले भाग को नाभि तक उठाएं। मगर इस बात का ध्यान रहे कि जब शरीर को ऊपर उठा रहे हो तो कमर में ज्यादा खिचांव ना आएं। अब इस स्थिति में धीरे-धीरे सांस लें और छोड़ें। कुछ समय के लिए एेसे करने के बाद गहरी सांस छोड़ते हुए सामान्य स्थिति में आए। शुरूआत में इस आसन को 3-4 बार करें।

PunjabKesari

भुजंगासन के फायदे

-भुजंगासन करने से पैंक्रियाज सक्रिय हो जाता है, जिससे शरीर में सही मात्रा में इंसुलिन बनता है। इससे आप डायबिटीज जैसी बीमारी से बचे रहते हैं।
-शरीर में लचीलापन लाने के लिए और मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए नियमित रूप से भुजंगासन करना शुरू करें
-अस्थमा रोगियों के लिए यह आसन बहुत फायदेमंद है। इसे करने से फेफड़ों में खिचांव आता है और फेफड़ों में ऑक्सीजन की प्रवाह बढ़ता है।
-इससे थाइरॉइड एवं पैराथाइरॉइड ग्रंथियां सक्रिय हो जाती है। इससे आपको थायराइड दर्द से आराम मिलता है।
-भुजंगासन करने से स्लिप डिस्क, घुटनों और कमर दर्द जैसी समस्याओं से राहत मिलती है।
-कब्ज, अपच, गैस, एसिडिटी आदि से दूर रहने के लिए भुजंगासन करें।
-रोजाना इस आसन को करने से आपका पाचन क्रिया को दुरूस्त रहती है।
-इससे आपकी तनाव, चिंता, डिप्रैशन जैसी प्रॉब्लम दूर हो जाती है।
-इस आसन को करते समय पेट के हिस्से में ज्यादा खिंचाव पड़ता है, जिससे एक्स्ट्रा चर्बी बर्न होती है।

सर्वांगासन करने का तरीका

इस आसन को करने के लिए पीठ के बल एकदम सीधे लेट जाएं इसके बाद सांस खींचकर पहले धीरे-धीरे पैरों को ऊपर उठाएं। फिर कमर और चेस्ट तक के भाग को ऊपर उठाएं। दोनों हाथों को कोहनी से मोड़कर कमर पर लगाकर कमर को थामकर रखें। इस स्थिति में पूरे शरीर का भार कंधों पर रहना चाहिए। साथ ही कंधे से कोहनी तक के भाग को फर्श से सटाकर रखें तथा ठोड़ी को चेस्ट से लगाने की कोशिश करें। इस स्थिति में 30 सेकेंड तक रहें और सांस लेते और छोड़ते हुए सामान्य स्थिति में आ जाए।

PunjabKesari

सर्वांगासन के फायदे

-इस आसन को करने से तनाव, डिप्रेशन और थकावट जैसी प्रॉब्लम्स दूर हो जाती है।
-यह आसन भूख बढ़ाने में भी मददगार है।
-इससे सिरदर्द व आंखों के दर्द में भी राहत मिलती है।
-पेट से जुड़ी सारी समस्याएं हो जाती है खत्म
-सर्वांगासन चेहरे की सुंदरता बढ़ाता है।
-याददाश्त तेज करने में कारगार।
-पाचन तंत्र को सक्रिय व दरुस्त रखता है।
-इससे थायराइड कर समस्या से भी निजात मिलती है।


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP
Edited by: