21 OCTMONDAY2019 6:36:38 AM
Nari

UTI में महिलाएं भूलकर भी न करें ये गलतियां, सेहत पर पड़ेगी भारी

  • Updated: 14 Apr, 2018 11:28 AM
UTI में महिलाएं भूलकर भी न करें ये गलतियां, सेहत पर पड़ेगी भारी

यूटीआई (यूरिनरी ट्रैक्ट इंफैक्शन) महिलाओं में आम दिखने वाली प्रॉबल्म है। कुछ लड़कियों में यह समस्या 20 से 40 की उम्र के बीच अधिक होती है। प्राइवेट पार्ट की सफाई न करने से कम उम्र की महिलाओं को भी यह परेशानी जल्दी-जल्दी होती रहती है। यूरिनरी ट्रैक्ट इंफैक्शन (यूटीआई) मूत्र मार्ग में होने वाले संक्रमण है। अगर यूरिनरी सिस्टम के अंग जैसे किडनी, यूरिनरी ब्लैडर अन्य कोई अंग संक्रमित होने पर यूटीआई संक्रमण हो सकता है। यूटीआई की समस्या बैक्टीरिया के कारण होती है, यह बैक्टीरिया मूत्रमार्ग से होते हुए ब्लैडर तक पहुंच कर संक्रमण फैलाते है, जिस वजह से कई बार ब्लैंडर में सूजन भी हो जाती है। सही समय पर इलाज न करवाने से यह ब्लैडर और किडनी को भी नुकसान पहुंचा सकता है। वहीं कुछ महिलाएं अपने लाइफस्टाइल में ऐसी गलतियां कर देती है, जिससे यूटीआई इंफैक्शन के दौरान काफी प्रॉबल्म हो सकती है।

 


1. तरल पदार्थ का सेवन न करना

PunjabKesari
यूटीआई की समस्या में अक्सर महिलाएं तरफ पदार्थों का सेवन कम कर देती है, जिससे पेशाब भी कम आता है। यह बिल्कुल गलत है क्योंकि यूटीआई इंफैक्शन में आप जितना अधिक पानी पीएंगे, उतना ही आपकी सेहत के लिए अच्छा होगा। 


2. कॉफी और शराब का सेवन
यूटीआई इंफैक्शन की समस्या में महिलाओं को कॉफी और मद्य पदार्थों से दूर रहना चाहिए।  इसके अलावा कोल्ड ड्रिंक आदि से भी दूरी बना लेनी चाहिए क्योंकि इससे संक्रमण फैलने की आंशका बढ़ जाती है, जो सेहत के लिए बिल्कुल ठीक नहीं है।  


3. एंटीबायोटिक्स बंद करना
इस समस्या में महिलाएं अक्सर अपनी एंटीबायोटिक्स लेना बंद कर देती है क्योंकि उनका मानना है कि इसके सेवन से समस्या बड़ी बन सकती है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कोई एंटीबायोटिक लेने से पहले या बंद करने से पहले किस अच्छे डॉक्टर्स की सलाह जरूर लें। 


4.नियमित शारीरिक संबंध बनाना

PunjabKesari
यूटीआई होने पर शारीरिक संबंध बनाने पर रोक लगा दें क्योंकि ऐसी स्थिति में नियमित संबंध बनाने से इंफैक्शन फैल जाती है। वहीं संबंध बनाते समय काफी प्रॉबल्म भी हो सकती है। 


5. बार-बार पेशाब रोकना

PunjabKesari
यूटीआई की समस्या होने पर अक्सर महिलाएं पेशाब जाने से बचती है। अपना पेशाब रोकने की कोशिश करती है लेकिन यूटीआई के मरीजों के लिए यह सही नहीं है। जितनी बार पेशाब आता है, उतनी बार जाए क्योंकि यूरिन के जरिए कुछ बैक्टीरिया भी बाहर निकल जाते है। 
 

Related News