Twitter
You are hereNari

आपको भी है बैठे-बैठे पैर हिलाने की आदत तो कारण जानकर तुरंत लें एक्शन!

आपको भी है बैठे-बैठे पैर हिलाने की आदत तो कारण जानकर तुरंत लें एक्शन!
Views:- Wednesday, June 13, 2018-9:33 AM

आपने अक्सर अपने फैमिली मेंबर्स या किसी जान-पछान वाले को बैठे या सोते समय पैर हिलाते देखा होगा और घर के बड़े-बुजुर्ग उसे पैर न हिलाने की हिदायत भी देते होंगे। हम लोग अक्सर इसको अादत समझकर नजरअंदाज कर देते हैं।  हो सकता है कि यह आदत आपको भी हो। पैर हिलाने की आदत अचानक नहीं पड़ती लगातार किसी चीज को दोहराने और उसका इस्तेमाल करने से यह अपनी दिनचर्या में बन जाती है, जो धीरे-धीरे हमारी आदत बन जाती हैं। दरअसल, आपकी यही आदत रेस्टलेस सिंड्रोम का लक्षण भी हो सकता है। आखिर रेस्टलेस लेग सिंड्रोम(RLS) है क्या? तो आज हम आपको इसी सिंड्रोम के बारे में बताते हैं। 

 

क्या हैं रेस्टलेस लेग सिंड्रोम? 
दरअसल, यह एक नर्वस सिस्टम रोग है। पैर हिलाने पर शरीर में डोपामाइन हॉर्मोन का स्त्राव होने लगता है जिसके कारण व्यक्ति का मन बार-बार पैर हिलाने को करता है। इसे एक तरह का स्लीप डिसऑर्डर भी कहा जाता है। अक्सर नींद न पूरी होने की वजह से व्यक्ति थका हुआ महसूस करता हैं। 

 

क्या है इस बीमारी के कारण?
इसका मुख्य कारण शरीर में आयरन की कमी होता है। यह समस्या किसी भी उम्र के व्यक्ति और बच्चे में हो सकती हैं लेकिन इसका ज्यादा असर 35 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्तियों में देखा जाता हैं। इसके अलावा गर्भवती महिलाओं में डिलीवरी के अंतिम दिनों में हॉर्मोन में बदलाव आने के कारण यह समस्या हो सकती है। अधिक शराब का सेवन, जुखाम और एलर्जी की दवाओं को खाने से भी इस सिंड्रोम के चांसेज बढ़ जाते हैं। 

 

इस आदत या बीमारी से छुटकारा पाने के लिए आपका लाइफस्टाइल अच्छा होना चाहिए और इसके अलावा कुछ बातों पर भी ध्यान रखना चाहिए। 

1. लाइफस्टाइल में सुधार करें
एल्कोहल, कैफीन, तम्बाकू आदि के सेवन से बचने की कोशिश करें। रोजाना पर्याप्त नींद ले और टाइम पर ही सोएं। इसके अलावा ध्यान रखें कि सोने से पहले खुली हवा में सैर जरूर करें।बिस्तर पर जाने से पहले कोई कठिन एक्सरसाइज न करें। सैर और स्ट्रेचिंग या रिलैक्सेशन एक्सरसाइज करें। 

 

2.घरेलू नुस्खे अजमाएं
जायफलमें एक अद्भुत सुगंध और गुण होते हैं जो नर्व्स सिस्टम को रिलैक्स करते हैं। रात को बिस्तर पर जाने से पहले गर्म गाय के दूध में 1/8 चम्मच जायफल डालकर पीएं। इससे नींद अच्छी आती है। इसके अलावा सोने से पहले लैवेंडर एसेंशियल ऑयल, रोमन कैमोमाइल ऑयल को अंगूर के तेल या बादाम के तेल मे मिलाकर अपनी टांगो पर मालिश करें।  

 

3. नियमित योगा करें
योग के जरिए आप रेस्टलेस लेग को आराम दे सकते है। एक अध्ययन में बताया गया कि सप्ताह में दो बार 90 मिनट योग किया जाए तो इससे नींद अच्छी आती है और मूड भी सही रहता है। इसलिए आप भी रेस्टलेस लेग सिंड्रोम जैसी प्रॉबल्म से बचे रहना चाहते है तो डॉग पोज, वृक्ष मुद्रा, ट्री पोज अन्य आदि योगासन करें। 

 

4. नियमित मालिश करें
नियमित मालिश करके भी रेस्टलेस लेग सिंड्रोम से राहत मिलती है। शोध में बताया गया कि हफ्ते में दो बारा 45 मिनट टांगों की मसाज करने से नींद अच्छी आती है और 
टांगे स्वस्थ रहती हैं।